Asianet News HindiAsianet News Hindi

ओवैसी के विधायक के बिगड़े बोल; कहा, हम शांति बनाए रखना जानते हैं तो भंग कैसे करना है ये भी...

महाराष्ट्र के मालेगांव में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के एक विधायक मुफ्ती मोहम्मद इस्माइल ने भड़काऊ बयान देते हुए कहा, 'अगर हम शांति बनाए रखना जानते हैं, तो यह भी जानते हैं कि शांति कैसे जाती है। हमने चूड़ियां नहीं पहन रखी हैं।'
 

AIMIM MLA Mufti Mohd Ismail said  if we know to maintain peace,we also know how peace would go away kps
Author
Malegaon, First Published Mar 2, 2020, 10:20 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मालेगांव. महाराष्ट्र के मालेगांव में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के एक विधायक ने भड़काऊ बयान दिया है। न्यूज एजेंसी एएनआई द्वारा जारी किए गए एक विडियो में विधायक मुफ्ती मोहम्मद इस्माइल कहते हुए दिखाई दे रहे हैं कि अगर हम शांति बनाए रखना जानते हैं तो यह भी जानते हैं कि इसे भंग कैसे करना है। 

क्या कहा इस्माइल ने? 

विधायक इस्माइल ने मालेगांव में एक रैली के दौरान कहा, 'शहर में फायरिंग की घटना हुई, एफआईआर क्यों नहीं दर्ज की गई? अगर ये हमारे पास आते हैं तो विभाग (पुलिस विभाग) को ध्यान देना चाहिए कि अगर हम शांति बनाए रखना जानते हैं, तो यह भी जानते हैं कि शांति कैसे जाती है। हमने चूड़ियां नहीं पहन रखी हैं।'

बढ़ा विवाद तो पेश की सफाई 

इस्माइल का बयान सामने आने के बाद चौतरफा हमला शुरू हो गया। जिसके बाद इस्माइल ने सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने यह बयान महाराष्ट्र या भारत के लिए नहीं बल्कि शहर के संदर्भ में दिया था। इस्माइल ने कहा, 'इसे मैंने अपने शहर के संदर्भ में कहा था। यह महाराष्ट्र या भारत से जुड़ा हुआ नहीं है। फायरिंग जो हमारे लोगों (एआईएमआईएम के रिजवान खान के घर पर) के करीब हुई उस पर मैंने यह बात कही थी। इस संदर्भ में मैंने कहा कि हम शांति बनाए रखने में विभाग की मदद करते हैं, अगर हम ऐसा करना छोड़ दें तो शांति बाधित होगी।'

वारिस पठान ने भी दिया था भड़काऊ बयान 

AIMIM नेता वारिस पठान ने असदुद्दीन ओवैसी के सामने ही हिंदुओं को धमकी दी थी। उन्होंने कहा था, "आजादी लेनी पड़ेगी और जो चीज मांगने से नहीं मिलती उसे छीनकर लेना पड़ेगा। हम (मुसलमान) 15 करोड़ हैं, लेकिन 100 करोड़ (हिंदू) पर भारी हैं। उन्होंने शाहीन बाग में बैठी महिलाओं को शेरनियां बताया था। वारिस पठान ने कहा था, "हमको कह रहे हैं कि अपनी मां-बहनों को आगे भेज दिया और खुद छिप गए हैं। अभी तो सिर्फ शेरनियां बाहर निकली हैं और तुम्हारे पसीने छूट गए। समझ लो कि अगर हम लोग साथ में आ गए तो क्या होगा?" 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios