Asianet News Hindi

कोरोना के आंकड़े छिपा रहा पाकिस्तान, अकेले लाहौर में भारत से 3 गुना केस; अस्पतालों में नहीं बचे बेड

First Published Jun 8, 2020, 8:03 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

इस्लामाबाद. पाकिस्तान में कोरोना वायरस से हालात मुश्किल होते जा रहे हैं। यहां 1 लाख से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं। पाकिस्तान में स्वास्थ्य विभाग ने अपने हाथ खड़े कर दिए हैं। विभाग ने सोमवार को बताया कि अस्पताल में मरीजों के इलाज के लिए बेड तक नहीं हैं। इतना ही नहीं डॉक्टरों के पास सामान्य उपकरण ना होने के चलते वे संक्रमित हो रहे हैं। इन सबके बावजूद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का ध्यान इन सबकी ओर नहीं जा रहा है। वहीं, पाकिस्तानी सेना भी इन सबके बजाय भारत में आतंकवाद फैलाने की कोशिश में लगातार लगी हुई है।

पाकिस्तान और अफगानिस्तान में अन्य देशों की तुलना में काफी कम केस सामने आए हैं। हालांकि, एक्सपर्ट का मानना है कि कम टेस्टिंग होने की वजह से ग्रामीण इलाकों में संक्रमण के सही आंकड़े नहीं मिल पा रहे हैं।

पाकिस्तान और अफगानिस्तान में अन्य देशों की तुलना में काफी कम केस सामने आए हैं। हालांकि, एक्सपर्ट का मानना है कि कम टेस्टिंग होने की वजह से ग्रामीण इलाकों में संक्रमण के सही आंकड़े नहीं मिल पा रहे हैं।

तेजी से बढ़ रहे मामले
21 करोड़ की आबादी वाले पाकिस्तान में पिछले हफ्ते तेजी से कोरोना के मामले बढ़े हैं। सोमवार तक देश में कोरोना के मामले 1 लाख के पार पहुंच गए हैं। जबकि अब तक 2 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। 

तेजी से बढ़ रहे मामले
21 करोड़ की आबादी वाले पाकिस्तान में पिछले हफ्ते तेजी से कोरोना के मामले बढ़े हैं। सोमवार तक देश में कोरोना के मामले 1 लाख के पार पहुंच गए हैं। जबकि अब तक 2 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। 

अकेले लाहौर में 7 लाख केस, सरकारी दस्तावेजों से खुलासा
पिछले हफ्ते सरकार के कुछ दस्तावेज लीक हुए थे। इसके मुताबिक, अकेले लाहौर में कोरोना के 7 लाख केस मिले थे। शहर के तमाम बड़े अस्पतालों के डॉक्टरों ने एएफपी से बातचीत में कहा, अस्पतालों में बेड नहीं बचे हैं, वेंटिलेटर और अन्य उपकरणों की भी काफी कमी है। 

अकेले लाहौर में 7 लाख केस, सरकारी दस्तावेजों से खुलासा
पिछले हफ्ते सरकार के कुछ दस्तावेज लीक हुए थे। इसके मुताबिक, अकेले लाहौर में कोरोना के 7 लाख केस मिले थे। शहर के तमाम बड़े अस्पतालों के डॉक्टरों ने एएफपी से बातचीत में कहा, अस्पतालों में बेड नहीं बचे हैं, वेंटिलेटर और अन्य उपकरणों की भी काफी कमी है। 

लाहौर के सर्विस हॉस्पिटल के डॉक्टर फारूख साहिल ने बताया, केस लगातार बढ़ रहे हैं। हेल्थ वर्कर भी वायरस की चपेट में आ रहे हैं। पंजाब प्रांत में यंग डॉक्टर असोसिएशन के चेयरमैन खैजर हयात ने बताया कि पूरे प्रांत में प्रशासन को मदद की जरूरत है। 

लाहौर के सर्विस हॉस्पिटल के डॉक्टर फारूख साहिल ने बताया, केस लगातार बढ़ रहे हैं। हेल्थ वर्कर भी वायरस की चपेट में आ रहे हैं। पंजाब प्रांत में यंग डॉक्टर असोसिएशन के चेयरमैन खैजर हयात ने बताया कि पूरे प्रांत में प्रशासन को मदद की जरूरत है। 

उन्होंने कहा, अस्पतालों में बेड नहीं बचे हैं। वेंटिलेटर भी पर्याप्त संख्या में नहीं हैं। उधर, कराची में भी यही हाल है। यहां के बड़े अस्पताल इंडस हॉस्पिटल में एंट्री पर बोर्ड लगा दिया गया है कि कोरोना मरीजों के लिए कोई कमरा नहीं बचा है।

उन्होंने कहा, अस्पतालों में बेड नहीं बचे हैं। वेंटिलेटर भी पर्याप्त संख्या में नहीं हैं। उधर, कराची में भी यही हाल है। यहां के बड़े अस्पताल इंडस हॉस्पिटल में एंट्री पर बोर्ड लगा दिया गया है कि कोरोना मरीजों के लिए कोई कमरा नहीं बचा है।

पाकिस्तान में कोरोना टास्क फोर्स के डेड असद उमर ने कहा, अस्पतालों को राहत के लिए पैकेज फाइनल हो चुका है। इस पैकेज में बड़े शहरों में 1000 बेड की व्यवस्था को भी शामिल किया गया है। 

पाकिस्तान में कोरोना टास्क फोर्स के डेड असद उमर ने कहा, अस्पतालों को राहत के लिए पैकेज फाइनल हो चुका है। इस पैकेज में बड़े शहरों में 1000 बेड की व्यवस्था को भी शामिल किया गया है। 

पाकिस्तान में आर्थिक संकट को देखते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान ने लॉकडाउन हटा दिया था। इसके बाद से यहां तेजी से केस बढ़ रहे हैं। 

पाकिस्तान में आर्थिक संकट को देखते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान ने लॉकडाउन हटा दिया था। इसके बाद से यहां तेजी से केस बढ़ रहे हैं। 

इतना ही नहीं सिंध और बलूचिस्तान में भी कोरोना वायरस से हाहाकार मचा है। इन जगहों पर स्थिति दिन प्रति दिन और बदतर होती चली जा रही है। 

इतना ही नहीं सिंध और बलूचिस्तान में भी कोरोना वायरस से हाहाकार मचा है। इन जगहों पर स्थिति दिन प्रति दिन और बदतर होती चली जा रही है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios