Asianet News HindiAsianet News Hindi

हमें फांसी देने से रेप रुक जाएंगे तो...मौत से एक दिन पहले निर्भया के दोषी विनय ने पूछा यह सवाल

निर्भया के दोषियों को 20 मार्च की सुबह 5.30 बजे फांसी पर लटकाया जाना है। तिहाड़ जेल इसके लिए तैयारियों को अंतिम रूप दे रहे है। इन सब के बीच दोषी विनय ने कहा, 'अगर हमें फांसी देने से देश में रेप रुक जाएंगे तो बेशक हमें फांसी पर लटका दो, लेकिन यह बलात्कार रुकने वाले नहीं हैं।' 

Nirbhaya convicts will be hanged on March 20 kps
Author
New Delhi, First Published Mar 19, 2020, 7:46 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. निर्भया के दोषियों को 20 मार्च की सुबह 5.30 बजे फांसी दी जानी है। ऐसे में दोषी मौत से बचने की हर जोड़तोड़ कर रहे हैं। इन सब के बीच चारों दोषियों में से एक दोषी विनय ने फांसी से ऐन पहले कहा कि 'अगर हमें फांसी देने से देश में रेप रुक जाएंगे तो बेशक हमें फांसी पर लटका दो, लेकिन यह बलात्कार रुकने वाले नहीं हैं।' 

विनय ने यह बात तिहाड़ जेल के एक अधिकारी से कही। जेल अधिकारी ने बताया कि अब फांसी देने के लिए केवल एक दिन बचा है। मुकेश को छोड़कर बाकी तीनों को देखकर अभी भी ऐसा नहीं लग रहा है, जैसे इन्हें एक दिन बाद फांसी पर लटकाया जाना है।

शुक्रवार की सुबह 3 बजे दरिंदों को उठाया जाएगा 

जेल अधिकारियों ने बताया कि 20 मार्च की सुबह 5:30 बजे चारों को फांसी पर लटकाने के लिए इन्हें तीन बजे उठा दिया जाएगा। हालांकि, अपनी फांसी होने की बात देखते हुए इन्हें 19-20 मार्च की रात को नींद आना मुश्किल ही है। लेकिन 20 मार्च की तड़के तीन बजे इन्हें उठाकर इनसे नहाने और नाश्ता करने के बारे में पूछा जाएगा। अगर इनका मन होगा तो यह नहा लेंगे, नहीं तो ऐसा जरूरी नहीं है कि इन्हें नहलाना ही जरूरी है।

फांसी के लिए तख्त, हैंगर लीवर सब तैयार 

फांसी के दो तख्तों पर चार हैंगर बनाए गए हैं, जहां इन चारों को फांसी दी जाएगी। इनमें से एक तख्ते के लीवर को जल्लाद पवन और दूसरे को जेल स्टाफ खीचेंगा। इसके लिए जेल नंबर 3 का सुपरिटेंडेंट ग्रीन सिग्नल देगा। हालांकि, जेल के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि गुरुवार को यह दोषी एक बार फिर से पटियाला हाउस कोर्ट और आर्टिकल 32 के तहत सुप्रीम कोर्ट जा सकते हैं।

ऐसे में लगता है कि गुरुवार को दिनभर अदालती कार्रवाई चल सकती है। यह भी हो सकता है कि फैसला होने में रात भी लग जाए। लेकिन अब इनकी फांसी टलना मुमकिन नहीं लग रहा है क्योंकि सीधे तौर पर इन चारों का अब कोई कानूनी अधिकार बाकी नहीं बचा है।

फांसी का रिहर्सल रहा सफल 

फांसी पर लटकाने के लिए जेल अथॉरिटी ने 10 और कर्मचारियों को विभिन्न जेलों से फांसी देने वाली जेल नंबर 3 में तुरंत प्रभाव से शिफ्ट कर दिया है। 20 मार्च तक इनकी ड्यूटी इसी जेल में रहेगी। बुधवार को फांसी का रिहर्सल किया गया, जिसे कामयाब होना बताया गया है। फांसी पर लटकाने के लिए पवन जल्लाद भी पहुंच चुका है। जो सभी तैयारियों को अंतिम रूप दे रहा है।  

अक्षय के परिजनों ने अभी तक नहीं की मुलाकात 

चारों में से एक अक्षय के परिजनों ने अभी तक उससे अंतिम मुलाकात नहीं की है। अगर गुरुवार 12 बजे तक अक्षय के परिजन मिलने आ गए तो ही उसकी आखिरी मुलाकात हो सकेगी। इसके बाद दोषियों को किसी से नहीं मिलने दिया जाएगा। बुधवार 12 बजे तक ही किसी नई अदालती कार्रवाई पर भी गौर किया जाएगा।

मुकेश और विनय अपने परिजनों से कर चुके हैं मुलाकात

बुधवार को मुकेश और विनय के परिजन इन दोनों से मुलाकात करने जेल आए। इनमें मुकेश की मां और भाई और विनय से उसके माता-पिता ने मुलाकात की। जेल प्रशासन का कहना है कि वैसे तो गुरुवार को केवल अक्षय को ही परिजनों से मुलाकात कराने का दिन है। अगर पवन के घरवाले भी इससे मिलने आ गए तो उस पर भी गौर कर लिया जाएगा। जेल की ओर से हम इन्हें किसी तरह की कोई कमी नहीं छोड़ना चाहते।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios