Asianet News HindiAsianet News Hindi

जम्मू-कश्मीर: पुलिस ने कहा- मोबाइल-इंटरनेट सर्विस स्टार्ट, पोल खोलने महबूबा ने शेयर कर दी घर की तस्वीर

कश्मीर के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के निधन के बाद किसी अप्रिय घटना से बचने के लिए घाटी में इंटरनेट और मोबाइल सेवा सस्पेंड कर दी गई थी। 

Jammu Kashmir Police informed that Mobile internet services restored in Srinagar and Budgam, PDP Chief Mehbooba Mufti said Police lying, she is still in house arrest
Author
Srinagar, First Published Sep 7, 2021, 5:03 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में मोबाइल-इंटरनेट सेवाएं शुरू कर दी गई हैं। कश्मीर के आईजी विजय कुमार (IG Vijay Kumar) ने कहा कि श्रीनगर व बडगाम में इंटरनेट सेवाओं व मोबाइल सेवाओं को सुबह से ही चालू कर दिया गया है। 
दरअसल, कश्मीर के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के निधन के बाद किसी अप्रिय घटना से बचने के लिए घाटी में इंटरनेट और मोबाइल सेवा सस्पेंड कर दी गई थी। 

 

पीडीपी नेता महबूबा ने लगाया हाउस अरेस्ट का आरोप

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने हाउस अरेस्ट किए जाने का आरोप लगाया है। हाउस अरेस्ट के बारे में ट्वीटर पर जानकारी देते हुए महबूबा ने कहा कि कश्मीर में सब सामान्य होने का दावा फर्जी है। मुझे नजरबंद कर रखा गया है और प्रशासन बता रहा है कि स्थितियां ठीक नहीं है। 

उन्होंने मोदी सरकार पर वार करते हुए ट्वीट किया, 'भारत सरकार अफगानिस्तान के लोगों के अधिकारों की चिंता करती है लेकिन कश्मीरियों को जानबूझकर उनके हक नहीं देती। मुझे आज घर में नजरबंद कर दिया गया है क्योंकि प्रशासन का कहना है कि स्थिति ठीक नहीं है। यह केंद्र सरकार के कश्मीर में सबकुछ ठीक होने की दावे की असलियत बताता है।'

अपने हाउस अरेस्ट की पुष्टि के लिए महबूबा मुफ्ती ने दो फोटोज भी शेयर किए हैं जिसमें एक फोटो गेट के सामने खड़े पुलिस व्हीकल की है तो दूसरी फोटो उनके दरवाजे पर लटक रहे ताले का है। 

 

यह भी पढ़ें:

कश्मीरी पंडितों से फिर गुलजार होगी घाटी , पुनर्वास-समस्याओं के लिए पोर्टल लांच, मिलेगा त्वरित न्याय

अफगानिस्तान में बेनकाब हुआ पाकिस्तान: काबुल में हजारों महिलाएं-पुरुष सड़क पर उतरे, पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगे नारे

मोहन भागवत फिर बोले कि हिंदू और मुसलमानों के पूर्वज एक हैं, हर भारतीय हिंदू है, सब अंग्रेजों का फैलाया भ्रम

केंद्र सरकार को कोर्ट का निर्देश: विदेश यात्रियों की तरह रोजगार या शिक्षा के लिए दूसरी डोज लगे चार हफ्ते बाद

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios