भोपाल/ इन्दौर. एक अधिकारी की शिकायत पर मध्यप्रदेश पुलिस ने मोहपाश (हनीट्रैप) के आरोप में पांच महिलाओं और उनके वाहन चालक को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तारी के बाद सभी छह आरोपियों को अदालत में पेश किया जहां से उन्हें तीन दिन की पुलिस रिमांड पर सौंप दिया गया। इन्दौर की वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) रूचिवर्धन मिश्र ने बृहस्पतिवार को संवाददाताओं को बताया कि गिरफ्तार महिलाओं में आरती दयाल (29), मोनिका यादव (18), श्वेता जैन पति विजय जैन (39), श्वेता जैन पति स्पनिल जैन (48), और बरखा सोनी (34) शामिल हैं।

महिला के पास से मिले 14 कैश और एक SUV कार 
एसएसपी ने बताया कि आरोपियों के पास से पुलिस ने 14,17000/- (चौदह लाख सत्तरह हजार) रुपये नगद व मोबाइल फोन और एक एसयूवी बरामद की है।उन्होंने बताया कि इन्दौर नगर निगम के एक अधिकारी की शिकायत पर पहले आरती, मोनिका और उनके वाहन चालक को इन्दौर में गिरफ्तार किया गया था। इनसे पूछताछ के बाद भोपाल की पॉश कालोनियों से तीन अन्य आरोपी महिलाओं को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किये गये सभी आरोपी भोपाल निवासी हैं।

पहली किस्त लेने थे 50 लाख रुपए
एसएसपी ने आरोपी आरती के हवाले से बताया कि उसकी साथी श्वेता जैन ने उसे करीब आठ माह पहले इन्दौर नगर निगम के अधिकारी से मिलवाया था। इसके बाद दोनों में फोन पर बातचीत तथा मुलाकात शुरु हो गयी। एक मुलाकात के दौरान आरोपी महिलाओं ने छिपकर एक वीडियो क्लिप बना ली तथा भोपाल पहुंचने के बाद अधिकारी से तीन करोड़ रुपये की मांग की। अधिकारी की शिकायत के बाद पुलिस ने योजना बनाई और पहली किस्त के तौर पर 50 लाख लेने इन्दौर आयी आरती, मोनिका और उनके वाहन चालक को गिरफ्तार किया। इसके बाद अन्य आरोपियों को पकड़ा गया। एसएसपी ने बताया कि पुलिस मामले में विस्तृत जांच कर रही है।

नेताओं से लेकर अफसर तक पहुंचाती थी कार्ल गर्ल
इन महिलओं के खिलाफ भोपाल-इंदोर में शिकायत दर्ज काराई गई थी। ये कई नेताओं से लेकर VIP और बिजनेसमैन तक कार्ल गर्ल पहुंचाकर उनका आपत्तिजनक हालत में वीडियो बनाकर उन लोगों को ब्लैकमेल कर पैसा कमाती थीं। कुछ दिन पहले ही एक महिला ने सोशल मीडिया पर एक बड़े अधिकारी के साथ वीडियो वायरल किया था। वहीं इंदौर के एक नगर निगम में काम करने वाले एक अफसर को ब्लैकमेल कर 2 करोड़ रुपए की डिमांड की थी। इसके बाद अधिकारी ने इस मामले की शिकायत इंदौर पुलिस से की थी।

मामले में पुलिस ने साध रखी है चुप्पी
सभी महिलाओं को पुलिस लेकर इंदौर क्राइम ऑफिस पहुंची है। जहां उनसे पूछताछ की जा रही हा। पुलिस जानना चाहती है इनका गिरोह में और कौन-कौन हैं। जो इस तरह की गतिविधियों को अंजाम देते हैं। जब मीडिया ने पुलिस से इस मामले में बात की तो उन्होंने कुछ कहने से इंकार कर दिया। विभाग के आला अफसरों ने चुप्पी साध रखी है। 

प्रदेश के गृहमंत्री ने कहा कोई नहीं बचेगा
हनी ट्रैप मामले में प्रदेश के गृहमंत्री बाला बच्चन का कहना है कि इस मामले की पूरी जांच होना जरुरी है। जो इस घिनौने काम में लिप्त है वो अब बच नहीं पाएगा। चाहे किसी के कितने ही बड़े संपर्क क्यों न हो सब बेनकाब होंगे। उन्होंने कहा इस केस में अगर कोई नेता या अफसर भी जुड़ा होगा तो वह भी नहीं बच पाएग।