Asianet News HindiAsianet News Hindi

बिरसा मुंडा जी ने अंग्रेजों को चुनौती दी, लेकिन सावरकर ने मांगी माफी, राहुल गांधी ने किया RSS पर हमला

राहुल गांधी मंगलवार को महाराष्ट्र के वाशिम में धरती आबा भगवान श्री बिरसा मुंडा जी के जन्मोत्सव कार्यक्रम में पहुंचे, जहां उन्होंने बीजेपी और आरएसएस पर जमकर हमला किया। साथ ही कहा कि हम भगवान बिरसा मुंडा जी के मूल्यों पर चलकर, आदिवासियों के जल-जंगल-ज़मीन की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं।

lord birsa munda birth anniversary  Rahul Gandhi  attacks BJP and RSS  in  Washim Maharashtra kpr
Author
First Published Nov 15, 2022, 6:02 PM IST

नागपुर, पूरा देश 15 नवंबर यानि मंगलवार को जनजातियों के भगवान कहे जाने वाले बिरसा मुंडा की जयंती मना रहा है। मध्य प्रदेश सरकार ने इसको लेकर शहडोल में बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया। इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुईं। इसी बीच कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा महाराष्ट्र में हैं, तो राहुल गांधी भी वाशिम में बिरसा मुंडा जी के जन्मोत्सव कार्यक्रम में पहुंचे, इस दौरान राहुल ने एक तरफ कहा कि हम भगवान बिरसा मुंडा जी के मूल्यों पर चलकर, आदिवासियों के जल-जंगल-ज़मीन की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं। तो वहीं दूसरी और उन्होंने RSS व बीजेपी पर भी निशाना साधा।

 भगवान बिरसा मुंडा अंग्रेजों के ख़िलाफ लड़े और  सावरकर ने मांगी माफी
दरअसल, राहुल गांधी आदिवासी स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा की जयंती के अवसर पर महाराष्ट्र के वाशिम जिले में एक जनसभा को संबोधित करने पहुंचे हुए थे। यहां उन्होंने सबसे पहले उनकी प्रतिमा पर फूल अर्पित कर उनको प्रणाम किया। इसके बाद अपना भाषण दिया। जहां राहुल ने कहा- एक तरफ भगवान बिरसा मुंडा हैं जो 24 साल की आयु में भारत के लिए शहीद हो गए और दूसरी तरफ RSS के सावरकर हैं जिन्होंने अंग्रेजों से माफ़ी मांगी, उनका साथ दिया और उनसे पेंशन लेते रहे। बिरसा मुंडा ने अपने प्राणों का बलिदान दे दिया। लेकिन आज उनकी  ही सोच पर आक्रमण हो रहा है। बता दें कि इस जनसभा में हजारों की संख्या में आदिवासी पहुंचे हुए थे। 

भाजपा हर रोज संविधान पर हमला करती है
दूसरी तरफ राहुल गांधी ने  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और भाजपा पर बिरसा मुंडा के आदर्शों पर चारों तरफ से हमला करने का आरोप भी लगाया। राहुल ने कहा-भाजपा हर रोज संविधान पर हमला करती है, क्योंकि वह यह स्वीकार नहीं करना चाहती कि दलितों, आदिवासियों और गरीबों को अधिकार मिलना चाहिए। उन्होंने कहा- आदिवासी देश के मूल मालिक हैं और उनके अधिकार सबसे पहले आते हैं।

यह भी पढ़ें-जनजातियों के भगवान बिरसा मुंडा की जयंती मध्य प्रदेश पहुंची राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू, पेसा एक्ट का विमोचन
 

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios