Asianet News Hindi

मेरठ में AAP की किसान पंचायत में बोले केजरीवाल- 'लाल किले का कांड BJP ने कराया'

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ लंबे समय से चले आ रहे किसान आंदोलन के साथ AAP भी मैदान में उतर आई है। रविवार को यूपी के मेरठ स्थित संस्कृति रिजॉर्ट में किसान पंचायत रखी गई थी। इसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शामिल हुए। इसमें केजरीवाल ने कहा कि देश का किसान पीड़ा में है। केजरीवाल ने दिल्ली हिंसा को भाजपा की साजिश बताया।

Aam Aadmi Party Kisan Panchayat in Meerut, Arvind Kejriwal will address kpa
Author
Meerut, First Published Feb 28, 2021, 9:42 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मेरठ, यूपी. आम आदमी पार्टी(AAP)  ने रविवार को मेरठ में किसान महापंचायत आयोजित की। मेरठ बाइपास स्थित संस्कृति रिजॉर्ट में दोपहर बाद हुई इस पंचायत में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शामिल हुए। बता दें कि केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान नेता राकेश टिकैत देशभर में किसान पंचायत कर रहे हैं। बेशक किसान नेताओं ने आंदोलन को राजनीति से दूर रखने का ऐलान किया था, लेकिन अब कांग्रेस, आप और अन्य दल इसमें उतर आए हैं। पिछले दिनों कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी किसान महापंचायत में पहुंची थीं। पंचायत में केजरीवाल ने कहा कि देश का किसान पीड़ा में है, 70 साल से किसानों को धोखा दिया जा रहा है। 95 दिनों से कड़कती ठंड में किसान भाई दिल्ली के बॉर्डर पर बैठे हैं। 250 से ज़्यादा​ किसान शहीद हो चुके हैं लेकिन सरकार पर जूं नहीं रेंग रही।

केजरीवाल ने कहा

केजरीवाल ने 26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा के लिए भाजपा को दोषी ठहराया है। केजरीवाल ने कहा कि लाल किले का पूरा कांड बीजेपी सरकार ने कराया। जिन्होंने झंडे फहराए, वे उनके कार्यकर्ता थे। केंद्र सरकार की प्लानिंग थी कि किसानों को दिल्ली में आ जाने दो, फिर उन्हें जेल में डालेंगे। उन्होंने मेरे पास फाइल भेजी कि दिल्ली के 9 बड़े स्टेडियम जेल बनाना है। केजरीवाल ने कहा कि किस्मत अच्छी है कि जेल बनाने का अधिकार उनके पास है। केंद्र सरकार ने पहले प्यार से फिर धमकाया, लेकिन उन्होंने जेल नहीं बनने दी। क्योंकि अगर किसानों को जेल में डाल देते, तो आंदोलन खत्म हो जाता।


केजरीवाल ने कहा कि जब किसान नेता राकेश टिकैत रोए, तो उनसे देखा नहीं गया। किसानों पर लाठियां बरसाई जा रही हैं, कीलें ठोंकी जा रही हैं। ऐसा तो अंग्रेजों ने भी हमारे किसानों के साथ नहीं किया होगा। मोदी ने अपने पूंजीपति मित्रों को फायदा पहुंचाने यह कानून पास कराया है। इसस कानून के चलते किसानों के के पूंजीपतियों के हाथ में चले जाएंगे।

आप की रणनीति
किसान आंदोलन के जरिये आप यूपी में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर अपनी ताकत दिखाना चाहती है। अगले साल होने जा रहे चुनाव में आप सभी सीटों से अपने प्रत्याशी उतारने का ऐलान कर चुकी है। 21 फरवरी को दिल्ली में अरविंद केजरीवाल ने किसान नेताओं से बातचीत की थी। इसमें उन्होंने किसान नेताओं को कानून से होने नुकसानों से अवगत कराया था। इससे पहले केजरीवाल दिल्ली बॉर्डर पर किसान नेताओं से जाकर भी मिले थे।

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios