Asianet News Hindi

यह क्या बोल गए सिंधिया- बीजेपी के बजाय कांग्रेस के लिए मांगी वोट, पढ़िए कैसे 'मिस्टेक' कर गए महाराज

ज्योतिरादित्य सिंधिया डबरा में बीजेपी प्रत्याशी इमरती देवी के समर्थन में एक रैली करने के लिए गए थे। जहां उनकी सभा को संबोधित करते वक्त मंच से जुबान फिसल गई। जहां उनके मुंह से अपनी पार्टी के निशान कमल के फूल की जगह कांग्रेस के हाथ के पंजे पर वोट मांग लिया।

madhya pradesh by-election 2020 jyotiraditya scindia tongue slips appealed to vote congress congress instead of bjp kpr
Author
Bhopal, First Published Nov 1, 2020, 11:25 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

डबरा/भोपाल, मध्यप्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए रविवार शाम 6 बजे चुनाव प्रचार थम जाएगा। आज आखिरी दिन प्रदेश की दोनों ही बड़ी पार्टियां भाजपा और कांग्रेस मुद्दों का आखिरी दांव चलेंगी। इसी बीच राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का एक वीडियो वायरल हो रहा है। जहां उनकी जुबान फिसल गई और वह बीजेपी की जगह कांग्रेस के लिए वोट मांगने लगे। जानिए क्या है पूरा मामला...

बीजेपी के बजाय कांग्रेस के लिए मांगा वोट
दरअसल, शनिवार को ज्योतिरादित्य सिंधिया डबरा में बीजेपी प्रत्याशी इमरती देवी के समर्थन में एक रैली करने के लिए गए थे। जहां उनकी सभा को संबोधित करते वक्त मंच से जुबान फिसल गई। जहां उनके मुंह से अपनी पार्टी के निशान कमल के फूल की जगह कांग्रेस के हाथ के पंजे पर वोट मांग लिया। हालांकि बाद में बाद में उनको अपनी गलती का अहसास हुआ और बीजेपी को वोट देने की अपील की।

पढ़िए क्या बोले सिंधिया...
बता दें कि ज्योतिरादित्य अक्रामक अंदाज में लोगों से बीजेपी को वोट मांगने की अपील कर रहे थे। जहां उन्होंने आखिरी में डबरा के मतदाताओं से कहा कि 'मेरी डबरा की जनता, मेरी शानदार और जानदार डबरा की जनता..मुट्ठी बांधकर विश्वास दिलाओ कि 3 तारीख को हाथ के पंजे वाला बटन दबेगा'।

कांग्रेस ने सिंधिया पर ली चुटकी
ज्योतिरादित्य सिंधिया गलती से  हाथ के पंजे की अपील करने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। कांग्रेस ने सिंधिया पर चुटली लेते हुए कहा कि 'सिंधिया मध्यप्रदेश की जनता विश्वास दिलाती है कि तीन तारीख़ को हाथ के पंजे वाला बटन ही दबेगा।

ये था एमपी उपचुनाव का पहला विवादित बयान 
बता दें कि मध्य प्रदेश उपचुनाव में भाषा की मर्यादा खोने और विवदित बयानों की भरमार रही है। सबसे पहले विवादित बयान डबरा में ही दिया गया था। जहां पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आपत्तिजनक भाषा के इस्तेमाल करते हुए बीजेपी की महिला मंत्री और डबरा से प्रत्याशी इमरती देवी के लिए आइटम कह डाला था। जिसके लिए कमलनाथ को चुनाव आयोग की कार्रवाई भी झेलनी पड़ गई। उनसे स्टार प्रचारक का दर्जा छीन लीन लिया गया।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios