Asianet News Hindi

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की तबीयत बिगड़ी, नेवी के वाइस एडमिरल श्रीकांत की कोरोना से मौत

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की तबीयत अचानक बिगड़ गई है। अनिल विज 5 दिसंबर को कोरोना संक्रमित पाए गए थे। पीजीआई रोहतक से गुरुग्राम के मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। अनिल विज के फेफड़े में इंफेक्शन है।  20 नवंबर को ही उन्होंने कोरोना वैक्सीन (कोवैक्सिन) का ट्रायल डोज दिया गया था। 

corona positive haryana minister anil vij shifted to medanta gurugram KPP
Author
Haryana, First Published Dec 15, 2020, 7:54 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की तबीयत अचानक बिगड़ गई है। अनिल विज 5 दिसंबर को कोरोना संक्रमित पाए गए थे। पीजीआई रोहतक से गुरुग्राम के मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। अनिल विज के फेफड़े में इंफेक्शन है।  20 नवंबर को ही उन्होंने कोरोना वैक्सीन (कोवैक्सिन) का ट्रायल डोज दिया गया था। वहीं, नेवी के सबमरीन एक्पर्ट वाइस एडमिरल श्रीकांत का सोमवार को कोरोना से निधन हो गया। वे प्रोजेक्‍ट सी-बर्ड के डायरेक्‍टर जनरल थे। एडमिरल श्रीकांत NDC के इंस्पेक्टर जनरल न्यूक्लियर सेफ्टी और कमांडेंट भी रह चुके हैं। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी उनकी मौत पर शोक व्यक्त किया।

अनिल विज के संक्रमित होने पर सवाल उठने लगे थे कि क्या भारत बायोटेक की कोवैक्सिन फेल हो गई है? डोज देने के बाद भी अनिल विज संक्रमित कैसे हो गए? इन सवालों पर भारत बायोटेक ने जवाब भी दिया था। 

क्या कोवैक्सिन फेल हो गई?
क्या कोवैक्सिन फेल हो गई..इस सवाल के जवाब में भारत बायोटेक ने कहा था कि कोवैक्सिन का क्लिनिकल ट्रायल 2 डोज के आधार पर किया जाएगा। दोनों डोज के बीच में 14 दिन का गैप होना चाहिए। दोनों डोज के लिए 28 दिन का वक्त होता है। अनिल विज को अभी पहली ही डोज दी गई है। फेज-3 ट्रायल्‍स डबल-ब्‍लाइंडेड और रैंडमाइज्‍ड हैं (जहां ट्रायल में शामिल) 50% पार्टिसिपेंट्स को वैक्‍सीन और 50% को प्‍लेसीओ दिया जाता है।

अक्टूबर में तीसरे चरण के लिए मिली थी अनुमित
भारत बायोटेक संयुक्त रूप से कोवैक्सिन को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के साथ काम कर रहा है। अक्टूबर में ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने भारत में कोवैक्सिन (Covaxin) के लिए चरण- III परीक्षण करने के लिए भारत बायोटेक को अनुमति दी थी। तीसरे चरण के लिए देश भर के 26,000 स्वयंसेवकों को दिया गया है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios