Asianet News HindiAsianet News Hindi

Monsoon Update: मानसून का रास्ता फिर से क्लियर, IMD को उम्मीद आजकल में दिल्ली तक कर सकता है एंट्री

दक्षिण-पश्चिम मानसून(Southwest Monsoon) के आगे बढ़ने की फिर से स्थितियां अच्छी बनती दिखाई दे रही हैं। फिलहाल कई राज्यों में अभी मानसून नहीं पहुंचा है, लिहाजा उमस ने हाल बेहाल कर दिया है। हालांकि IMD ने अनुमान लगाया है कि आजकल में बिहार, उत्तर प्रदेश, गुजरात के कुछ हिस्सों, राजस्थान, मध्य प्रदेश के शेष हिस्सों और उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां एकदम अनुकूल बन रही हैं। आगे पढ़िए मौसम का पूरा हाल...
 

Latest Updates on Southwest Monsoon, Weather Report, Heat Wave, Temperature and Heavy Rain kpa
Author
New Delhi, First Published Jun 28, 2022, 7:46 AM IST

मौसम डेस्क. दक्षिण-पश्चिम मानसून(Southwest Monsoon) में रुकावट से उमस ने हाल बेहाल कर दिया है। हालांकि IMD ने अनुमान लगाया है कि आजकल में बिहार, उत्तर प्रदेश, गुजरात के कुछ हिस्सों, राजस्थान, मध्य प्रदेश के शेष हिस्सों और उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां एकदम अनुकूल बन रही हैं।  माना जा रहा है कि बहुत जल्द मौसम फिर से कूल हो जाएगा।

IMD ने अभी तक दिल्ली में मानसून के आगमन की संभावित तारीख नहीं बताई है, लेकिन कहा कि यह 29 जून तक उत्तर पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों और पूरे देश में 6 जुलाई तक कवर करेगा। उत्तर भारत के ऊपर एक पूर्व-पश्चिम ट्रफ रेखा और निचले क्षोभमंडल स्तरों में बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से नम हवाओं के कारण हिमाचल प्रदेश, पूर्वी राजस्थान और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 28 जून से 28 जून तक व्यापक रूप से व्यापक वर्षा होने की संभावना है। IMD ने कहा कि 30 जून तक पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में 29-30 जून को मानसून पहुंच सकता है। अगले 3-4 दिनों के दौरान गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश और बिहार के शेष हिस्सों, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के अधिक हिस्सों, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर में मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। 

दिल्ली में उमस भरा मौसम; आगे राहत
भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, दिल्ली में सोमवार को उमस भरी गर्मी रही और अधिकतम तापमान 40.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। आर्द्रता का स्तर 46 से 72 प्रतिशत के बीच रहा। मौसम कार्यालय के अनुसार, मंगलवार को बादल छाए रहने और पारा 41 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है। मौसम विशेषज्ञों ने कहा है कि दिल्ली में 29 जून से फिर से बारिश होगी। राष्ट्रीय राजधानी में मानसून के आगमन की घोषणा 30 जून या 1 जुलाई को होने की संभावना है। आईएमडी ने गुरुवार को शहर में मध्यम बारिश, गरज और तेज हवाओं की चेतावनी के साथ ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। 1 जून से जब मानसून का मौसम शुरू होता है, दिल्ली में सामान्य 59.5 मिमी के मुकाबले सिर्फ 24.5 मिमी बारिश हुई है। यह रिकॉर्ड 16 जून से 20 जून के बीच का है। स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष (जलवायु परिवर्तन और मौसम विज्ञान) महेश पलावत ने उम्मीद जताई कि जुलाई के पहले सप्ताह में भरपूर मानसून; बारिश की कमी को कवर करने और गर्मी से राहत दिलाएगा।

उप हिमालयी बंगला में भारी बारिश का अलर्ट
उप-हिमालयी बंगाल के जिलों में भारी बारिश तक का अनुमान लगाया गया है। यहां के जिलों में रात भर हुई भारी बारिश के कारण कुछ नदियों का जलस्तर बढ़ गया और निचले इलाकों में जलभराव हो गया। बारिश के कारण उत्तर बंगाल की मंशाई, तीस्ता, तोर्शा, डायना, संकोश और कलजानी नदियों में जल स्तर बढ़ गया है। मौसम विज्ञानियों ने उत्तर बंगाल के दार्जिलिंग, जलपाईगुड़ी, अलीपुरद्वार, कूचबिहार और कलिम्पोंग जिलों में अगले 2-3 दिनों तक भारी से बहुत भारी बारिश का अनुमान जताया है, जिससे नदियों के जल स्तर में वृद्धि और निचले इलाकों में बाढ़ की आशंका है। मौसम विभाग ने कहा कि राज्य के दक्षिणी जिलों में एक या दो स्थानों पर गरज के साथ बौछारें पड़ने की भी संभावना है।

इन राज्यों में आजकल में बारिश या भारी बारिश का अलर्ट
आजकल में उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक के कुछ हिस्सों, गुजरात के कुछ हिस्सों, आंतरिक महाराष्ट्र, दक्षिण मध्य प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। तेलंगाना, दक्षिण छत्तीसगढ़, ओडिशा, अंडमान और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और उत्तराखंड में दो स्थानों पर भी भारी बारिश हो सकती है। शेष पूर्वोत्तर भारत, बिहार के कुछ हिस्सों, ओडिशा, पश्चिमी मध्य प्रदेश, पूर्वी राजस्थान के कुछ हिस्सों, सौराष्ट्र और कच्छ, तेलंगाना, तटीय आंध्र प्रदेश, केरल और लक्षद्वीप में हल्की से मध्यम बारिश संभव है। जबकि तमिलनाडु, झारखंड, गंगीय पश्चिम बंगाल और हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश में एक या दो स्थानों पर हल्की बारिश संभव है।

इन राज्यों में हुई बारिश
बीते दिन की बात करें तो ओडिशा, केरल के शेष हिस्सों, मध्य प्रदेश के शेष हिस्सों, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, झारखंड में एक या दो स्थानों पर हल्की बारिश हुई और छत्तीसगढ़ में छिटपुट बारिश दर्ज की गई। सिक्किम, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, असम के कुछ हिस्सों, अरुणाचल प्रदेश, तटीय आंध्र प्रदेश, गोवा, कोंकण और गोवा में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई। जबकि दक्षिण मध्य प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक दो स्थानों पर भारी बारिश हुई। इसके अलावा गंगेटिक पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, तेलंगाना, तटीय कर्नाटक, लक्षद्वीप, केरल और गुजरात के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश होती रही।

मौसम में इन वजहों से आ रहा है बदलाव
स्काईमेट वेदर(skymet weather) के अनुसार, गुजरात के दक्षिण पूर्व अरब सागर के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बना है। संबद्ध चक्रवाती परिसंचरण मध्य क्षोभमंडल स्तर तक फैल रहा है। अपतटीय ट्रफ रेखा दक्षिण गुजरात तट से उत्तरी केरल तट तक दिखाई दे रही है। एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उत्तर पश्चिमी राजस्थान और आसपास के क्षेत्र पर बना हुआ है। उत्तर पश्चिमी राजस्थान पर बने चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र से पूर्व पश्चिम ट्रफ रेखा पूर्वी राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और दक्षिण ओडिशा को पार करते हुए पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी तक फैली हुई है। जबकि एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण छत्तीसगढ़ और आसपास के क्षेत्र पर एक्टिव है।

यह भी पढ़ें
Assam Flood: बाढ़ चली गई, लेकिन पीछे छोड़ गई तबाही के निशान, 25 जिलों के 22 लाख लोगों पर टूटा प्रकृति का कहर
ये स्टंट नहीं है, बल्कि बाढ़ में डूबी घर-गृहस्थी के बीच जिंदा रहने की लड़ाई है, Assam flood की 10 तस्वीरें
Assam Floods: 28 जिलों के 33 लाख लोगों की मदद के लिए अंबानी फैमिली के अलावा कई हस्तियों ने खोला अपना खजाना

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios