नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से फोन पर चर्चा की। इस दौरान उन्होंने 75वें विक्ट्री डे परेड की सफलता और रूस में उनके सत्ता के विस्तार के लिए हुए संवैधानिक संशोधन को लेकर पुतिन को बधाई दी। दोनों देशों के बीच कोरोना महामारी और द्विपक्षीय संपर्क को लेकर भी बातचीत हुई।

रूस में बुधवार को  संविधान संशोधन के लिए जनमत संग्रह अभियान पूरा हो गया। 7 दिन चले इस संग्रह में 76% लोगों ने संशोधन का समर्थन किया। अब व्लादिमीर पुतिन 2036 तक राष्ट्रपति बने रहेंगे। पुतिन का कार्यकाल 2024 में पूरा होना था।
 


भारत-रूस संबंधों के महत्व पर बनी सहमति
समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पीएम मोदी और पुतिन के बीच कोरोना के परिणामों को दूर करने और दोनों देशों द्वारा उठाए जा रहे कदमों को लेकर भी चर्चा हुई। कोरोना के बाद की चुनौतियों से निपटने में भारत और रूस के संबंधों के महत्व पर भी सहमति व्यक्त की। 

पुतिन ने पीएम को कहा धन्यवाद
रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने फोन कॉल के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया और सभी क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच सामरिक साझेदारी को और मजबूत करने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया।

मोदी और पुतिन द्विपक्षीय संपर्क और परामर्श की गति बनाए रखने के लिए सहमत हुए ताकि इस साल के अंत तक भारत में वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जा सके। पीएम मोदी ने द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन में राष्ट्रपति पुतिन के भारत आने के लिए उत्सुकता व्यक्त की।