Asianet News HindiAsianet News Hindi

बच्चा चोरी के अफवाह में रोज हो रही घटनाएं: हजारीबाग नियोजन पदाधिकारी और उनके पति को बच्चा चोर समझ लोगों ने पीट

झारखंड के हजारीबाग में एक बार फिर बच्चा चोरी का आरोप लगाते हुए गांव के लोगों ने एक अधिकारी की और उसके पति की पिटाई शुरू कर दी। पुलिस के पहुंचने के बाद मामला शांत कराया गया। वहीं मामले में पुलिस में दोनों ने लिखित शिकायत की है।

hazaribagh news villager beat planning officer and her husband they filed FIR asc
Author
First Published Sep 21, 2022, 4:43 PM IST

हजारीबाग: झारखंड में इन दिनों बच्चा चोरी की अफवाह फिर से फैली है। रोज किसी ना किसी की बच्चा चोरी के आरोप में पिटाई हो रही है। इस बार तो एक सरकारी अधिकारी को ही लोगो ने बच्चा चोर समझ लिया। बच्चा चोर समझ हजारीबाग नियोजन पदाधिकारी ज्योतसना दास की लोगों ने पिटाई कर दी। बीच बचान करने आए उनके पति विजय कुमार दास और चतरा जिले के नियोजन पदाधिकारी मनु कुमार को भी ग्रामीणों ने बच्चा चोर समझ पीटा। पुलिस मौके पर पहंची तो तीनों की जान बची। मामला मंगलवार की शाम हजारीबाग के बड़कागांव के लांगतू में त्रिवेणी सैनिक कंपनी के कार्यालय के पास की है। घटना के तीनों को इलाज के लिए अस्पताल पुलिस ने पहुंचाया। इस मामले में नियोजन पदाधिकारी और ग्रामीणों ने एक दूसरे के खिलाफ थाना में लिखित शिकायत की है। 

कार का कांच चढ़ाने पर उग्र हुए ग्रामीण
बताया जा रहा है कि नियोजन पदाधिकारी अपने पति के साथ कार से दो लोगों का नियोजन की जानकारी लेने त्रिवेणी सैनिक कंपनी गई थी। उनके साथ चरतार के नियोजन पदाधिकारी भी थे। तीनों कार में बैठ कर बात कर रहे थे। इसी बीच ग्रामीणों को पास आते देख अधिकारियों ने कार का शीशा चढा लिया। ग्रामीणों ने उनपर बच्चा चोर होने का संदेह हुआ। वे पूछताछ के लिए कार के पास गए। अधिकारियों ने कोई जवाब नहीं दिया तो लोगों को और शक हुआ। फिर सैकड़ों ग्रामीणों की भीड़ मौके पर जुट गई। महिला अधिकारी के साथ मारपीट करने लगे। उनके पति और चतरा के नियोजन पदाधिकारी बीच बचाव करने आए तो लोगों ने उन दोनों की भी पिटाई कर दी। फिर बड़कागांव की पुलिस मौके पर पहुंची और सभी को भीड़ से बचाया। 

बच्चे को खींचने का कर रही थी प्रयास
इस मामले में ग्रामीणों का कहना है कि कार पर बैठी एक महिला एक बच्चे को खींच कर कार पर चढाने का प्रयास कर रही थी। इस ग्रामीण कार के पास पहुंचे और बच्चे को बचाया। अगर वे अधिकारी हैं तो उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था। इधर, मामले को लेकर जिले के एसपी मनोज रतन चौबे ने बताया कि दोनों पक्षों ने शिकायत दर्ज कराई है। मामले की जांच की जा रही है। उन्होंने लोगों से अपील की कि बच्चा चोरी के अफवाहों पर ध्यान ना दें। कोई भी कानून हाथ में ना ले। अगर ऐसा कोई मामला है तो पुलिस को सूचित करें।

यह भी पढ़े- क्रूरता की हद: पत्नी को मार डाला...बुजुर्ग मां और बच्चों को भी नहीं छोड़ा, फिर खुद के कर लिए टुकड़े-टकुड़े

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios