नई दिल्ली. शनिधाम के संस्थापक दाती महाराज को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। दाती महाराज पर आरोप है कि उन्होंने दक्षिणी दिल्ली के एक मंदिर में धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किया। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग भी तार-तार हो गई। शुक्रवार को असोला स्थित दाती महाराज के शनिधाम मंदिर में हुए आयोजन की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर हो रही थीं। उनके खिलाफ इस संबंध में केस भी दर्ज हुआ था।

दिल्ली पुलिस ने इसी सिलसिले में दाती महाराज को गिरफ्तार किया। हालांकि बाद में उन्हें जमानत मिल गई। पुलिस का कहना है कि लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करते हुए दाती महाराज ने लोगों को मंदिर में जुटाया। मैदान गढ़ी पुलिस स्टेशन में दाती महाराज और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ केस दर्ज हुआ था।

22 मई को शनि जयंती पर किया आयोजन

पुलिस ने जांच के दौरान पाया कि शुक्रवार को शनिधाम मंदिर के मुख्य पुजारी दाती महाराज ने कुछ अन्य लोगों के साथ रात साढ़े 7 बजे कार्यक्रम आयोजित किया था। दाती महाराज के खिलाफ महामारी ऐक्ट समेत कई धाराओं में केस दर्ज हुआ था। जांच में पता चला कि दाती महाराज के कहने पर ही मंदिर में लोगों की भीड़ जुटी थी। मंदिर के सामने चस्पा पोस्टर में लिखा था कि शनि जयंती महोत्सव पर श्रद्धालु 22 मई को मंदिर में आएं। जो वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए, उनमें बच्‍चों से लेकर बूढ़ों तक को देखा जा सकता है। बहुतों के चेहरों पर मास्‍क भी नहीं था। सोशल डिस्‍टेंसिंग की बात तो छोड़ ही दीजिए।

दाती महाराज पर रेप का आरोप

दाती महाराज उर्फ दाती मदन लाल राजस्थानी पर अपने सहयोगियों के साथ मिलकर 25 साल की महिला से रेप की घटना को अंजाम देने का आरोप है। दाती महाराज और अशोक, अर्जुन व अनिल के खिलाफ CBI ने एफआईआर भी दर्ज कर रखी है। उनके फतेहपुर बेरी आश्रम में 9 जनवरी 2016 में यह कथित घटना हुई। दिल्ली पुलिस ने जून 2018 में दिल्ली की पीड़िता की शिकायत पर मामला दर्ज किया था। बाद में दाती महाराज व अन्य पर चार्जशीट भी दाखिल की थी।