मुंबई. देश में कोरोना का सबसे बड़ा खतरा महाराष्ट्र में है। इस बीच जलगांव जिले से कोरोना से जुड़ी ऐसी ही एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। यहां सिविल अस्पताल में एक कोरोना मरीज का शव 8 दिन से बाथरूम में पड़ा था। उसे उठाने वाला कोई नहीं था। जिस महिला को शव मिला उसे उसके घर वाले खोज रहे थे। गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी।

Image

2 जून को दर्ज हुई रिपोर्ट
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2 जून को बुजुर्ग महिला के परिजनों ने रिपोर्ट दर्ज कराई। दरअसल, 80 साल की इस बुजुर्ग महिला को इलाज के लिए भुसावल रेलवे अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। महिला की हालत बिगड़ी तो इसे 1 जून को जलगांव के सिविल अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। 

Image

जांच में महिला कोरोना पॉजिटिव निकली
जलगांव के सिविल अस्पताल में जांच हुई तो महिला कोरोना पॉजिटिव निकली। लेकिन रिपोर्ट आने के दूसरे दिन से ही महिला गायब हो गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अस्पताल प्रशासन ने महिला को बहुत खोजा, लेकिन वह कहीं नहीं मिली। इसके बाद परिजनों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी। 

Image

8 दिन बाद मिली जानकारी
10 जून की सुबह किसी ने जानकारी दी कि एक बुजुर्ग महिला का शव अस्पताल के बाथरूम में पड़ा है। बुजुर्ग को देखने पर पता चला कि यह वही महिला थी, जिसकी पिछले 8 दिनों से खोजबीन की जा रही थी। 

Image

अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप
जलगांव के जिलाधिकारी अविनाश डांगे ने कहा, यह अस्पताल प्रशासन की बड़ी लापरवाही है। अस्पताल के बाथरूम को हर दिन साफ किया जाता है। ऐसे में किसी भी व्यक्ति की नजर महिला के शव पर क्यों नहीं पड़ी। इस मामले में कार्रवाई की बात कही गई है।