Asianet News HindiAsianet News Hindi

PM नरेंद्र मोदी गुरुवार को करेंगे 'कर्तव्य पथ' का उद्घाटन, इंडिया गेट पर लगी 28 फीट ऊंची नेताजी की प्रतिमा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) गुरुवार को 'कर्तव्य पथ' का उद्घाटन करेंगे। इसके साथ ही वह नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा का अनावरण भी करेंगे। प्रतिमा की ऊंचाई 28 फीट है।
 

PM Narendra Modi to inaugurate Kartavya Path unveil statue of Subhash Chandra Bose at India Gate vva
Author
First Published Sep 7, 2022, 4:40 PM IST

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) गुरुवार शाम सात बजे नई दिल्ली के इंडिया गेट पर 'कर्तव्य पथ' का उद्घाटन करेंगे। इसके साथ ही वह नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा का अनावरण भी करेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार राजपथ सत्ता का प्रतीक था। लोग इसे सार्वजनिक स्वामित्व और सशक्तिकरण के प्रतीक के रूप में जानें इसके लिए इसका नाम कार्तव्य पथ रखा गया है।

प्रधानमंत्री ने लाल किला से अपने संबोधन में गुलामी की मानसिकता के निशान हटाने की बात कही थी। राजपथ का नाम इसी पहल के तहत बदला गया है। प्रधानमंत्री इस अवसर पर इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा का भी अनावरण करेंगे। दरअसल, पिछले कई साल से सेंट्रल विस्टा एवेन्यू के राजपथ और आसपास के इलाके में लोगों के अधिक आने से यातायात पर दबाव देखा जा रहा था। 

क्षेत्र में सार्वजनिक शौचालय, पीने के पानी, स्ट्रीट फर्नीचर और पर्याप्त पार्किंग की जगह जैसी बुनियादी सुविधाओं का अभाव था। इसके चलते पूरे इलाके का कायाकल्प किया गया। कर्तव्य पथ को बेहद आकर्षक रूप दिया गया है। यह पैदल चलने के लिए लॉन, हरे भरे स्थान और नहरें हैं। इसके साथ ही नए पैदल यात्री अंडरपास, बेहतर पार्किंग स्थान, नए प्रदर्शनी पैनल और रोशनी की अच्छी व्यवस्था की गई है। 

यह भी पढ़ें- राजनाथ सिंह मंगोलिया से लाए मैजेस्टिक हॉर्स,चंगेज खान ने इसी पर बैठकर जीती थी दुनिया, सबसे पावरफुल होता है दूध

28 फीट ऊंची है नेताजी की प्रतिमा
प्रधानमंत्री ने पराक्रम दिवस (23 जनवरी) पर नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण किया था। उसी जगह गुरुवार को वह नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा का अनावरण करेंगे। सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा ग्रेनाइट से बनी है। इसे मूर्तिकार अरुण योगीराज के नेतृत्व में बनाया गया है। 28 फीट ऊंची प्रतिमा को एक ग्रेनाइट पत्थर को तराशकर बनाया गया है। इसका वजन 65 मीट्रिक टन है।

यह भी पढ़ें- पंजाब में घाटे का सौदा, 'वेतन-मान' पर संकट, फोकट की स्कीमों ने बजाई श्रीलंका जैसी खतरे की घंटी

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios