Asianet News Hindi

जानिए क्या है प्लॉगिंग, क्यों हैं प्रधानमंत्री मोदी इसके दीवाने

जॉगिंग के दौरान कूड़ा उठाने को ‘प्लॉगिंग’ कहते हैं। इंटरनेट पर मौजूद जानकारी के मुताबिक, यह 2016 में स्वीडन में संगठित गतिविधि के तौर पर शुरू हुई थी।

Know what is plogging, why Prime Minister Modi love it
Author
New Delhi, First Published Sep 29, 2019, 6:10 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘प्लॉगर’ रिपुदमन बेल्वी की रविवार को मन की बात कार्यक्रम में सराहना की। भारत के संभवत: पहले ‘प्लॉगर’ बेल्वी ने जॉगिंग (सुबह की सैर) के दौरान कूड़ा उठाने का अभियान शुरू किया है। जॉगिंग के दौरान कूड़ा उठाने को ‘प्लॉगिंग’ कहते हैं। इंटरनेट पर मौजूद जानकारी के मुताबिक, यह 2016 में स्वीडन में संगठित गतिविधि के तौर पर शुरू हुई थी। अपने ‘मन की बात’ रेडियो कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने सिस्टर मरियम थ्रेसिया का भी हवाला दिया। पोप फ्रांसिस 13 अक्टूबर को वेटिकन सिटी में सिस्टर मरियम थ्रेसिया को संत घोषित करेंगे। मोदी ने कहा कि एकल प्रयोग वाले प्लास्टिक का इस्तेमाल खत्म करने के लिए दो अक्टूबर को गांधी जयंती के मौके पर अभियान शुरू किया जाएगा। इसी के साथ मोदी ने पर्यावरण बचाने की अनूठी मुहिम का हिस्सा होने के लिए बेल्वी की तारीफ भी की।

बेल्वी ने प्लॉगिंग को भारत में बढ़ावा दिया  
मोदी ने कहा, ‘‘भारत ही नहीं आज पूरी दुनिया के लिए ये गर्व का विषय है कि जब हम ‘गांधी 150’ (महात्मा गांधी का 150वां जयंती वर्ष) मना रहे हैं, तो इसके साथ ही, 130 करोड़ देशवासियों ने एकल प्रयोग वाले प्लास्टिक से मुक्त होने का संकल्प लिया है| पर्यावरण संरक्षण को लेकर भारत ने पूरे विश्व में जिस प्रकार की बढ़त हासिल की है, उसे देखकर, आज सभी देशों की नजरे भारत की ओर टिकी है उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पूरा विश्वास है, आप सब दो अक्टूबर को एकल प्रयोग वाले प्लास्टिक से मुक्ति के लिए होने वाले अभियान का हिस्सा बनेंगे|’’ उन्होंने कहा कि ‘प्लॉगिंग’का इस्तेमाल विदेशों में होता था जबकि भारत में बेल्वी ने इसको काफी हद तक बढ़ावा दिया है।

दो अक्टूबर को आयोजित होगा ‘फिट इंडिया प्लॉगिंग रन’
बेल्वी से फोन पर बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि खेल मंत्रालय भी दो अक्टूबर को ‘फिट इंडिया प्लॉगिंग रन’ का आयोजन कर रहा है। इसके तहत दो किलोमीटर तक जॉगिंग के साथ कूड़ा उठाया जाएगा। सिस्टर थ्रेसिया के बारे में मोदी ने कहा कि 13 अक्टूबर को पोप फ्रांसिस उन्हें संत घोषित करेंगे जो हर भारतीय के लिए गर्व की बात है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘सिस्टर थ्रेसिया ने 50 साल के अपने छोटे से जीवनकाल में ही मानवता की भलाई के लिए जो कार्य किए, वो पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल हैं| सिस्टर थ्रेसिया ने जो भी कार्य किया, उसे निष्ठा और लगन के साथ पूरे समर्पण भाव से पूरा किया।’’मोदी ने बताया कि समाज सेवा और शिक्षा के क्षेत्र से, उनका अद्भुत लगाव था | उन्होंने कई स्कूल, हॉस्टल और अनाथालय बनवाए, और जीवनपर्यन्त इस मिशन में लगी रहीं |

सिस्टर मरियम थ्रेसिया को दी श्रद्धांजलि
प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘उन्होंने कॉन्ग्रेगेशन ऑफ सिस्टर्स ऑफ द होली फैमिली’की स्थापना की, जो आज भी उनके जीवन दर्शन और मिशन को आगे बढ़ा रहा है | मैं एक बार फिर से सिस्टर मरियम थ्रेसिया को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और भारत के लोगों को खास तौर पर हमारे ईसाई भाई-बहनों को इस उपलब्धि के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं |’’

(यह खबर न्यूज एजेंसी पीटीआई भाषा की है। एशियानेट हिंदी की टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios