Asianet News HindiAsianet News Hindi

मालगाड़ी में 110 साल पहले मिली थी कृष्ण और राधा की मूर्ति, 4 बिजनेसमैन ने बनवाया भव्य मंदिर, जानें पूरी कहानी

भगवान श्री कृष्ण और मां राधा की मूर्ति ट्रेन में मिली थी। जिसके बाद से मूर्तियों को स्थापित किया गया। यह मंदिर पूर्वी सिंहभूम के चाकुलिया के पुराना बाजार में स्थित है। हर साल चाकुलिया के ठाकुरबाड़ी मंदिर में कृष्ण जन्माष्टमी के दिन भव्य आयोजन किया जाता है।

janmashtami 2022 Statue of Krishna and Radha was found 110 years ago in a goods train in East Singhbhum pwt
Author
East Singhbhum, First Published Aug 19, 2022, 4:06 PM IST

पूर्वी सिंहभूम (झारखंड). झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिला में एक ऐसा कृष्ण मंदिर के जहां 110 साल से भगवान कृष्णा और मां राधा की पूजा होती है। भगवान श्री कृष्ण और मां राधा की मूर्ति ट्रेन में मिली थी। जिसके बाद से मूर्तियों को स्थापित किया गया। यह मंदिर पूर्वी सिंहभूम के चाकुलिया के पुराना बाजार में स्थित है।  110 साल पुराना भगवान श्री कृष्ण मंदिर का नाम ठाकुरबाड़ी मंदिर है। यहां हमेशा पूजा के लिए लोग आते हैं। जन्माष्टमी पर इस मंदिर में भव्य आयोजन होता है भगवान श्री कृष्ण की जन्म की झांकी दिखाई जाती है।

एक मालगाड़ी में मिली थी मूर्तियां
ठाकुरबाड़ी मंदिर के अध्यक्ष सुमित लोधा और कमेटी के सदस्य अनूप केडिया ने बताया कि वर्षों पहले यह मूर्तियां चाकुलिया के रेलवे स्टेशन में एक मालगाड़ी में मिली थी। एक लगेज मूर्तियां थी। मालगाड़ी में मिले लगेज को कोई लेने नहीं आया। ऑक्शन में स्थानीय बिजनेसमैन बनारसी लाल झुनझुनवाला, सांवरमलजी सेक्सीरिया, घासीराम जी लोधा और बाबूलाल जी केड़िया को पंचनामा कर सौंप दी गई थी। जिसके बाद जब चारों बिजनेसमैन द्वारा उस लगेज को खोला गया तो उन्होंने देखा कि उस लगेज में भगवान श्री कृष्णा और मां राधा की मूर्ति है। फिर उस मूर्ति की स्थापना चाकुलिया के पुराना बाजार में टिने की मंदिर बना कर मूर्ति को स्थापित दिया गया।  फिर धीरे-धीरे मारवाड़ी समाज के लोगों जुड़ते गए और 2013 में चाकुलिया का प्रसिद्ध ठाकुरबड़ी मंदिर बन कर तैयार हुई।

अभी भी की जाती है मंदिर की देख-रेख
कमेटी के सदस्य अनूप केड़िया द्वारा बताया गया कि अभी भी मंदिर की देखरेख मारवाड़ी समाज के लोगों द्वारा की जाती है। उन्होंने बताया कि संजय लोधा और वासुदेव जी रुंगटा के अलावा अन्य 23 मारवाड़ी संघ के लोगों द्वारा इस मंदिर की देखरेख की जाती है। साथ ही इस मंदिर में एक पौराणिक शिवालय भी स्थित है। जिसमें सावन के पवन महीने में यहां सामूहिक तौर पर विवाहित जोड़ियों द्वारा महाकाल की रुद्राभिषेक और महीने के हर सोमवार को महाकाल की आरती धूमधाम से की जाती है। 

जन्माष्टमी के दिन होता है भव्य आयोजन
हर साल चाकुलिया के ठाकुरबाड़ी मंदिर में कृष्ण जन्माष्टमी के दिन भव्य आयोजन किया जाता है। इस वर्ष भी 19 अगस्त की रात्रि 9 बजे से मंदिर परिसर में लोहा नगरी जमशेदपुर के मशहूर गायक महावीर अग्रवाल द्वारा भजन का कार्यक्रम किया जाएगा। जिसके बाद रात्रि 12 बजे से भगवान श्री कृष्ण कुछ सिंगार करके आरती की जाएगी। यह कार्यक्रम 20 अगस्त के संध्या 4:30 बजे तक की जाएगी।

इसे भी पढ़ें-  जन्माष्टमी विशेष: झारखंड का 366 साल पुराना कृष्ण मंदिर, यहां कृष्ण भगवान के इस रूप की होती है पूजा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios