Asianet News Hindi

झाबुआ कृषि विज्ञान केंद्र ने की CM से मांग, IIFA में बॉलीवुड स्टार को परोसा जाए कड़कनाथ


कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ के प्रमुख एवं वरिष्ठ वैज्ञानिक आई एस तोमर ने शनिवार को कमलनाथ को पत्र लिख कर कहा, ‘‘आपने एक ब्लॉग में इंदौर में 27-29 मार्च को होने वाले आईफा अवार्ड 2020 को प्रदेश के आदिवासियों को समर्पित किया है।’’ उन्होंने कहा कि इस संबंध में मेरा सुझाव है कि पश्चिम मध्यप्रदेश के आदिवासी अंचल झाबुआ के प्रसिद्ध कड़कनाथ मुर्गे का मांस इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले फिल्मी सितारों को कम से कम एक दिन परोसा जाये 

Krishi Vigyan Kendra Jhabua Daymonds CM to serve Kadaknath to Bollywood star in IIFA
Author
Jhabua, First Published Feb 23, 2020, 11:22 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

झाबुआ (मध्यप्रदेश). कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ (कड़कनाथ रिसर्च सेंटर) के एक वैज्ञानिक ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ से मांग की है कि आदिवासी अंचल के प्रसिद्ध कड़कनाथ मुर्गे का मांस प्रदेश के इंदौर में अगले महीने होने वाले आईफा अवार्ड में भाग लेने वाले बॉलीवुड स्टार एवं अन्य अतिथियों को परोसा जाये।

कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ ने CM को पत्र लिखकर की मांग

कृषि विज्ञान केंद्र झाबुआ के प्रमुख एवं वरिष्ठ वैज्ञानिक आई एस तोमर ने शनिवार को कमलनाथ को पत्र लिख कर कहा, ‘‘आपने एक ब्लॉग में इंदौर में 27-29 मार्च को होने वाले आईफा अवार्ड 2020 को प्रदेश के आदिवासियों को समर्पित किया है।’’ उन्होंने कहा कि इस संबंध में मेरा सुझाव है कि पश्चिम मध्यप्रदेश के आदिवासी अंचल झाबुआ के प्रसिद्ध कड़कनाथ मुर्गे का मांस इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले फिल्मी सितारों को कम से कम एक दिन परोसा जाये क्योंकि यह मुर्गा कम मात्रा में फैट और भरपूर मात्रा में प्रोटीन एवं आयरन के लिए पूरे देश में अपनी अलग पहचान बना चुका है ।

कड़कनाथ के लिए मध्यप्रदेश को GI टैग मिला है

तोमर ने कहा कि इसके अलावा, मेरा आपसे अनुरोध है कि इस क्षेत्र का दाल-पानिया भी प्रसिद्ध व्यंजन है, इसे भी इन फिल्मी सितारों को इस कार्यक्रम के दौरान खाने में परोसा जाये। उन्होंने कहा कि इसका सीधा फायदा यहां के आदिवासियों को होगा और क्षेत्र में नये रोजगार के साधन खुलेंगे।

मालूम हो कि कड़कनाथ मुर्गों के लिए मध्यप्रदेश को जीआई टैग (भौगोलिक संकेतक) पिछले साल ही मिला है और प्रदेश में कड़कनाथ मुर्गे सबसे ज्यादा झाबुआ में ही पाये जाते हैं।

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

(प्रतिकात्मक फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios