नई दिल्ली. संयुक्त राष्ट्र महासभा की 75वीं वर्षगांठ के दौरान भी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अपने नापाक इरादों से बाज नहीं आए। कश्मीर मुद्दे पर हर बार मुंह की खाने के बाद भी इमरान में कोई सुधार नहीं आया। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र के मंच पर संबोधन में कीमती समय भारत की बुराई करने में खत्म कर दिया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, भारत की सेना पर कई बेतुके आरोप लगाए। यूएन के असेंबली हॉल में मौजूद भारतीय अफस मिजितो विनितो उठकर बाहर चले गए।

इमरान खान ने राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ पर निशाना साधते हुए कहा कि आरएसएस गांधी और नेहरू के सेक्युलर मूल्यों को पीछे छोड़ भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की कोशिश में लगा है। 2002 के गुजरात दंगों का जिक्र करते हुए कहा भारत में मुस्लिमों पर अत्याचार हो रहा है।

कश्मीर से 370 हटने का भी किया जिक्र


इमरान ने अपने भाषण के दौरान कश्मीर का राग भी अलापा। कहा- भारत ने कश्मीर पर अवैध तरीके से कब्जा किया हुआ है। वहां के लोगों के मानवाधिकार का हनन कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र को अपने रिज्योलूशन के तहत इसका हल निकालना चाहिए। अनुच्छेद 370 के खात्मे का जिक्र करते हुए कहा- इससे कश्मीरी लोगों के अधिकारों को खत्म किया गया है।