Asianet News HindiAsianet News Hindi

Air Polution : दिल्ली - NCR में वर्क फ्रॉम होम का प्लान, इंडस्ट्रीज, कंस्ट्रक्शन भी बंद होंगे

दिल्ली (Delhi) की वायु गुणवत्ता (Air Quality) अभी सुधरती नहीं दिख रही है। इस मुद्दे को लेकर दिल्ली सरकार सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के कठघरे में है। अदालत ने उससे एक्शन प्लान मांगा है।

Delhi Air polutio Supreme court Kejriwal CPCB
Author
New Delhi, First Published Nov 16, 2021, 12:28 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी (Delhi) में मंगलवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI)के 396 पर रहा। यानी लगातार तीसरे दिन यहां की वायु गुणवत्ता (Air Quality) बहुत खराब श्रेणी में रही। प्रदूषण से बिगड़े दिल्ली-एनसीआर (NCR) के हालात देखते हुए दिल्ली (Delhi) सरकार ने नया प्लान बनाया है। मंगलवार को दिल्ली के पर्यावरण मंत्री के साथ पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के अधिकारियों की मीटिंग हुई। इसमें दिल्ली सरकार ने पूरे NCR में वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) की प्लानिंग की है। दिल्ली में कई पाबंदियां पहले ही लगाई जा चुकी हैं। एनसीआर में आने वाले इन तीनों राज्यों में कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी भी रोकने और इंडस्ट्री बंद करने की मांग रखी गई है। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को आदेश दिया था कि प्रदूषण से निपटने का प्लान बनाएं। इसके लिए उसने NCR राज्यों के साथ मीटिंग करने केआदेश दिए थे। कोर्ट ने ही NCR में वर्क फ्रॉम होम करने की सलाह दी थी। 

पड़ोसी शहरों में कितना AQI
गाजियाबाद : 349
ग्रेटर नोएडा : 359 
गुड़गांव : 363 
नोएडा : 382  

दिल्ली सरकार लॉकडाउन लगाने के पक्ष में 
दिल्ली की केजरीवाल (Kejriwal) सरकार ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि वह प्रदूषण की समस्या से निजात पाने के लिए लॉकडाउन लगाने को तैयार है। हालांकि, कोर्ट ने उससे एक्शन प्लान मांगा था। यह एक्शन प्लान सरकार आज कोर्ट में पेश करेगी। इस मामले पर कल भी सुनवाई होनी है।

दिल्ली में कई जगह AQI 400 के पार
वायु प्रदूषण के बारे में जानकारी देने वाले समीर एप के अनुसार, दिल्ली में अधिकतर केंद्रों में एक्यूआई बहुत खराब श्रेणी में दर्ज किया गया। द्वारका सेक्टर-8, पटपड़गंज, अलीपुर, शादीपुर, डीटीयू और पंजाबी बाग जैसे कुछ स्थानों पर एक्यूआई 400 के पार रहने के साथ ही गंभीर श्रेणी में रहा। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के अनुसार, दिल्ली का औसतन एक्यूआई 396 रहा। अभी इसमें सुधार की गुंजाइश कम ही दिख रही है। गौरतलब है कि सोमवार को वायु प्रदूषण के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने दिल्ली सरकार को कड़ी फटकार लगाई थी। उसने केजरीवाल (Kejriwal) सरकार से कहा था कि आप वायु प्रदूषण की बजाय प्रचार वाले स्लोगनों (Ads) पर ज्यादा खर्च कर रहे हैं। कोर्ट ने केंद्र सरकार से आपात बैठक बुलाने और दिल्ली, पंजाब और हरियाणा सरकारों को एक साथ बैठाकर प्रदूषण की समस्या का हल निकालने को कहा था। 

 
50 तक AQI माना जाता है अच्छा 
शून्य से 50 के बीच AQI अच्छा माना जाता है। 51 से 100 के बीच संतोषजनक, 101 से 200 के बीच मध्यम, 201 से 300 के बीच खराब, 301 से 400 के बीच बहुत खराब और 401 से 500 के बीच यह गंभीर माना जाता है। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने रविवार को कहा था कि उनके विभाग ने, वायु प्रदूषण से निपटने के लिए शहर सरकार द्वारा घोषित आपातकालीन उपायों के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए एक अधिसूचना जारी की है।  

यह भी पढ़ें
Delhi के प्रदूषण पर SC सख्त: केंद्र को तत्काल इमरजेंसी प्लान लागू करने का आदेश, कहा: किसानों को कोसना फैशन बना
इमेज चमकाने केजरीवाल ने हर महीने विज्ञापन पर खर्च किए 50 करोड़ रुपए, वायु प्रदूषण का मंथली बजट सिर्फ 10 करोड़


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios