Asianet News Hindi

कोरोना के आगे हारा अमेरिका, अज्ञात दुश्मन से लड़ रहे डॉक्टर,आंखों के सामने लोग तोड़ रहे दम, हुईं 46 सौ मौतें

First Published Apr 2, 2020, 11:42 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

न्यूयॉर्क. कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग में देश और दुनिया भर के डॉक्टर और नर्से फ्रंट लाइन पर लड़ रहे हैं। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की देखभाल करने वाले डॉक्टर और नर्सों को इस बात का भी अंदाजा है कि जरा सी लापरवाही उनकी जान पर भी भारी पड़ सकती है। कोरोना का सबसे ज्यादा कहर अमेरिका में देखने को मिल रहा है। जहां कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या 2 लाख के पार पहुंत गई है। कोरोना के संक्रमण से न्यूयॉर्क बुरी तरह से जूझ रहा है। अमेरिका में एक दिन में 884 लोगों की जान गई है। यहां अब तक 4600 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। 

देश में न्यूयॉर्क सबसे ज्यादा प्रभावित है। यहां संक्रमितों की संख्या 83 हजार 712 हो गई है और लगभग 1941 लोगों की मौत हो गई है।

देश में न्यूयॉर्क सबसे ज्यादा प्रभावित है। यहां संक्रमितों की संख्या 83 हजार 712 हो गई है और लगभग 1941 लोगों की मौत हो गई है।

दुनिया जहां कोरोना वायरस से जूझ रही है। वहीं, डॉक्टर और नर्स भी तमाम समस्याओं से दो-दो हाथ कर रहे हैं। डॉक्टर और नर्सों का कहना है कि 'हम एक अज्ञात, अदृश्य और अप्रत्याशित दुश्मन से लड़ रहे हैं।

दुनिया जहां कोरोना वायरस से जूझ रही है। वहीं, डॉक्टर और नर्स भी तमाम समस्याओं से दो-दो हाथ कर रहे हैं। डॉक्टर और नर्सों का कहना है कि 'हम एक अज्ञात, अदृश्य और अप्रत्याशित दुश्मन से लड़ रहे हैं।

डॉक्टरों का कहना है कि वह वर्षों से काम कर रहे हैं लेकिन ऐसा डर का माहौल कभी नहीं देखा। इस वायरस ने शारीरिक और भावनात्मक दोनों तरीकों से हम लोगों को तोड़ दिया है।'

डॉक्टरों का कहना है कि वह वर्षों से काम कर रहे हैं लेकिन ऐसा डर का माहौल कभी नहीं देखा। इस वायरस ने शारीरिक और भावनात्मक दोनों तरीकों से हम लोगों को तोड़ दिया है।'

डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आए लोग एक-एक कर दम तोड़ रहे हैं। मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण अस्पतालों का बोझ बढ़ गया है। न्यूयॉर्क में कई लोगों को वेंटीलेटर की जरूरत है, पर उन्हें मिल नहीं पा रहा है।

डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आए लोग एक-एक कर दम तोड़ रहे हैं। मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण अस्पतालों का बोझ बढ़ गया है। न्यूयॉर्क में कई लोगों को वेंटीलेटर की जरूरत है, पर उन्हें मिल नहीं पा रहा है।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ब्रोंक्स के जैकोबी मेडिकल सेंटर की नर्स थॉमस रिले कोविड-19 की चपेट में आ चुकी हैं। उन्होंने कहा,'मुझे लगता है हम सभी को मरने के स्लाटर हाउस भेजा जा रहा है।'

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ब्रोंक्स के जैकोबी मेडिकल सेंटर की नर्स थॉमस रिले कोविड-19 की चपेट में आ चुकी हैं। उन्होंने कहा,'मुझे लगता है हम सभी को मरने के स्लाटर हाउस भेजा जा रहा है।'

इसी सेंटर की नर्स ने मीडिया को बताया,'ऐसा लग रहा है जैसे हम किसी सुसाइड मिशन पर भेजे गए हैं। हमारे साथ काम करने वाली एक नर्स की पिछले हफ्ते ही मौत हो गई है।'

इसी सेंटर की नर्स ने मीडिया को बताया,'ऐसा लग रहा है जैसे हम किसी सुसाइड मिशन पर भेजे गए हैं। हमारे साथ काम करने वाली एक नर्स की पिछले हफ्ते ही मौत हो गई है।'

न्यूयॉर्क सिटी में हर कोई दहशत में है। शहर की गर्भवती महिलाएं दूसरे शहरों की ओर पलायन कर रही है। गर्भवती महिलाओं का कहना है कि अस्पतालों में वेंटीलेटर की कमी है इसके साथ ही संक्रमित मरीजों की भीड़ है। जिसके कारण उन्हें सुरक्षित शहरों की ओर जाना पड़ रहा है।

न्यूयॉर्क सिटी में हर कोई दहशत में है। शहर की गर्भवती महिलाएं दूसरे शहरों की ओर पलायन कर रही है। गर्भवती महिलाओं का कहना है कि अस्पतालों में वेंटीलेटर की कमी है इसके साथ ही संक्रमित मरीजों की भीड़ है। जिसके कारण उन्हें सुरक्षित शहरों की ओर जाना पड़ रहा है।

470 हेल्थ वर्कर पॉजिटिवः न्यूयॉर्क हेल्थ डिपार्टमेंट के प्रवक्ता टेरेंस लिन ने बुधवार रात बताया कि शहर के ‌विभिन्न अस्पतालों में काम कर रहे 470 हेल्थ वर्कर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

470 हेल्थ वर्कर पॉजिटिवः न्यूयॉर्क हेल्थ डिपार्टमेंट के प्रवक्ता टेरेंस लिन ने बुधवार रात बताया कि शहर के ‌विभिन्न अस्पतालों में काम कर रहे 470 हेल्थ वर्कर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

पॉजिटिव पाए गए सभी वर्रर को क्वैरेंटाइन किया गया है। लिन के मुताबिक, न्यूयॉर्क के 85 फीसदी आईसीयू इस वक्त फुल हैं। डिपार्टमेंट में कुल 72 हजार कर्मचारी हैं।

पॉजिटिव पाए गए सभी वर्रर को क्वैरेंटाइन किया गया है। लिन के मुताबिक, न्यूयॉर्क के 85 फीसदी आईसीयू इस वक्त फुल हैं। डिपार्टमेंट में कुल 72 हजार कर्मचारी हैं।

न्यूयॉर्क के बाद न्यू जर्सी कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है और वहीं 22,255 केस सामने आए हैं जिसमें 355 की मौत हो चुकी है। इस बीच कनेक्टिकट के गवर्नर के अनुसार, उनके राज्य में 6 हफ्ते के एक नवजात शिशु की भी कोरोना से मौत हो चुकी है।

न्यूयॉर्क के बाद न्यू जर्सी कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है और वहीं 22,255 केस सामने आए हैं जिसमें 355 की मौत हो चुकी है। इस बीच कनेक्टिकट के गवर्नर के अनुसार, उनके राज्य में 6 हफ्ते के एक नवजात शिशु की भी कोरोना से मौत हो चुकी है।

अमेरिका में संक्रमित मरीजों की संख्या 2 लाख 15 हजार 175 तक पहुंच गई है। जबकि इस संक्रमण के चपेट में 5110 लोगों की जान चली गई है। वहीं, कुछ विशेषज्ञों ने अमेरिका में कोरोना से 2 लाख लोगों के मारे जाने की आशंका जताई है।

अमेरिका में संक्रमित मरीजों की संख्या 2 लाख 15 हजार 175 तक पहुंच गई है। जबकि इस संक्रमण के चपेट में 5110 लोगों की जान चली गई है। वहीं, कुछ विशेषज्ञों ने अमेरिका में कोरोना से 2 लाख लोगों के मारे जाने की आशंका जताई है।

कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए अमेरिका में लॉकडाउन जारी है जिससे सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे। बावजूद इसके कोरोना का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है।

कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए अमेरिका में लॉकडाउन जारी है जिससे सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे। बावजूद इसके कोरोना का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच मास्क की कमी न हो इसको ध्यान में रखते हुए भारी मात्रा में मास्क की तैयारी की जा रही है।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच मास्क की कमी न हो इसको ध्यान में रखते हुए भारी मात्रा में मास्क की तैयारी की जा रही है।

कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों को राहत देने के लिए मेडिकल के स्टॉफ दिन रात काम कर रहे हैं।

कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों को राहत देने के लिए मेडिकल के स्टॉफ दिन रात काम कर रहे हैं।

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जगह-जगह टेस्टिंग सेंटर बनाए गए हैं।

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए जगह-जगह टेस्टिंग सेंटर बनाए गए हैं।

अमेरिका में कोरोना के दबशत से सभी लोग घरों में कैद है। वहीं सरकार ने लॉकडाउन भी लागू कर रखा है। जिसके कारण अमेरिका का यह बीच रेगिस्तान के रूप में बदल गया है।

अमेरिका में कोरोना के दबशत से सभी लोग घरों में कैद है। वहीं सरकार ने लॉकडाउन भी लागू कर रखा है। जिसके कारण अमेरिका का यह बीच रेगिस्तान के रूप में बदल गया है।

अमेरिका में मुख्य शहर वाशिंगटन में पसरा सन्नाटा।

अमेरिका में मुख्य शहर वाशिंगटन में पसरा सन्नाटा।

कोरोना की वजह से लॉ़कडाउन लागू किए जाने के बाद लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं। वहीं, बहुत जरूरी काम से निकल रहे लोगों को आने जाने की इजाजत है। इसके साथ ही अमेरिका में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सेना ने भी मोर्चा संभाला हुआ है।

कोरोना की वजह से लॉ़कडाउन लागू किए जाने के बाद लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं। वहीं, बहुत जरूरी काम से निकल रहे लोगों को आने जाने की इजाजत है। इसके साथ ही अमेरिका में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सेना ने भी मोर्चा संभाला हुआ है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios