Asianet News Hindi

Kerala Election: मुख्यमंत्री ने मीडिया के सामने खोला था योजनाओं का पुलंदा, विपक्ष के नेता ने कर दी शिकायत

केरल विधानसभा चुनाव की तारीख ज्यों-ज्यों नजदीक आ रही है, त्यों-त्यों सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। पिछले दिनों केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन और उनके मंत्रिमंडल को अल्जामर रोग(भूलने की बीमारी) से पीड़ित बताने वाले विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला ने अब विजयन की शिकायत चुनाव आयोग से की है।

Kerala Assembly Election: Leader of Opposition Ramesh Chennithala files a complaint with the Chief Electoral Officer kpa
Author
Thiruvananthapuram, First Published Mar 11, 2021, 10:06 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

तिरुवनंतपुरम, केरल. राज्य में होने जा रहे विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां चरम पर पहुंच गई हैं। विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी के समक्ष शिकायत दर्ज कराते हुए आरोप लगाया कि सीएम पिनाराई विजयन ने 4 मार्च और 6 मार्च को प्रेस से मुलाकात के दौरान नए कार्यक्रमों और नीतियों की घोषणा करके आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है। बता दें कि पिछले दिनों चेन्निथला ने विजयन और उनके मंत्रिमंडल को अल्जामर रोग(भूलने की बीमारी) से पीड़ित बताया था।

जानें तब क्या कहा था...

  • चेन्निथला ने तब कहा था कि उन्होंने विवादित डीप-शी फिशिंग प्रोजेक्ट का भंडाफोड़ किया है। केरल सरकार ने अमेरिकी कंपनी ईएमसीसी के साथ मिलकर इस प्रोजेक्ट पर काम करने का फैसला किया है। लेकिन जब मत्स्य मंत्री जे. मर्सीकुट्टी एवं उद्योग मंत्री ई.पी. जयराजन से इस बारे में पूछा गया, तो उनका जवाब था कि उन्हें कुछ याद नहीं है।
  • चेन्निथला ने आरोप लगाया था कि अगर वे इस फर्जी प्रोजेक्ट को का भंडाफोड नहीं करते, तो केरल सरकार अमेरिकी फर्म को 'समुद्र' बेच देती। बता दें कि इस परियोजना की चर्चा 2018 में सामने आई थी, जब मर्सीकुट्टी अमेरिकी दौरे पर गए थे।
  • चेन्निथला ने आरोप लगाया था कि मर्सीकुट्टी के अमेरिका से लौटने के बाद यहां भी मीटिंग्स हुईं। इनमें विजयन, जयराजन, दयाकुट्टी और कई अधिकारी शामिल हुए। लेकिन जब मामला उजागर हुआ, तो सब झूठ बोलने लगे कि उन्हें कुछ याद नहीं। क्या विजय और उनकी कैबिनेट में सभी अल्जाइमर से पीड़ित हैं? हालांकि विजयन ने स्पष्ट किया था कि सरकार यह सौदा रद्द कर चुकी है।

चुनाव तारीख
केरल की 140 विधानसभा सीटों के लिए सिर्फ एक चरण यानी 6 अप्रैल को वोटिंग होगी। नतीजे सभी पांच राज्यों के साथ 2 मई को आएंगे।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios