Asianet News HindiAsianet News Hindi

Corona के नए वेरिएंट का कहर: अफ्रीका, हांगकांग, बोत्सवाना के यात्रियों की विशेष स्क्रीनिंग-टेस्टिंग का आदेश

यूरोप (Europe) में तेजी से फैल रहा कोरोना अब दक्षिण अफ्रीका (South Africa) और बोत्सवाना (Botswana) में नए रूप में सामने आया है। वायरस के नए म्यूटेंट ने दुनिया के वैज्ञानिकों और डब्ल्यूएचओ (WHO) को चिंता में डाल दिया है।

Corona new variant in South Africa Botswana Hongkong, India Alerts states for careful Screening and Testing of travellers DVG
Author
New Delhi, First Published Nov 25, 2021, 10:16 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। भारत ने दक्षिण अफ्रीका (South Africa), हांगकांग (Hong Kong) और बोत्सवाना (Botswana) से आने वाले यात्रियों की बारीकी से स्क्रीनिंग और टेस्टिंग का आदेश दिया है। गुरुवार को केंद्र सरकार ने आदेश जारी किया। इन देशों में कोविड-19 (Covid-19) वायरस के नए वेरिएंट के मिलने से हड़कंप मचा हुआ है। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लिखे एक पत्र में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि पॉजिटिव पाए जाने वाले यात्रियों के सैंपल्स तुरंत जीनोम सिक्वेंसिंग लैब्स में भेज दिए जाएं। अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के संपर्कों को भी बारीकी से ट्रैक और टेस्ट किया जाना चाहिए।

डब्ल्यूएचओ ने जताई है चिंता

यूरोप (Europe) में तेजी से फैल रहा कोरोना अब दक्षिण अफ्रीका (South Africa) और बोत्सवाना (Botswana) में नए रूप में सामने आया है। वायरस के नए म्यूटेंट ने दुनिया के वैज्ञानिकों और डब्ल्यूएचओ (WHO) को चिंता में डाल दिया है। गुरुवार को वायरस के नए वेरिएंट से लड़ने के लिए मंथन हुआ। यूसीएल जेनेटिक्स इंस्टीट्यूट (UCL Genetics Institute) के निदेशक फ्रेंकोइस बॉलौक्स (Francois Balloux) ने साइंस मीडिया सेंटर में बताया कि बी.1.1529 (B.1.1529) नामक वायरस नए संस्करण (new variant) में असामान्य रूप से बड़ी संख्या में म्यूटेशन कर रहा है। वायरस का नया संस्करण इम्यूनिटी डेवलप कर चुके व्यक्ति में क्रोनिक इंफेक्शन पैदा कर रहा है, विशेषकर एचआईवी मरीजों के लिए यह खतरा उत्पन्न कर सकता है। 

निदेशक फ्रेंकोइस बॉलौक्स ने बताया कि फिलहाल यह अनुमान लगाना मुश्किल है कि इस स्तर पर यह कितना ट्रांसमिसिबल हो सकता है। कुछ समय के लिए, इसकी बारीकी से निगरानी और विश्लेषण किया जाना चाहिए। हालांकि, उन्होंने कहा कि अत्यधिक चिंतित होने का कोई कारण नहीं है, जब तक कि निकट भविष्य में फ्रीक्वेंसी में वृद्धि शुरू न हो जाए।

दक्षिण अफ्रीका में नए म्यूटेंट के 22 केस सामने आए

नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिजीज ने एक बयान में कहा कि दक्षिण अफ्रीका ने इस प्रकार के 22 मामलों का पता लगाया है। एनसीडीसी (नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल) ने कहा कि बोत्सवाना में 3 मामले और हॉनकॉंग में 1 मामला COVID-19 के नए वेरिएंट का सामने आया है।

एनआईसीडी के कार्यकारी कार्यकारी निदेशक एड्रियन प्योरन (Adrian Puren) ने बयान में कहा कि यह आश्चर्य की बात नहीं है कि दक्षिण अफ्रीका में एक नए संस्करण का पता चला है। हमारे पास डेटा सीमित हैं, हमारे विशेषज्ञ नए संस्करण को समझने के लिए सभी स्थापित निगरानी प्रणालियों के साथ दिन-रात काम कर रहे हैं ताकि इससे होने वाले खतरे का आंकलन किया जा सके। हम इस नए संस्करण को समझने में काफी हद तक आगे बढ़ चुके हैं और जल्द ही पूरा डिटेल सबके सामने होगा। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि रिपोर्ट किए गए संस्करण की बारीकी से निगरानी कर रहा है और यह निर्धारित करने के लिए शुक्रवार को एक तकनीकी मीटिंग भी बुलाई गई है।

यह भी पढ़ें:

Manish Tewari की किताब से असहज हुई Congress: अधीर रंजन चौधरी ने दी नसीहत, पूछा-अब होश में आए हैं, उस समय क्यों नहीं बोला

महाराष्ट्र कोआपरेटिव चुनाव में महाअघाड़ी को झटका, एनसीपी विधायक को बागी ने एक वोट से हराया, गृहराज्यमंत्री भी हारे

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios