नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख में चीन से चल रहे विवाद को लेकर कांग्रेस और राहुल गांधी लगातार केंद्र सरकार पर निशाना साध रहे हैं। इस मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह ने जवाब दिया। समाचार एजेंसी एएनआई को दिए इंटरव्यू में अमित शाह ने कहा, राहुल गांधी ओछी राजनीति कर रहे हैं। हम चीन के मामले में हर मुद्दे पर बात करने को तैयार हैं।

शाह ने कहा, संसद चलनी है। चर्चा करनी है तो आइए करेंगे। 1962 से आज तक दो दो हाथ हो जाएं। हम चर्चा से नहीं डरते। उन्होंने कहा, लेकिन जब हमारे जवान संघर्ष कर रहे हैं, सरकार ठोस कदम उठा रही है। उस वक्त ऐसे बयान देना, जिनसे पाकिस्तान और चीन को खुशी हो, यह ठीक बात नहीं है। 

सरेंडर मोदी जैसे बयानों पर बढ़ रहा चीन और पाकिस्तान का मनोबल
शाह ने कहा, इस दौरान राहुल गांधी को यह समझना चाहिए कि उनके बयानों जैसे सरेंडर मोदी को पाकिस्तान और चीन में सराहा जा रहा है। उन्होंने कहा, सरकार भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा चलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने में सक्षम है। लेकिन यह उस वक्त ज्यादा कष्टदायक हो जाता है, जब एक बड़ी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष संकट के वक्त इस तरह की राजनीति में शामिल हों। 

क्या घाटी में पर चीनी सैनिकों का कब्जा है?
इस सवाल पर अमित शाह ने कहा, अभी यह सही वक्त नहीं है कि वे एलएसी की स्थिति के बारे में कुछ बोलें। उन्होंने कहा, इस बारे में समय समय पर ब्रीफिंग हो रही है। अगर जरूरत पड़ेगी तो वे इसका जवाब देंगे। 

पीएम मोदी के नेतृत्व में हम दोनों युद्ध जीतेंगे
शाह ने कहा, मैं एक बात साफ कर दूं कि पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत दोनों युद्ध (कोरोना और पूर्वी लद्दाख) में जीतेगा।