लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोना वायरस महामारी से दुनिया भर में लोग तबाह हैं। इससे लोगों की रूटीन में बड़ा बदलाव आया है। लॉकडाउन की वजह से लोग घरों में बंद रहने को मजबूर रहे हैं। इसका मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक असर पड़ा है। काफी लोग शारीरिक तौर पर खुद को पहले की तरह फिट नहीं महसूस करते। वहीं वे चिंता, अवसाद और कई तरह की मानसिक परेशानियों से भी घिरते चले जा रहे हैं। जो लोग वर्क फ्रॉम होम की सुविधा के तहत घर से काम कर रहे हैं, वे भी सुस्ती और मानसिक दिक्कत होने की शिकायत करते पाए जा रहे हैं। इसकी वजह यह है कि इस महामारी ने लोगों के मन में एक तरह का डर पैदा कर दिया है। लोग समझ नहीं पा रहे हैं कि ये क्या है और इसका निदान कब तक हो सकेगा। जानें, कोरोना महामारी के इस दौर में कैसे खुद को हर तरह से फिट रखें। 

1. घर में ही करें वॉक
अगर आप लॉकडाउन या कोरोना संक्रमण के डर की वजह से बाहर घूमने नहीं जा रहे हैं, तो  सुबह-शाम घर में ही वॉक करना शुरू कर दें। आप घर में ही घूमना शुरू करते हैं तो इससे भी आपकी फिजिकल एक्टिविटी बनी रहेगी। इससे आप थकान, आलस और सुस्ती महसूस नहीं करेंगे। आप घर की छत पर या अहाते में भी टहल सकते हैं।

2. बच्चों के साथ खेलें
मानसिक रूप से चुस्त-दुरुस्त रहने के लिए आप बच्चों के साथ कोई भी इनडोर गेम खेल सकते हैं। इन खेलों में लूडो से लेकर कैरम और शतरंज भी हो सकता है। इस दौरान आपकी बच्चों से बात भी होगी। इससे आपको बेहतर महसूस होगा। बच्चों के संपर्क में रहने पर आप चिंता और तनाव की समस्या से बचेंगे। 

3. सुबह एक्सरसाइज जरूर करें
सुबह के समय ब्रेकफास्ट करने के पहले हल्की-फुल्की एक्सरसाइज जरूर करें। इसे आप अपनी आदत बना लें। इससे शारीरिक फिटनेस तो बनी ही रहती है, मानसिक सजगता भी बढ़ती है। नियमित एक्सरसाइज करने वाले लोगों को तनाव और डिप्रेशन की समस्या जल्दी नहीं होती। 

4. घरेलू काम में भी दें समय
शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रहने के लिए आप कुछ घरेलू काम भी कर सकते हैं। कमरों की सफाई करने से लेकर आप कपड़े भी धो सकते हैं। इसके अलावा रसोई में भी छोटे-मोटे काम कर सकते हैं। इससे चुस्ती बनी रहती है। अगर आप घर के लोगों के लिए चाय ही बनाते हैं तो बेहतर महसूस करेंगे।

5. फोन करते समय टहलें
अगर आप किसी से फोन पर बात कर रहे हैं, तो टहलते हुए बात करें। एक जगह लगातार बैठे नहीं रहें। अगर पहली या दूसरी मंजिल पर रहते हैं तो सीढ़ियां भी चढ़-उतर सकते हैं। इससे आपकी फिजिकल एक्टिविटी बढे़गी और पहले की तुलना में ज्यादा एनर्जेटिक फील करेंगे।