Asianet News Hindi

नवरात्र में व्रत के दौरान हो सकती है एसिडिटी की समस्या, करें ये उपाय

नवरात्र में व्रत के दौरान उपवास करने और उसके बाद ज्यादा गरिष्ठ भोजन करने से अपच और गैस की समस्या हो जाती है। इससे स्वास्थ्य खराब हो जाता है। जानें, कैसे बचें इससे। 

There may be problem of acidity during fasting in Navratri, do these remedies
Author
New Delhi, First Published Oct 4, 2019, 3:52 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हेल्थ डेस्क। नवरात्र में अक्सर लोग व्रत रखते हैं। व्रत में लगातार उपवास करने से कई तरह की समस्याएं पैदा हो जाती हैं। उपवास के दौरान बहुत से लोग फलाहार करते हैं तो कुछ लोग मेवे वगैरह का सेवन करते हैं। कई लोग जूस भी पीते हैं। वहीं, रात में व्रत करने वाले सिंघाड़े के आटे का हलवा, कट्टू के आटे की पूड़ी और साबुदाने की खीर जैसी चीजें भी खाते हैं। ये चीजें काफी गरिष्ठ होती हैं और आसानी से नहीं पचतीं। इससे कब्ज और गैस की समस्या पैदा हो जाती है। कब्ज और गैस की समस्या लंबे समय तक बनी रही तो स्वास्थ्य खराब हो जाता है। अगर व्रत के दौरान गैस बने या कब्ज हो जाए तो इससे बचने के लिए कुछ उपाय जरूरी हैं।

1. चाय और कॉफी कम कर दें
उपवास करने वाले व्यक्ति को चाय और कॉफी कम पीनी चाहिए। वैसे, जिन लोगों को चाय पीने की आदत है, वे अगर चाय एक दम से बंद कर देंगे तो उन्हें दिक्कत होगी। इसलिए चाय-कॉफी पिएं, पर सिर्फ सुबह-शाम। बीच में इसे अवॉइड करें। 

2. नींबू पानी या नारियल पानी पिएं
कब्ज और गैस की समस्या हो जाने पर सादा पानी ज्यादा पिएं। इसके साथ ही नींबू पानी और नारियल पानी भी पिएं। इससे पेट को ठंडक मिलेगी और कब्ज की समस्या खत्म होगी। कब्ज नहीं रहने पर एसिडिटी भी कम होती है। 

3. रात में खाने के साथ दही जरूर लें
अक्सर व्रतधारी रात में कट्टू के आटे की पूड़ी या सिंघाड़े के आटे का हलवा खाते हैं। यह बहुत गरिष्ठ होता है। इसे पचाने के लिए साथ में दही लेना जरूरी है। दही से डाइजेस्टिव सिस्टम ठीक रहता है। दही का पर्याप्त मात्रा में सेवन करें। 

4. बीच-बीच में कुछ खाते रहें
उपवास के दौरान दिन में एकदम खाली पेट नहीं रहें। बीच-बीच में कुछ न कुछ फलाहार लेते रहें। भुने हुए मखाने,.मूंगफली और सूखे मेवे भी ले सकते हैं। पेट खाली रहने पर एसिटिडी ज्यादा होती है। 

5. ईसबगोल की भूसी लें
अगर कब्ज की समस्या ज्यादा हो तो रात में सोने से पहले ईसबगोल की भूसी को एक गिलास पानी में मिश्री या चीनी के साथ मिला कर पी लें। इससे भी पेट को ठंडक मिलती है और कब्ज की समस्या नहीं होती। 
      

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios