भोपाल. एमपी में जारी पॉलिटिकल ड्रामे का अंत शुक्रवार को हो सकता है। एक ओर जहां सुप्रीम कोर्ट ने कमलनाथ सरकार को फ्लोर टेस्ट कराने को कहा है। वहीं 16 बागी विधायकों के इस्तीफे को भी विधानसभा अध्यक्ष ने मंजूर कर लिया है। राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कल दोपहर 12 बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई है, जिसके बाद यह माना जा रहा है कि इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में ही कमलनाथ इस्तीफा दे सकते हैं। देखिए इस पॉलिटिकल ड्रामे में शुरू से लेकर अंत तक क्या-क्या हुआ।

एमपी में अब तक क्या हुआ ?

10 मार्च- कांग्रेस के 22 बागी विधायकों ने दिया इस्तीफा, सभी विधायक ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक माने जाते हैं।

11 मार्च- कांग्रेस के बागी विधायक भोपाल से बेंगलुरू शिफ्ट किय़े गये, दिन भर चला पॉलिटिक्ल ड्रामा

12 मार्च- भाजपा ने भी अपने विधायकों को हरियाणा शिफ्ट किया, राज्यपाल लालजी टंडन भोपाल पहुंचे, राजनीतिक सरगर्मी हुई तेज , दिग्विजय सिंह ने कहा, भाजपा ने हमारे विधायकों को बंधक बनाया ।

14 मार्च-  विधानसभा स्पीकर ने छह बागी विधायकों का इस्तीफा स्वीकार किया । स्पीकर ने विधायकों को खुद आकर इस्तीफा देने को कहा । राज्यपाल ने सीएम कमलनाथ को चिट्ठी लिखकर फ्लोर टेस्ट कराने को कहा ।

15 मार्च- कमलनाथ ने राज्यपाल को लिखी चिट्ठी, जब तक बंधक विधायकों को रिहा नहीं किया जाता, तब तक फ्लोर टेस्ट संभव नहीं है ।  

16 मार्च- विधानसभा की कार्यवाही राज्यपाल के अभिभाषण के बाद 26 मार्च तक स्थगित, नहीं हुआ फ्लोर टेस्ट, कांग्रेस के बागी 22 विधायक विधानसभा की कार्यवाही में भाग लेने भी नहीं पहुंचे । बीजेपी ने राज्यपाल के सामने 106 विधायकों की परेड कराई । राज्यपाल ने 17 मार्च को फ्लोर टेस्ट कराने के लिये सीएम कमलनाथ को निर्देश दिये ।

17 मार्च- बागी विधायकों से मिलने बेंगलुरू पहुंचे दिग्विजय सिंह, पुलिस ने हिरासत में लिया, सुप्रीम कोर्ट पहुंची भाजपा । राज्यपाल से मिलने पहुंचे शिवराज, कहा- कमलनाथ सरकार कर रही है ताबड़तोड़ नियुक्तियां

18 मार्च- मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, बागी विधायकों से सुप्रीम कोर्ट ने मिलने से किया इनकार, कमलनाथ कैबिनेट की बैठक, राज्य में तीन नये जिले के निर्माण की मंजूरी ।

19 मार्च- सुप्रीम कोर्ट में लगातार दूसरे दिन भी सुनवाई, कोर्ट ने स्पीकर से पूछा- क्या वह बागी विधायकों से वीडियो लिंक के जरिये बात कर सकते हैं। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने कमलनाथ सरकार को शुक्रवार की शाम 5 बजे फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दिया। देर रात विधानसभा अध्यक्ष ने सभी 16 बागी विधायकों का इस्तीफा मंजूर कर लिया। और कमलनाथ इस्तीफा देकर भाजपा के लिए सरकार बनाने का रास्ता साफ कर सकते हैं। अब ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि शुक्रवार को एमपी के पॉलिटिकल ड्रामा का अंत हो सकता है ।