Asianet News Hindi

जिंदगी और मौत से जूझ रहे किम? गहराता जा रहा रहस्य; द. कोरिया बोला- तानाशाह स्वस्थ हैं और जिंदा भी

First Published Apr 27, 2020, 12:47 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

सोल. उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन की सेहत को लेकर पिछले कुछ दिनों से लगातार तरह-तरह के दावे किए जा रहे हैं। कोई किम जोंग की हालत गंभीर बता रहा है तो कोई उन्हें स्वस्थ बता रहा है। इस बीच, दक्षिण कोरिया ने अमेरिकी चैनल सीएनएन से कहा है कि उत्तर कोरियाई लीडर किम जोंग उन जिंदा है और पूरी तरह स्वस्थ हैं। दक्षिण कोरिया लगातार किम जोंग से जुड़ी सभी खबरों का लगातार खंड़न कर रहा है। 

किम ने कामगारों को भेजा संदेश 
रविवार को उत्तर कोरिया के सरकारी अखबार रोडोंग सिनमुन में कहा गया है कि किम जोंग उन ने उत्तर कोरिया के सैमजियॉन शहर को फिर से बसाने में मदद करने वाले वर्करों को शुक्रिया कहा है। जब से किम की सेहत को लेकर खबरें चल रही हैं तभी से यह अखबार उनकी ऐक्टिविटी पर स्टोरी कर रहा है।

किम ने कामगारों को भेजा संदेश 
रविवार को उत्तर कोरिया के सरकारी अखबार रोडोंग सिनमुन में कहा गया है कि किम जोंग उन ने उत्तर कोरिया के सैमजियॉन शहर को फिर से बसाने में मदद करने वाले वर्करों को शुक्रिया कहा है। जब से किम की सेहत को लेकर खबरें चल रही हैं तभी से यह अखबार उनकी ऐक्टिविटी पर स्टोरी कर रहा है।

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब किम जोंग की सेहत को लेकर अटकलें लगने पर उत्तर कोरिया की मीडिया ने किम की गतिविधियों को सामने लाने की कोशिश की है। 

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब किम जोंग की सेहत को लेकर अटकलें लगने पर उत्तर कोरिया की मीडिया ने किम की गतिविधियों को सामने लाने की कोशिश की है। 

किम जोंग उन की सेहत को लेकर चर्चा तब से शुरू हो गई थी जब वह अपने दादा के जन्मदिन के समारोह में शामिल नहीं हुए थे। उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया सीएनए के मुताबिक, किम जोंग समारोह से चार दिन पहले पोलितब्यूरो की मीटिंग में आखिरी बार देखे गए थे। 
 

किम जोंग उन की सेहत को लेकर चर्चा तब से शुरू हो गई थी जब वह अपने दादा के जन्मदिन के समारोह में शामिल नहीं हुए थे। उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया सीएनए के मुताबिक, किम जोंग समारोह से चार दिन पहले पोलितब्यूरो की मीटिंग में आखिरी बार देखे गए थे। 
 

सीएनएन ने एक अमेरिकी अधिकारी के हवाले से लिखा था कि किम जोंग की सर्जरी के बाद हालत गंभीर है। एक अन्य अमेरिकी अधिकारी ने सीएनएन को बताया था कि किम की सेहत को लेकर कयास विश्वसनीय हैं लेकिन उनकी बीमारी की गंभीरता के बारे में पता लगाना मुश्किल है। 

सीएनएन ने एक अमेरिकी अधिकारी के हवाले से लिखा था कि किम जोंग की सर्जरी के बाद हालत गंभीर है। एक अन्य अमेरिकी अधिकारी ने सीएनएन को बताया था कि किम की सेहत को लेकर कयास विश्वसनीय हैं लेकिन उनकी बीमारी की गंभीरता के बारे में पता लगाना मुश्किल है। 

दक्षिण कोरिया की प्रमुख वेबसाइट डेली एनके की रिपोर्ट के मुताबिक, किम जोंग उन को 12 अप्रैल को कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम प्रोसीजर दिया गया। न्यूज साइट के मुताबिक, किम को स्मोकिंग, मोटापे और ज्यादा काम करने की वजह से कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम पर रखा गया था। 

दक्षिण कोरिया की प्रमुख वेबसाइट डेली एनके की रिपोर्ट के मुताबिक, किम जोंग उन को 12 अप्रैल को कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम प्रोसीजर दिया गया। न्यूज साइट के मुताबिक, किम को स्मोकिंग, मोटापे और ज्यादा काम करने की वजह से कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम पर रखा गया था। 

अब ह्यांगसान काउंटी की एक विला में उनका इलाज किया जा रहा है। न्यूज वेबसाइट के मुताबिक, किम जोंग उन की तबीयत में सुधार होने के बाद उनकी मेडिकल टीम के ज्यादातर सदस्य 19 अप्रैल को प्योंगयांग लौट गए और कुछ सदस्य उनकी रिकवरी की निगरानी करने के लिए उनके साथ ही हैं। 

अब ह्यांगसान काउंटी की एक विला में उनका इलाज किया जा रहा है। न्यूज वेबसाइट के मुताबिक, किम जोंग उन की तबीयत में सुधार होने के बाद उनकी मेडिकल टीम के ज्यादातर सदस्य 19 अप्रैल को प्योंगयांग लौट गए और कुछ सदस्य उनकी रिकवरी की निगरानी करने के लिए उनके साथ ही हैं। 

रविवार को किम जोंग की विशेष ट्रेन उत्तर कोरिया के एक रिजॉर्ट के बाहर देखे जाने की भी खबर सामने आई है। वॉशिंगटन स्थित नॉर्थ कोरिया मॉनिटरिंग प्रोजेक्ट के तहत, सैटेलाइट तस्वीरों के जरिए किम जोंग की स्पेशल ट्रेन को उत्तर कोरिया के एक रिजॉर्ट के बाहर देखा गया था।

रविवार को किम जोंग की विशेष ट्रेन उत्तर कोरिया के एक रिजॉर्ट के बाहर देखे जाने की भी खबर सामने आई है। वॉशिंगटन स्थित नॉर्थ कोरिया मॉनिटरिंग प्रोजेक्ट के तहत, सैटेलाइट तस्वीरों के जरिए किम जोंग की स्पेशल ट्रेन को उत्तर कोरिया के एक रिजॉर्ट के बाहर देखा गया था।

मॉनिटरिंग प्रोजेक्ट '38 नॉर्थ' ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि 21 और 23 अप्रैल को वोन्सान के लीडरशिप स्टेशन पर किम जोंग की ट्रेन स्पॉट हुई है। 

मॉनिटरिंग प्रोजेक्ट '38 नॉर्थ' ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि 21 और 23 अप्रैल को वोन्सान के लीडरशिप स्टेशन पर किम जोंग की ट्रेन स्पॉट हुई है। 

रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि इन तारीखों पर यह स्टेशन किम जोंग की फैमिली के लिए रिजर्व किया गया था। हालांकि रॉयटर्स ने इसे किम जोंग की ट्रेन होने या न होने को लेकर किसी तरह का दावा नहीं किया है और ना ही किम जोंग के वोन्सान में होने की पुष्टि की है। 

रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि इन तारीखों पर यह स्टेशन किम जोंग की फैमिली के लिए रिजर्व किया गया था। हालांकि रॉयटर्स ने इसे किम जोंग की ट्रेन होने या न होने को लेकर किसी तरह का दावा नहीं किया है और ना ही किम जोंग के वोन्सान में होने की पुष्टि की है। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रेन की मौजूदगी उत्तर कोरिया के शासक की मौजूदगी को साबित नहीं करती है और न ही उनके स्वास्थ्य के बारे में कोई स्पष्ट संकेत देती है। हां लेकिन यह कहा जा सकता है कि इन दिनों किम देश के पूर्वी तट के एक एलीट एरिया में कहीं रह रहे हैं। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रेन की मौजूदगी उत्तर कोरिया के शासक की मौजूदगी को साबित नहीं करती है और न ही उनके स्वास्थ्य के बारे में कोई स्पष्ट संकेत देती है। हां लेकिन यह कहा जा सकता है कि इन दिनों किम देश के पूर्वी तट के एक एलीट एरिया में कहीं रह रहे हैं। 

जिस वोन्सान कॉम्प्लेक्स के आस-पास किम जोंग उन की ट्रेन नजर आई है, उसमें तमाम सुख-सुविधाएं मौजूद हैं। यहां नौ बड़े गेस्ट हाउस, एक रिक्रिएशन सेंटर, एक बंदरगाह, एक शूटिंग रेंज समेत तमाम फैसिलिटी हैं। किम जोंग की फेवरिट हॉबी हॉर्स राइडिंग के लिए 2019 में एक छोटे से रनवे को ट्रैक में तब्दील कर दिया गया है।

जिस वोन्सान कॉम्प्लेक्स के आस-पास किम जोंग उन की ट्रेन नजर आई है, उसमें तमाम सुख-सुविधाएं मौजूद हैं। यहां नौ बड़े गेस्ट हाउस, एक रिक्रिएशन सेंटर, एक बंदरगाह, एक शूटिंग रेंज समेत तमाम फैसिलिटी हैं। किम जोंग की फेवरिट हॉबी हॉर्स राइडिंग के लिए 2019 में एक छोटे से रनवे को ट्रैक में तब्दील कर दिया गया है।

यहां से उड़ी किम को लेकर अफवाह
हॉन्गकॉन्ग सैटलाइट टीवी के वाइस डायरेक्टर शिनजान झिंगजउ ने दावा किया था कि इस बात के ठोस सबूत हैं कि किम की मौत हो चुकी है। किम को 11 अप्रैल के बाद से ही पब्लिक में नहीं देखा गया है। उस दिन उन्होंने सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी कमिटी की बैठक की थी। 

यहां से उड़ी किम को लेकर अफवाह
हॉन्गकॉन्ग सैटलाइट टीवी के वाइस डायरेक्टर शिनजान झिंगजउ ने दावा किया था कि इस बात के ठोस सबूत हैं कि किम की मौत हो चुकी है। किम को 11 अप्रैल के बाद से ही पब्लिक में नहीं देखा गया है। उस दिन उन्होंने सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी कमिटी की बैठक की थी। 

वहीं, दक्षिण कोरियाई अखबार डेली एनके जो कि उत्तर कोरिया मामले को देखता है, उसने कहा था कि किम के हार्ट की सर्जरी की गई है।अखबार ने कहा था कि वह बहुत स्मोक करते हैं और जरूरत से ज्यादा काम करते हैं इसलिए बीमार हो गए थे। उन्हें मोटापे की भी समस्या है। 
 

वहीं, दक्षिण कोरियाई अखबार डेली एनके जो कि उत्तर कोरिया मामले को देखता है, उसने कहा था कि किम के हार्ट की सर्जरी की गई है।अखबार ने कहा था कि वह बहुत स्मोक करते हैं और जरूरत से ज्यादा काम करते हैं इसलिए बीमार हो गए थे। उन्हें मोटापे की भी समस्या है। 
 

चीन में किम की मौत का मैसेज वायरल हुआ था
बीजिंग से संचालित हॉन्गकॉन्ग के एचकेएसटीवी चैनल की रिपोर्ट में कहा गया था कि किम जोंग की मौत हो चुकी है। वहीं, इंटरनेशन बिजनेस टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया कि चीनी मैसेजिंग ऐप वीबो पर किम की मौत की खबर का पोस्ट वायरल हो रहा है। एक अन्य रिपोर्ट में बीजिंग के सूत्रों ने कहा कि किम के हार्ट में स्टेंट डालने का ऑपरेशन गलत हो गया, क्योंकि एक सर्जन के हाथ कांप रहे थे।

चीन में किम की मौत का मैसेज वायरल हुआ था
बीजिंग से संचालित हॉन्गकॉन्ग के एचकेएसटीवी चैनल की रिपोर्ट में कहा गया था कि किम जोंग की मौत हो चुकी है। वहीं, इंटरनेशन बिजनेस टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया कि चीनी मैसेजिंग ऐप वीबो पर किम की मौत की खबर का पोस्ट वायरल हो रहा है। एक अन्य रिपोर्ट में बीजिंग के सूत्रों ने कहा कि किम के हार्ट में स्टेंट डालने का ऑपरेशन गलत हो गया, क्योंकि एक सर्जन के हाथ कांप रहे थे।

चीन ने कोरिया भेजे डॉक्टरइस बात की पुष्टि भले ही नहीं हुई है कि किम जोंग उन जिंदा हैं या नहीं लेकिन उनकी हालत गंभीर है, इसकी ओर इशारा मिलने लगा है। दरअसल, कोरिया के नजदीकी दोस्त चीन ने अपने डॉक्टरों की एक टीम कोरिया भेजी है। चीन के मुताबिक किम जोंग को मेडिकल सलाह देने के लिए यह टीम भेजी गई है।

चीन ने कोरिया भेजे डॉक्टरइस बात की पुष्टि भले ही नहीं हुई है कि किम जोंग उन जिंदा हैं या नहीं लेकिन उनकी हालत गंभीर है, इसकी ओर इशारा मिलने लगा है। दरअसल, कोरिया के नजदीकी दोस्त चीन ने अपने डॉक्टरों की एक टीम कोरिया भेजी है। चीन के मुताबिक किम जोंग को मेडिकल सलाह देने के लिए यह टीम भेजी गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स में अमेरिकी खुफिया सूत्रों के हवाले से लिखा, 'किम जोंग या तो कोमा में हैं या फिर ब्रेन डेड हो गए हैं।' वहीं साउथ कोरिया के खुफिया सूत्रों के हवाले से मीडिया ने लिखा, 'किम जोंग की हार्ट सर्जरी चल रही थी। फिलहाल उनकी गंभीर हालत के बारे में किसी को जानकारी नहीं है।'

मीडिया रिपोर्ट्स में अमेरिकी खुफिया सूत्रों के हवाले से लिखा, 'किम जोंग या तो कोमा में हैं या फिर ब्रेन डेड हो गए हैं।' वहीं साउथ कोरिया के खुफिया सूत्रों के हवाले से मीडिया ने लिखा, 'किम जोंग की हार्ट सर्जरी चल रही थी। फिलहाल उनकी गंभीर हालत के बारे में किसी को जानकारी नहीं है।'

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios