Asianet News HindiAsianet News Hindi

Weather Report: चक्रवाती तूफान सितरंग की रवानगी के बाद सामान्य हो रहा मौसम, जानिए IMD की भविष्यवाणी

चक्रवाती तूफान सितरंग(Sitrang) के निकलने के बाद अब मौसम सामान्य हो रहा है। सितरंग से भारत के असम में 1000 से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। तूफान का सबसे अधिक असर बांग्लादेश में दिखाई दिया। यहां 28 से अधिक लोग मारे गए हैं। लगभग 10,000 घर नष्ट हो गए हैं।

After Effects of Cyclone Sitarang, Weather Report and Rain Alert kpa
Author
First Published Oct 27, 2022, 6:56 AM IST

मौसम डेस्क. चक्रवाती तूफान सितरंग(Sitrang)  उर्फ सीतांग के निकलने के बाद अब मौसम सामान्य हो रहा है। सितरंग से भारत के असम में 1000 से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। तूफान का सबसे अधिक असर बांग्लादेश में दिखाई दिया। यहां 28 से अधिक लोग मारे गए हैं। लगभग 10,000 घर नष्ट हो गए हैं और लाखों अन्य लोग बिजली के बिना संघर्ष कर रहे हैं। 80 किलोमीटर (55 मील) प्रति घंटे की रफ्तार वाली हवाओं के साथ चक्रवात ने देश के घनी आबादी वाले निचले तटीय क्षेत्र में तबाही का निशान छोड़ दिया है। यहां लाखों लोग रहते हैं। बांग्लादेश सरकार ने कहा कि लगभग 10,000 टीन की छत वाले घर या तो नष्ट हो गए या क्षतिग्रस्त हो गए। अब जानिए आगे के मौसम का हाल...

भारत में बारिश वाले प्रदेश
भारतीय मौसम विभाग(IMD) ने कहा कि आजकल में उत्तर पश्चिम और मध्य भारत के अधिकांश हिस्सों में उत्तर पश्चिमी हवाओं के जारी रहने की संभावना है। देश के अधिकांश हिस्सों में मौसम शुष्क रहने की संभावना है। असम, अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश होने की संभावना है। अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में एक या दो स्थानों पर मध्यम बारिश हो सकती है। तटीय आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और केरल में छिटपुट हल्की बारिश हो सकती है।(बांग्लादेश की तस्वीर)

मेघालय में सितरंग का असर
चक्रवात सितरंग के मेघालय में तबाही के निशान छोड़ने के बीच मुख्यमंत्री कोनराड के संगमा(Conrad K Sangma) ने बुधवार को कहा कि प्रभावित परिवारों को हर संभव सहायता सुनिश्चित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने सभी 12 जिलों के डिप्टी कमिश्नर की बैठक में चक्रवात के बाद राज्य की स्थिति की समीक्षा की। रिवेन्यु एंड डिजास्टर मैनेजमेंट डिपार्टमेंट्स पूरे जोश के साथ काम कर रहे हैं और प्रभावित परिवारों को हर संभव सहायता प्रदान करने का प्रयास किया जा रहा है। 

सितरंग ने मंगलवार तड़के राज्य में सैकड़ों घरों को क्षतिग्रस्त कर दिया था और बिजली के खंभे उखड़ गए थे।  बारिश ने अचानक बाढ़ ला दी, जिससे धान और आलू की फसल नष्ट हो गई। सीएम ने कहा कि राज्य में चक्रवाती तूफान से बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई है। मेघालय ऊर्जा निगम लिमिटेड प्राथमिकता के आधार पर बहाल करने के लिए काम कर रहा है। संगमा ने कहा कि स्थिति कमोबेश सामान्य हो रही है। राज्य के विभिन्न हिस्सों में सभी प्रभावित परिवारों को हर संभव सहायता सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। कम से कम चार जिलों ने मंगलवार को स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया था, क्योंकि मौसम विभाग ने बांग्लादेश की सीमा से लगे पूर्वी जिलों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश की भविष्यवाणी की थी। 

भारत के इन राज्यों में हुई बारिश 
स्काईमेट वेदर(skymet weather) के अनुसार, पिछले 24 घंटों के दौरान, असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश हुई। शेष पूर्वोत्तर भारत, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, दक्षिण तमिलनाडु दक्षिण, दक्षिण केरल और लक्षद्वीप में हल्की बारिश हुई। बाकी देश में मौसम शुष्क बना रहा। दिल्ली और एनसीआर में वायु प्रदूषण बहुत खराब श्रेणी में रहा।

यह भी पढ़ें
खुशी पर धुंध: अरविंद केजरीवाल के Tweet के अगले ही दिन दिल्ली की हवा बेहद खराब, जानिए पूरी डिटेल्स
ब्लू बीच की लिस्ट में शामिल हुए लक्षद्वीप के 2 समुद्र तट तो PM मोदी ने जताई खुशी, स्वच्छता के लेकर की ये बात

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios