Asianet News HindiAsianet News Hindi

Extortion case: जबरन वसूली और विस्फोटक रखने का मास्टरमाइंड सचिन वझे 13 नवंबर तक पुलिस कस्टडी में रहेगा

मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर मिले विस्फोटकों(antilia case) में गिरफ्तार मुंबई पुलिस (Mumbai Police) के बर्खास्त अधिकारी सचिन वझे (Sachin Vaze) को 13 नवंबर तक पुलिस कस्टडी में भेजा गया है।
 

Mumbai Esplanade Court sends Sachin Waze to police custody till 13th November in connection with an extortion case KPA
Author
Mumbai, First Published Nov 6, 2021, 3:11 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. 25 फरवरी, 2021 को को दक्षिण मुंबई में अंबानी के घर एंटीलिया (antilia case) के पास विस्फोटकों से लदे एसयूवी मिलने और उसके बाद मनसुख हिरेन नामक व्यक्ति की हत्या के मामले में गिरफ्तार मुंबई पुलिस (Mumbai Police) के बर्खास्त अधिकारी सचिन वझे (Sachin Vaze) को 13 नवंबर तक पुलिस कस्टडी में भेजा गया है। अवैध वसूली के मामले में 6 नवंबर को उसकी हिरासत अवधि खत्म होने पर कोर्ट में पेश किया गया था। क्राइम ब्रांच ने उसकी कस्टडी बढ़ाए जाने की मांग की थी।

एंटीलिया के पास 25 फरवरी को मिली थी स्कॉर्पियो
मुंबई में मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के घर एंटीलिया के पास 25 फरवरी 2021 को विस्फोटक से भरी स्कॉर्पियो मिली थी। रात के एक बजे खड़ी की गई इस गाड़ी पर पुलिस की नजर अगले दिन दोपहर में पड़ी। तलाशी लेने पर इसमें 20 जिलेटिन रॉड बरामद हुए। जांच पड़ताल शुरू हुई, तो इसी बीच 5 मार्च को स्कार्पियो मालिक बिजनेसमैन मनसुख हिरेन का शव खाड़ी में मिला। एटीएस ने बिजनेसमैन मनसुख हिरेन की हत्या का केस भी दर्ज करके जांच शुरू की, तो सचिन वझे को संदिग्ध के रुप में गिरफ्तार किया।

बता दें कि कुछ दिन बाद टेलीग्राम पर दो मैसेज भेजकर जैश-उल-हिंद नाम के आतंकी संगठन ने विस्फोटक रखने की जिम्मेदारी ली थी। हालांकि जांच में पता चला कि यह साजिश वझे ने ही रची थी।  NIA ने इस मामले की जांच कर रही है। मनसुख मामले में NIA ने सचिन वझे, एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा, रियाजुद्दीन काजी और सुनील माणे को गिरफ्तार किया था। NIA ने पूर्व पुलिस कांस्टेबल विनायक शिंदे और क्रिकेट सट्टेबाज नरेश गोर को भी गिरफ्तार किया था।

सुपर कॉप की छवि पाने के चक्कर में क्राइम कर बैठा
सचिन वझे की छवि सुपर कॉप की रही थी। साल 2000 के पहले तक एनकाउंटर करना और अखबारों-टीवी चैनल्स में छाए रहना उसे अच्छा लगता था। उनके नाम 63 एनकाउंटर हैं। लेकिन साल 2004 के बाद उसकी जिंदगी से सब चकाचौंध अचानक छिन गई। उसे पुलिस विभाग से निलंबित कर दिया गया। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो 16 साल बाद साल 2020 में जब सचिन वझे की वापसी हुई तो उसे फिर से लाइनलाइट में आना था। सुपर कॉप वाली छवि को फिर से बनाना था, शायद इसीलिए उसने एंटीलिया वाली साजिश रची। उसका प्लान था कि वो खुद इस केस को हल करे और हीरो बन जाए। लेकिन मामला उलझ गया।


यह भी पढ़ें
एंटीलिया के पास क्यों रखा गया विस्फोटक? सचिव वझे का ऐसा करने के पीछे 16 साल पुरानी कहानी तो नहीं...
Mukesh Ambani की फैमिली की शिफ्टिंग पर Reliance ने जारी किया बयान, जमीन खरीदी की बात कबूली
Antilia Case: सुपर कॉप बनने के लिए सचिन वाझे ने रची साजिश, एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा बाद में बने हिस्सा

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios