Asianet News HindiAsianet News Hindi

झारखंड में राजनीतिक हलचल के बीच सियासी बयानबाजी शुरू, बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने कहा- डर रही सरकार

झारखंड में सीएम हेमंत सोरेने की ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मामले के कारण विधानसभा की सदस्यता जा सकती है। वहीं विपक्ष ने फिर सियासी बयानबाजी शुरू कर दी है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास का सीएम के लिए बोले- बीजेपी ने नहीं कहा था अपने पैर में कुल्हाड़ी मारो।

ranchi news amidst political crisis BJP MP Nishikant Dubey said jharkhand hemant soren government is in fear asc
Author
Ranchi, First Published Aug 27, 2022, 4:46 PM IST

रांची (झारखंड). झारखंड में बदलते राजनीतिक समीकरण के बीच राजनेताओं का सियासी बयानबाजी भी जारी है। भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने तो झारखंड मुक्ति मोर्चा के नाक में दम कर के रखा है। जेएमएम और कांग्रेस जो सोचते हैं उन्हें सांसद निशिकांत कुछ देर बाद ही सार्वजनिक कर देते हैं। इसी बीच बीजेपी सांसद निशिकांत दूबे ने कहा कि यूपीए के 10-11 विधायक गायब हैं।  दुबे ने दावा किया कि बीजेपी के साथ 33 विधायक हैं। उन्होंने कहा कि विपक्ष में हम हैं लेकिन डरी हुई सरकार है और वह अपने विधायकों को लेकर भाग रहे हैं। 

रघुवर दास का हेमंत पर वार, बोले- BJP ने नहीं कहा अपने पैर पर मारो कुल्हाड़ी
पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि हेमंत सोरेन को बीजेपी ने नहीं कहा था कि अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारो और न सिर्फ अपने लिए पत्थर का खनन का पट्टा ले लो बल्कि भाई और परिवार के लिए भी खनन का पट्टा का ले लो। बीजेपी ने जो राज्यपाल को आवेदन दिया गया था उसमें हेमंत सोरेन की विधायकी खत्म करने और उन्हें भ्रष्टाचार निरोधक कानून के तहत चुनाव लड़ने से रोकने का भी आवेदन किया था। हमने राज्यपाल को पूरा पुख्ता सबूत दिया है, जिससे उन्हें चुनाव लड़ने से भी रोका जा सके। 

वेट एंड वॉच मोड पर बीजेपी - रघुवर दास
रघुवर दास ने कहा कि बीजेपी फिलहाल वेट एंड वॉच कर रही है। सरकार के जाने, नहीं जाने से हमारा कुछ लेना देना नहीं है हम चाहते हैं कि लोकतंत्र रहे झारखंड में न कि राजतंत्र बने। दरअसल, सोरेन के मुख्यमंत्री रहते हुए खदान लीज का पट्‌टा लेने के मामले में चुनाव आयोग ने गुरुवार यानी 25 अगस्त को राज्यपाल से उनकी सदस्यता रद्द करने की सिफारिश की थी। 

सोरेन का बीजेपी पर करारा हमला
हेमंत सोरेन ने भी केंद्र सरकार और बीजेपी पर करारा हमला बोलते हुए कहा, "केंद्र सरकार और भाजपा ने जितना कुचक्र रचना है रच ले, कोई फर्क नहीं पड़ता। मैं आदिवासी का बेटा हूं, झारखंड का बेटा हूं, हम डरने वाले नहीं, लड़ने वाले लोग हैं।

यह भी पढ़े- शेखावाटी विश्वविद्यालय के पहले चुनाव में एसएफआई का चारों पदों पर कब्जा, एबीवीपी व एनएसयूआई को दी शिकस्त

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios