नई दिल्ली. केंद्र ने मंगलवार को केंद्र शासित राज्यों को सलाह दी है कि वे कोरोना के खिलाफ अपनी रणनीतियां और योजनाएं पहले से ही बना कर रखें, क्योंकि अगले तीन हफ्ते महामारी के खिलाफ जंग में काफी विकट होने वाले हैं। यह बात नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने राज्य के मुख्य सचिवों और पुलिस प्रमुखों के साथ बैठक में कही। 

इस उच्च स्तरीय बैठक में वीके पॉल ने कहा कि कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए उठाए जाने वाले कदमों के लिए अहम होंगे। 

राज्यों को दी गई सलाह
इस बैठक में केंद्र शासित राज्यों को सलाह दी गई है कि वे तीन हफ्तों के लिए योजनाएं बनाएं और कोरोना संक्रमण के मामलों की पहचान के लिए सर्वे करें। कोरोना के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला और केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण की अध्यक्षता में यह बैठक हुई। इस बैठक में वीके पॉल के अलावा आईसीएमआर के डीजी बलराम भार्गव भी शामिल हुए। 

मृत्यु दर में आई कमी- डॉ हर्षवर्धन
स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि कोरोना मृत्यु दर कम हो रही है। इतना ही नहीं उन्होंने कहा, केंद्र कोरोना के खिलाफ लगातार सुविधाएं बढ़ा रहा है। अस्थाई अस्पताल बनाए जा रहे हैं। हर्षवर्धन ने कहा, लोग पैनिक हैं, उन्हें सही सलाह मिलनी चाहिए। उनकी बातें सुनी जानी चाहिए। 

देश में 2084 कोरोना डडेडीकेटेड हॉस्पिटल
 स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, आज देश में कोरोना डडेडीकेटेड 2084 हॉस्पिटल हैं। जबकि 12 हजार से ज्यादा क्वारंटीन सेंटर हैं। इसके अलावा 12.71 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है।