Asianet News HindiAsianet News Hindi

महापर्व में छाया मातम: मां के साथ छठ पूजा में गए 4 बच्चों की मौत, किसी को भनक तक नहीं और थम गईं सांसे

यह दर्दनाक हादसा मंगलवार को झारखंड के गिरडीह जिले में हुआ। जहां महिलाएं घर से करीब 200 मीटर दूर नदी किनारे बने छठ के घाट पर छठ पूजा कर रही थीं। तभी बच्चे नदी में नहाते वक्त खेलने लगे। इसी दौरान तीन बच्चियां और एक बच्चे की डूबने से मौत हो गई।

Chhath Puja 2021 Jharkhand accident shocking news women with 4 children died during Chhath festival celebration in Giridih
Author
Giridih, First Published Nov 9, 2021, 5:44 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

गिरिडीह (झारखंड). उत्तर भारत में छठ पूजा (Chhath Puja 2021) का महापर्व मनाया (Chhath festival celebration) जा रहा है। व्रतधारी नदी में आस्था की डुबकी लगा रहे हैं। इन्हीं खुशियों के बीच एक मातम की खबर सामने आई है। जहां झारखंड के गिरिडीह जिले में  छठ घाट पर डूबने से चार बच्‍चों की मौत हो गई। मासूम अपनी-अपनी मां के साथ पूजा करने के लिए गए थे। लेकिन इस हादसे से मातम पसर गया है। इलाके में कोहराम मचा हुआ है।

एक-एक करके पानी में समा गए मासूम
दरअसल, यह दर्दनाक हादसा मंगलवार को गिरडीह जिले के मंगरौडीह गांव में हुआ। जहां महिलाएं घर से करीब 200 मीटर दूर नदी के घर पर छठ पूजा करने के लिए गई हुई थीं। उनके साथ चार घरों के 4 बच्चे भी गए थे। मां पूजा की तैयार करने लगीं, तभी बच्चे नदी में नहाते वक्त खेलने लगे। इसी दौरान तीन बच्चियां और एक बच्चा नदी में डबू गए।

मां को पता नहीं और बच्चों की हो गई मौत
हैरानी की बात यह है कि बच्चों के नदी में डूबने की भनक महिलाएं को नहीं लगीं। वह पूजा करने के बाद अपने-अपने  घर लौट आईं। कुछ देर बाद जब बच्चे घर में नहीं दिखे तो उनकी तलाश शरू की गई। वहीं कुछ लोग नदी किनारे खोजने गए। देखा तो उनके शव नदी में पड़े हुए थे। ग्रामीणों ने एक-एक करके चारों के शव बाहर निकाले और अस्पताल लेकर गए। डॉक्टरों ने उनको पहुंचे ही मृत घोषित कर दिया।

मासूम बच्चों की उम्र 10 साल के नीचे थी
मृतक सभी बच्चों की उम्र 10 वर्ष से नीचे बताई जा रही है। इस हादसे में मारे गए मासूम बच्चों के नाम मुन्ना सिंह,  सुहाना कुमारी, सोनाक्षी कुमारी और दीक्षा कुमारी के रुप में हुई। बताया जा रहा है कि नदी में पानी काफी था और बच्चे इसका अंदाजा नहीं लगा पाए। 

यह भी पढ़ें-भोपाल के अस्पताल में मासूमों की मौत: किसी मां ने नवजात को देखा तक नहीं, कोई सलामती की दुआ मांग रहा

यह भी पढ़ें-भोपाल के अस्पताल में आग: सामने आईं भयावह तस्वीरें, मंजर इतना दर्दनाक कि चीखते रहे बच्चे, कोई बचा नहीं सका

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios