श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में गुरुवार को एक बड़ा आतंकी हमला टल गया। यहां पुलवामा के पास एक सैंट्रो गाड़ी में IED (इंप्रोवाइज्ड एक्स्प्लोसिव डिवाइस) प्लांट की गई थी, जिसको समय रहते पहचान लिया गया और समय रहते डिफ्यूज कर दिया गया। आतंकियों ने पुलवामा जैसे हमले को दोहराने की साजिश रची थी। लेकिन सुरक्षाबलों ने आतंकियों के मंसूबे को नाकाम कर दिया है। बताया जा रहा है कि आतंकियों ने एक ड्रम में 45 किलो आईईडी रखा था। 

जानकारी के मुताबिक गाड़ी को एक आतंकी चला रहा था, जो कि शुरुआती गोलीबारी के बाद ही भाग गया। अंधेरे में आतंकी भाग खड़ा हुआ। इस केस को अब NIA को सौंपा जा रहा है। इस गाड़ी को पुलवामा के रजपुरा रोड के पास शादीपुरा में पकड़ा गया। सफेद रंग की सैंट्रो कार में टू व्हीलर की नंबर प्लेट लगाई गई थी, जो कि कठुआ की रजिस्टर्ड थी। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने इसे ट्रैक किया, जिसके बाद बम की तलाश की गई। बम डिस्पोज़ल यूनिट को बुलाने से पहले आसपास के इलाके को खाली कराया गया। 

पुलवामा हमले में शहीद हुए थे 45 जवान 

पिछले साल पुलवामा में आतंकियों ने इसी तरह के हमले को अंजाम दिया था। जिसमें एक गाड़ी में बम रखा गया था और उसे CRPF के काफिले में घुसा दिया गया था, फरवरी 2019 में हुए उस आतंकी हमले में करीब 45 जवान शहीद हो गए थे। 

हुर्रियत नेता के बेटे समेत दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर

बीते दिनों भारतीय सेना और स्थानीय पुलिस ने मिलकर कुलगाम में एक ऑपरेशन चलाया था, काफी घंटे तक चले इस एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया था। इसमें हुर्रियत नेता का एक बेटा भी था। इसके साथ ही इसी महीने सुरक्षाबलों ने हिज्बुल के टॉप कमांडर रियाज नायकू को ढेर किया था।