Goa को सभी दलों ने मिलकर राजनीतिक प्रयोगशाला बना दिया, BJP की मदद कर रही ममता बनर्जी की पार्टी - शिवसेना

| Jan 09 2022, 03:12 PM IST

Goa को सभी दलों ने मिलकर राजनीतिक प्रयोगशाला बना दिया, BJP की मदद कर रही ममता बनर्जी की पार्टी - शिवसेना
Goa को सभी दलों ने मिलकर राजनीतिक प्रयोगशाला बना दिया, BJP की मदद कर रही ममता बनर्जी की पार्टी - शिवसेना
Share this Article
  • FB
  • TW
  • Linkdin
  • Email

सार

संजय राउत ने अपने साप्ताहिक कॉलम में लिखा कि गोवा में टीएमसी की मौजूदगी का सबसे ज्यादा फायदा बीजेपी को ही मिल रहा। टीएमसी ने कांग्रेस समेत अन्य पार्टियों के गैर भरोसेमंद नेताओं को इकट्ठा कर लिया है। ममता बनर्जी को यह बिल्कुल भी शोभा नहीं देता। 

मुंबई : गोवा में होने जा रहे विधानसभा चुनाव (Goa Election 2022) से पहले सियासी वार-पलटवार का सिलसिला तेज हो गया है। शिवसेना (Shiv Sena) के मुखपत्र सामना में सभी सियासी दलों की जमकर आलोचना की गई है। रविवार को शिवसेना के संपादकीय में लिखा कि सभी दलों ने मिलकर गोवा को राजनीतिक प्रयोगशाला बना दिया है। 'सामना' में संजय राउत (Sanjay Raut) ने अपने साप्ताहिक कॉलम में तृणमूल कांग्रेस (TMC) पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने लिखा कि गोवा में टीएमसी की मौजूदगी का सबसे ज्यादा फायदा बीजेपी (BJP) को ही मिल रहा। टीएमसी ने कांग्रेस (congress) समेत अन्य पार्टियों के गैर भरोसेमंद नेताओं को इकट्ठा कर लिया है। ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को यह बिल्कुल भी शोभा नहीं देता। वह खुद बीजेपी के विरोध में लड़ रही हैं।

ममता का उद्देश्य उनकी छवि से बिल्कुल उलट
संजय राउत ने अपने लेख में लिखा है कि बीजेपी और पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का एक ही उद्देश्य है और वह है कांग्रेस को खत्म करना लेकिन ममता बनर्जी का भी यही उद्देश्य रखना समझ से परे है। ममता बनर्जी का यह टारगेट उनकी छवि के बिल्कुल उलट है। राउत ने आगे लिखा कि गोवा विधानसभा चुनाव में टीएमसी जरूरत से ज्यादा पैसा खर्च कर रही है। इस पैसे का स्त्रोत कहीं और है। 

Subscribe to get breaking news alerts

बीजेपी की मदद कर रही TMC
राउत ने सामना में लिखा कि गोवा में पिछले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस 17 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर सामने आई। लेकिन वर्तमान की स्थिति यह है कि उसके पास अब सिर्फ 2 सीटें ही बची है। इसकी वजह गोवा में कांग्रेस के पास मजबूत नेतृत्व नहीं होना है। उन्होंने दावा किया कि गोवा का चुनाव जीतना बीजेपी के लिए आसान नहीं है, लेकिन AAP और TMC जैसे दल बीजेपी की मदद करने के लिए कांग्रेस की राह में रोड़े अटका रहे हैं। 

गोवा को राजनीतिक प्रयोगशाला बना दिया
सामना में गोवा की मौजूदा स्थिति का जिक्र करते हुए संजय राउत ने यह भी लिखा कि सभी सियासी दलों ने मिलकर राज्य को राजनीतिक प्रयोगशाला बना दिया है। भारत निर्वाचन आयोग ने शनिवार को घोषणा की कि गोवा में सभी 40 विधानसभा सीटों पर 14 फरवरी को चुनाव होंगे। इस बार बीजेपी, कांग्रेस, गोवा फॉरवर्ड पार्टी (GFP), महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (MGP), आम आदमी पार्टी और NCP के साथ टीएमसी चुनाव मैदान में हैं।

इसे भी पढ़ें-शाहरुख खान के बंगले को परमाणु बम से उड़ाने की धमकी देने वाला गिरफ्तार, खुद को सैनिक बताकर किया था पुलिस को फोन

इसे भी पढ़ें-'कुर्सी पर बैठ कर गांजा पीने वाले कंफ्यूजन ना फैलाएं, जानिए मुंबई की मेयर को क्यों ऐसा कहना पड़ा...

 
Read more Articles on