पटना. कथित तौर पर फोन कर बीजेपी विधायक ललन पासवान को पैसे का लालच देने के मामले में RJD सुप्रीमो लालू यादव पर FIR दर्ज की गई है। लालू पर केस दर्ज करवाने वाले बीजेपी विधायक ललन पासवान ने पत्रकारों से बातचीत की। बातचीत के दौरान बीजेपी विधायक ने कहा कि बिहार का सबसे गरीब विधायक होने के साथ ही मैं दलित हूं। यह आम धारणा है कि दलित व गरीब आदमी बिकाऊ होता है। यह धारणा कब बदलेगी। सामाजिक न्याय के पुरोधा कहे जाने वाले लालू प्रसाद ने जिस तरह से फोन कर मुझे खरीदने की कोशिश की, उससे दुखी हूं।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही कथित तौर पर RJD सुप्रीमो व पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने बीजेपी विधायक ललन पासवान को बिहार विधानसभा अध्यक्ष चुनाव में महागठबंधन उम्मीदवार का साथ देने के लिए प्रलोभन दिया था। इसी मामले में विधायक ने लालू यादव के खिलाफ पटना में एफआईआर दर्ज कराई है। गुरुवार को प्रदेश भाजपा कार्यालय में ललन पासवान ने कहा कि मैं पढ़ा-लिखा और स्वाभिमानी हूं। राष्ट्रवादी राजनीति कर रहा हूं। हमने प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत निगरानी थाने में मुकदमा किया है। मुझे कानून पर भरोसा है और उम्मीद है कि मुझे न्याय मिलेगा। 

मै एक साधारण कार्यकर्ता हूं: ललन पासवान 
बीजेपी विधायक ललन पासवान ने कहा कि पहले जब बातचीत का हवाला दिया तो ऑडियो की मांग की गई। जब ऑडियो सामने आया तो अब राजद इसे झूठा बताने में लगा है। हकीकत है कि अगर देश में लोकतंत्र नहीं होता तो लालू प्रसाद हों या मुझ जैसा गरीब ललन पासवान जैसा आदमी, कोई जानने वाला नहीं होता। लेकिन लालू प्रसाद लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। मैं एक साधारण कार्यकर्ता हूं और रहूंगा।

लोकतंत्र में मेरी पूरी आस्था: पासवान 
बीजेपी विधायक ललन पासवान ने कहा कि 20 वर्षों से सामाजिक जीवन में हूं। मुझ जैसे नए और लोकतंत्र में पूरी आस्था रखने वाले विधायक के साथ जिस तरह से लालू प्रसाद ने प्रलोभन देने की कोशिश की है, यह अत्यंत चिंताजनक है। मुझे इस बात का बहुत अफसोस है। पहले मैं तो बहुत खुश हुआ था कि एक बड़े राजनेता ने मुझे विधायक चुने जाने पर बधाई देने के लिए फोन किया है। लेकिन जब उन्होंने मुझे सरकार गिराने की साजिश में शामिल करने की कोशिश की तो दुख हुआ।