Asianet News Hindi

उप राज्यपाल का आदेश- दिल्ली में कोई भी करा सकता है इलाज, केजरीवाल बोले- LG ने बड़ी समस्या पैदा कर दी

दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप राज्यपाल एक बार फिर आमने सामने आ गए हैं। दरअसल, उप राज्यपाल अनिल बैजल ने केजरीवाल सरकार के उस आदेश को बदल दिया है, जिसमें दिल्ली के अस्पतालों में अन्य राज्य के लोगों के इलाज पर रोक लगाई गई थी। बैजल दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी के चेयरमैन भी हैं।

LG Anil Baijal overrules Kejriwal order Delhi residents admitted to state hospitals KPP
Author
New Delhi, First Published Jun 8, 2020, 6:38 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप राज्यपाल एक बार फिर आमने सामने आ गए हैं। दरअसल, उप राज्यपाल अनिल बैजल ने केजरीवाल सरकार के उस आदेश को बदल दिया है, जिसमें दिल्ली के अस्पतालों में अन्य राज्य के लोगों के इलाज पर रोक लगाई गई थी। बैजल दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी के चेयरमैन भी हैं।

अनिल बैजल ने अफसरों को आदेश दिया है कि किसी भी व्यक्ति को इलाज के लिए सिर्फ इसलिए मना ना किया जाए कि वे दिल्ली के नागरिक नहीं है। 

उपराज्यपाल ने बड़ी समस्या पैदा कर दी
उपराज्यपाल के आदेश के बाद राजनीति शुरू हो गई है। दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने उप राज्यपाल पर भाजपा के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया। वहीं, अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, उप राज्यपाल के इस आदेश ने दिल्ली के लोगों के लिए बहुत बड़ी समस्या और चुनौती पैदा कर दी है। देशभर से आने वाले लोगों के लिए करोना महामारी के दौरान इलाज का इंतजाम करना बड़ी चुनौती है। शायद भगवान की मर्जी है कि हम पूरे देश के लोगों की सेवा करें। हम सबके इलाज का इंतजाम करने की कोशिश करेंगे।

दिल्ली के अस्पतालों में बाहरी लोगों के इलाज पर लगाई थी रोक
इससे पहले अरविंद केजरीवाल ने रविवार को दिल्ली के सभी बॉर्डर खोलने का आदेश दिया था। पिछले हफ्ते सभी बॉर्डरों को बंद किया गया था। लेकिन केजरीवाल सरकार ने यहां अन्य राज्य के लोगों का दिल्ली के अस्पतालों में इलाज कराने पर रोक लगा दी थी। आदेश के मुताबकि, सिर्फ केंद्र सरकार के अस्पतालों में बाहरी लोग इलाज करा सकेंगे। 

दिल्ली में कोरोना की स्थिति
दिल्ली में कोरोना वायरस के अब तक 28936 केस सामने आए हैं। हालांकि, इनमें से 10999 लोग ठीक हो चुके हैं। 812 लोगों की मौत हो चुकी है। अभी भी 17125 लोगों का इलाज चल रहा है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios