Asianet News Hindi

पाकिस्तान को पता था, भारत घुसकर मारेगा; लेकिन कहां, ये उसे अंदाजा भी नहीं था; धनोआ

पिछले साल 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना ने बालाकोट में एयरस्ट्राइक की थी। बालाकोट के एक साल होने पर पूर्व वायुसेना चीफ बीएस धनोआ ने कहा, पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान को पता था कि भारत उनके देश में हमला करेगा, लेकिन उसे ये अंदाजा बिल्कुल नहीं था कि ये हमला बालाकोट में होगा। 

former IAF Chief on Balakot airstrike, Pakistan had no doubt that the Indian will respond KPP
Author
New Delhi, First Published Feb 26, 2020, 10:53 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. पिछले साल 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना ने बालाकोट में एयरस्ट्राइक की थी। बालाकोट के एक साल होने पर पूर्व वायुसेना चीफ बीएस धनोआ ने कहा, पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान को पता था कि भारत उनके देश में हमला करेगा, लेकिन उसे ये अंदाजा बिल्कुल नहीं था कि ये हमला बालाकोट में होगा। 

उन्होंने कहा, पाकिस्तान को तकनीकी रूप से बालाकोट एयरस्ट्राइक के बारे में तब जानकारी हुई, जब भारत की सरकार ने कार्रवाई की सफलता की पुष्टि की। उन्होंने कहा, यहां तक की पाकिस्तान का कोई विमान हमारे बेडे के 150 किमी तक पास नहीं था। 

भारत ने बालाकोट में किए थे आतंकी कैंप तबाह
जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को आतंकी हमला हुआ था। इस हमले में 40 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए थे। भारतीय वायुसेना ने इस हमले का जवाब दिया था। भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में बम बरसाए थे। इस हमले में जैश ए मोहम्मद के कैंप तबाह कर दिए थे। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि इस हमले में करीब 300 आतंकी मारे गए। 

बीएस धनोआ ने कहा, जहां तक पाकिस्तान की बात है। उन्हें हमारे टारगेट के बारे में भी जानकारी नहीं थी। उन्हें ये भी जानकारी नहीं थी कि हमने किस तरह के हथियार इस्तेमाल किए। ब्लास्ट से पहले ये कैसे मार करेंगे। इन सबका उनको अंदाजा भी नहीं था। 

पाकिस्तान को पता था हम जवाब देंगे
उन्होंने बताया, बहावलपुर में जैश का हेडक्वार्टर है। पाकिस्तान को यह लगता था कि हम जैश को संदेश देने के लिए वहां हमला करेंगे। यहीं पाकिस्तान की एयरफोर्स अलर्ट पर थी। पुलवामा के बाद उन्हें ये पता था कि हम हमला करेंगे, क्योंकि हमने सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भी जवाब दिया था। 

उन्होंने कहा, बालाकोट में हमने तीन इमारतों को निशाना बनाया। उनमें रहने वाले आतंकी जरूर मरे होंगे। हमें ये भी जानकारी थी कि इन कैंपों में कितने लोग थे। इसलिए ये हमारे लिए काफी अहम थे। इन इमारतों को हमने इसलिए अपना निशाना बनाया क्यों कि हमें ये भी जानकारी थी कि इन कैंपों में रहने वाले आतंकी पूरी ट्रेनिंग कर चुके हैं और जल्द ही भारत में दाखिल होंगे। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios