Asianet News HindiAsianet News Hindi

स्कूल की हेडमास्टर बोली- 'ईसाई हूं, तिरंगे को सैल्यूट नहीं करूंगी', विवाद बढ़ा तो शिक्षा विभाग ने शुरू की जांच

तमिलनाडु के धर्मपुरी जिले के एक सरकारी स्कूल की हेडमास्टर तमिलसेल्वी ने 15 अगस्त को राष्ट्रीय ध्वज फहराने और उसे सैल्यूट करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि मैं ईसाई हूं, तिरंगे को सैल्यूट नहीं कर सकती। शिक्षा विभाग मामले की जांच कर रही है।
 

I am a CHRISTIAN I will not salute tricolor controversy over school headmistress actions vva
Author
Chennai, First Published Aug 17, 2022, 9:22 PM IST

चेन्नई। तमिलनाडु के एक सरकारी स्कूल की हेडमास्टर ने यह कहते हुए तिरंगे को सलामी देने से इनकार कर दिया कि वह ईसाई है और धार्मिक मान्यता के अनुसार उसे झंडे को सलामी देने की अनुमति नहीं है। मामले के तूल पकड़ने के बाद मुख्य शिक्षा अधिकारी ने जांच शुरू कर दी है।

तमिलनाडु के धर्मपुरी जिले के एक सरकारी स्कूल की हेडमास्टर ने स्वतंत्रता दिवस समारोह के अवसर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने और ध्वज को सलामी देने से इनकार कर दिया था। सूत्रों के मुताबिक, हेडमास्टर ने यह कहते हुए तिरंगे को सलामी देने से इनकार कर दिया कि वह ईसाई है और धार्मिक मान्यता के अनुसार झंडे को सलामी देने की इजाजत नहीं है।

इसी साल सेवानिवृत्त होने वाली हैं हेडमास्टर
रअसल, धर्मपुरी जिले के एक सरकारी स्कूल की हेडमास्टर तमिलसेल्वी इसी साल सेवानिवृत्त होने वाली हैं। 15 अगस्त के मौके पर उनके सम्मान में विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। तमिलसेल्वी ने तिरंगा फहराने से इनकार कर दिया तो सहायक प्रधानाध्यापक ने तिरंगा फहराया। 

पहले भी तिरंगे को सलामी देने से किया था इनकार
पहले भी तमिलसेल्वी ने राष्ट्रीय ध्वज फहराने और तिरंगे को सलामी देने से इनकार कर दिया था। तमिलसेल्वी का कहना है कि उसने राष्ट्रीय ध्वज को न फहराकर और उसे सलामी नहीं देकर तिरंगे का अपमान नहीं किया है। हम केवल भगवान को सलाम करते हैं और किसी को नहीं। हम ध्वज का सम्मान करते हैं, लेकिन हम केवल भगवान को सलाम करेंगे।

यह भी पढ़ें- गृह मंत्रालय ने किया स्पष्ट, दिल्ली में रोहिंग्या शरणार्थियों को EWS फ्लैट देने का कोई निर्देश नहीं

मामले ने तूल पकड़ा तो इसकी शिकायत धर्मपुरी के मुख्य शिक्षा अधिकारी (सीईओ) से कई गई। शिकायत में उल्लेख किया गया है कि प्रधानाध्यापक ने स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान छुट्टी ली थी। इतना ही नहीं, पिछले कई सालों से वह बीमारी के बहाने स्कूल के कार्यक्रम में शामिल नहीं हो रही थी। 

यह भी पढ़ें-  जयपुर का हैरान करने वाला मामलाः जहां कानून के चक्कर में फस गए भगवान, मंदिर से पहुंच गए हवालात

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios