Asianet News HindiAsianet News Hindi

देखिए महिला प्रोफेसर की हरकत: जरा सी गलती पर ठेले वाले के सारे फल फेंक दिए..कुमार विश्वास ने किया शानदार तंज

बेचारा गरीब ठेले वाला गिड़गिड़ता रहा कि ऐसा मत करो मुझसे गलती से यह हुआ है। कार को खरोंच तक नहीं आई, फिर भी आप चाहो तो इसका पैसा ले लो, लेकिन फलों को रास्ते में मत फेंको। मेरी रोजी रोटी का सवाल है। इतना ही नहीं वहां से गुजरने वाले लोगों ने प्रोफेसर को ऐसा करने से टोका भी, लेकिन उनके सिर पर इतना गुस्सा सवार था कि उन्होंने किसी की एक बात भी नहीं सुनी।

Madhya Pradesh news  woman professor throw fruit on handcart in road and Comments by Kumar Vishwas kpr
Author
Bhopal, First Published Jan 11, 2022, 4:35 PM IST

भोपाल (मध्य प्रदेश). अगर गलती से आपकी कार से कोई जरा से टकरा जाए तो उसके सॉरी कहने पर आप उसे माफ कर देंगे। लेकिन मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया । जहां एक यूनिवर्सिटी की महिला प्रोफेसर की कार से फल का ठेला टकरा गया और गाड़ी को हल्की सी खरोंच आ गई। बस इस पर मैडम इतना आगबबूला हो गईं कि उन्होंने ठेले पर रखे सारे फल सड़क पर फेंक दिए। बेचारा ठेले वाला हाथ जोड़कर मिन्नतें करता रहा, लेकिन वह नहीं मानीं। 

कुमार विश्वास का तंज-मैडम Ego चला रही थीं या Alto
सोशल मीडिया पर लेडी प्रोफेसर की इस हरकत और ठेले से फल फेंकने का वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। जिसको लेकर यूजर तरह-तरह के कमेंट्स कर रहे हैं। वहीं देश के मशहूर कवि और आप पार्टी के पूर्व नेता कुमार विश्वास ने भी इसको लेकर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि मैडम Ego चला रही थीं या Alto।

गरीब के एक-एककर सारे फल फेंक दिए
दरअसल, यह मामला  भोपाल के अयोध्या नगर इलाके का है, जहां एक फल बेचने वाला कॉलोनी में ठेला लेकर घूम रहा था। इसी दौरान सेज यूनिवर्सिटी भोपाल की प्रोफेसर वहां से गुजर रही थीं। तभी गलती से  उसका ठेला उनकी कार से टच हो गया। बस फिर क्या था मैडम को इतना गुस्सा आया कि ठेले वाले को खरी-खोटी सुनाने लगीं। फिर देखते ही देखते ठेले पर रखे फल एक-एक कर सड़क पर फेंकना शुरू कर दिया।

गिड़गिड़ता रहा, मैडम मेरी रोजी-रोटी का सवाल है...
बता दें कि इस दौरान बेचारा गरीब ठेले वाला गिड़गिड़ता रहा कि ऐसा मत करो मुझसे गलती से यह हुआ है। कार को खरोंच तक नहीं आई, फिर भी आप चाहो तो इसका पैसा ले लो, लेकिन फलों को रास्ते में मत फेंको। मेरी रोजी रोटी का सवाल है। इतना ही नहीं वहां से गुजरने वाले लोगों ने प्रोफेसर को ऐसा करने से टोका भी, लेकिन उनके सिर पर इतना गुस्सा सवार था कि उन्होंने किसी की एक बात भी नहीं सुनी।

"

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios