बड़वानी में सरकारी स्कूल टीचर भारत जोड़ो यात्रा में हुआ शामिल, आया सस्पेंड लेटर, इस नियम के कारण किया निलंबित

| Dec 03 2022, 06:36 PM IST

बड़वानी में सरकारी स्कूल टीचर भारत जोड़ो यात्रा में हुआ शामिल, आया सस्पेंड लेटर, इस नियम के कारण किया निलंबित

सार

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होकर गिफ्ट भेट करना और उसकी फोटो सोशल मीडिया में डालने के बाद इस सरकारी टीचर को निलंबन का सामना करना पड़ा। विभाग ने शिक्षक को इस नियम को तोड़ने के चलते किया गया सस्पेंड।

बड़वानी (badwani). मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में हैरान करने वाला मामला सामने आया है। सरकारी स्कूल में पढ़ा रहा शिक्षक तब शॉक रह गया जब उसे सस्पेशन लेटर मिल गया। जानकारी में सामने आया कि वह प्रदेश में राहुल गांधी की यात्रा में शामिल होने के लिए गया था और उसकी तस्वीर सोशल मीडिया में शेयर की थी। तो सवाल आता है कि क्या उसे इस काम के लिए सस्पेंड किया गया ? तो जबाव है नहीं। दरअसल उसके निलंबन का कारण है सेवा आचरण नियमों का उल्लंघन करना। शिक्षक के सस्पेंशन की खबर सोशल मीडिया में वायरल हो रही है। मामला कनास्या के कुंजरी गांव का है।

जरूरी काम का बोल ली छुट्टी, राजनीतिक कार्यक्रम में हुआ शामिल
मामले के बारे में जानकारी देते हुए राज्य जनजातीय विभाग के सहायक आयुक्त निलेश रघुवंशी ने बताया कि कनास्या के कुंजरी स्थित प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक राजेश कन्नोजे ने महत्वपूर्ण काम बताते हुए स्कूल से छुट्टी ली। इसके बाद वे राजनीतिक कार्यक्रम (भारत जोड़ो यात्रा) में शामिल होने के लिए गए। इतना ही नहीं वे इस यात्रा में शामिल होने के बाद कुछ दूर तक राहुल गांधी और सोनिया गांधी के साथ चले और इसकी तस्वीरें उन्होने सोशल मीडिया में भी शेयर की। वे 24 नवंबर के दिन यात्रा में शामिल हुए थे।  विभाग द्वारा मिले सस्पेंशन लेटर को शिक्षक द्वारा सोशल मीडिया में शेयर करने के बाद पूरा मामला सामने आया।

Subscribe to get breaking news alerts

सेवा आचरण नियम का किया उल्लंघन
जनाजातीय मामलों के विभाग सहायक रघुवंशी ने बताया की कन्नोजे ने जरूरी काम के बहाने राजनीतिक यात्रा में एक्टिविटी की जिसके चलते उन्हें सेवा आचरण नियमों के उल्लंघन का दोषी माना गया और उनकी सरकारी सेवाओं से सस्पेंड कर दिया गया है। शिक्षक का सस्पेंशन ऑर्डर 25 नवंबर के दिन ही जारी कर दिया गया था। सरकारी स्कूल शिक्षक द्वारा मध्यप्रदेश सिविल सेवा (आचरण) नियम 1965- नियम 5 का उल्लंघन करना पाया गया।

यह भी पढ़े- महिला टीचर ने जानें क्यूं हनुमान जी को सौंप दी 1 करोड़ की संपत्ति, बैंक-बैलेंस, घर-प्रॉपर्टी सब कुछ किया दान