Asianet News HindiAsianet News Hindi

जिस रिजॉर्ट में ठहरे हैं झारखंड के विधायक, Video में देखिए वो कितना लग्जीसियस है

झारखंड के विधायक छत्तीसगढ़ के जिस रिजॉर्ट में ठहरे हैं वो काफी लग्जीरियस है। यहां से झाग झील दिखाई पड़ती है। इस रिजॉर्ट में लग्जरी रूम्स हैं। 5 हजार से लेकर 1.52 लाख रुपये तक के रूम और सुईट हैं। इवेंट करने के लिए काफी स्पेस है। 

Political crisis in Jharkhand Know how is the Mayfair Resort where the Jharkhand MLA are staying see video KPZ
Author
First Published Aug 31, 2022, 7:30 PM IST

झारखंड | झारखंड में सियासी संकट के बीच यूपीए के विधायकों को रायपुर एयरलिफ्ट किया गया है। कांग्रेस-जेएमएम और राजद के 32 विधायकों को रांची से इंडिगो के विशेष विमान से रायपुर लाया गया है। विधायकों को 3 बसों में बैठाकर नवा रायपुर के मेफेयर रिजॉर्ट ले जाया गया। रिसॉर्ट के बाहर चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। इस रिजॉर्ट को 2 दिनों के लिए बुक किया गया है। देर रात छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी विधायकों से रिजॉर्ट में मुलाकात की। क्या आप जानते हैं कितना आलीशान है मेफेयर रिजॉर्ट। 
जिस रिजॉर्ट में विधायक ठहरे हैं वो काफी लग्जीरियस है। यहां से झाग झील दिखाई पड़ती है। इस रिजॉर्ट में लग्जरी रूम्स हैं। 5 हजार से लेकर 1.52 लाख रुपये तक के रूम और सुईट हैं। इवेंट करने के लिए काफी स्पेस है। इस रिजॉर्ट में वर्ल्ड क्लास फैसेलिटी है।  पूल फेसिंग, हॉट टब, फिटनेस रूम, गेम रूम और लग्जरी स्पा भी है। 

देखें वीडियो 

मेफेयर कांग्रेस विधायकों के लिए अभेद किला
मेफेयर अभी तक कांग्रेस विधायकों के लिए सबसे अभेद रहा है। पिछले साल जब असम में विधानसभा चुनाव हुए थे और वहां विपक्ष के विधायकों की खरीद फ़रोख़्त शुरू हुई थी। तब वहां विपक्ष के लगभग एक दर्जन से ज्यादा विधायकों को रायपुर के इसी मेफ़ेयर रिजॉर्ट में लाया गया था। वही जब हरियाणा में राज्यसभा चुनाव होना था, वहां भी बीजेपी की तरफ से खरीद-फ़रोख़्त क़ी बात सामने आई तो हरियाणा के विधायकों को मेफेयर में ही ठहराया गया था। अब जब झारखंड सरकार के सामने संकट आया है तो विधायकों को यहां लाया गया है। छत्तीसगढ के सीएम भूपेश बघेल को क्राइसिस मैनेजमेंट का मास्टर माना जाता है।

झारखंड कांग्रेस के सूत्रों की मानें तो अभी भी झारखंड कांग्रेस के कई विधायक सीधे आरपीएन सिंह के संपर्क में हैं। लगातार इनकी दिल्ली में आरपीएन सिंह से मुलाकात हो रही है। यही कारण है कि अविनाश पांडे कांग्रेस को बचाने की मुहिम में खुद फ्रंट से लीड कर रहे हैं। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios