Asianet News Hindi

पीएम मोदी ने किया वैभव सम्मेलन का उद्घाटन, बोले- आत्मनिर्भर भारत के लिए आपका समर्थन चाहिए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के मौके पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वैश्विक भारतीय वैज्ञानिक (वैभव) शिखर सम्मेलन 2020 का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने कहा, मैं उन वैज्ञानिकों को धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने आज अपने सुझाव और विचार पेश किए। वैभव शिखर सम्मेलन भारत और दुनिया से विज्ञान और नवाचार का जश्न मनाता है।

PM Narendra Modi Will Address vaibhav Summit today on gandhi jayanti news And updates KPY
Author
New Delhi, First Published Oct 2, 2020, 11:02 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के मौके पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वैश्विक भारतीय वैज्ञानिक (वैभव) शिखर सम्मेलन 2020 का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने कहा, मैं उन वैज्ञानिकों को धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने आज अपने सुझाव और विचार पेश किए। वैभव शिखर सम्मेलन भारत और दुनिया से विज्ञान और नवाचार का जश्न मनाता है। मैं इसे महान दिमागों का संगम कहूंगा। बता दें कि यह एक ऐसा मंच है, जो विदेशी और भारतीय शोधकर्ताओं और शिक्षाविदों (NRI Researchers Educationalist) को एक साथ लाता है। यह सम्मलेन 2 से 31 अक्टूबर तक आयोजित किया जाएगा।

'अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं'

उन्होंने कहा, विज्ञान, अनुसंधान और नवाचार को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार ने कई कदम उठाए हैं। सामाजिक-आर्थिक क्षेत्र में बदलाव की दिशा में हमारे प्रयासों का मूल विज्ञान है।

पीएम मोदी ने कहा, हम अपने किसानों की मदद के लिए शीर्ष श्रेणी के वैज्ञानिक अनुसंधान चाहते हैं। हमारे कृषि अनुसंधान वैज्ञानिकों ने दालों के हमारे उत्पादन को बढ़ाने के लिए कड़ी मेहनत की है। आज हम दाल का बहुत ही कम हिस्सा आयात करते हैं। हमारा खाद्यान्न उत्पादन नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा है।

'विज्ञान सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन की दिशा में हमारे प्रयासों के मूल में है'

पीएम ने कहा, मैं उन वैज्ञानिकों को धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने आज अपने सुझाव और विचार पेश किए। आपने कई विषयों को शानदार ढंग से कवर किया है। भारत सरकार ने वैज्ञानिक अनुसंधान और नवाचार को बढ़ावा देने के लिए कई उपाय किए हैं। विज्ञान सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन की दिशा में हमारे प्रयासों के मूल में है।

उन्होंने कहा, 2014 में हमारे टीकाकरण कार्यक्रम में चार नए टीके लगाए गए। इसमें स्वदेशी रूप से विकसित रोटावायरस वैक्सीन शामिल था। हम देसी वैक्सीन उत्पादन को प्रोत्साहित करते हैं। 

'आवश्यकता है कि अधिक से अधिक युवा विज्ञान में रुचि विकसित करें'

मोदी ने कहा, यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि अधिक से अधिक युवा विज्ञान में रुचि विकसित करें। भारत के एक आत्मनिहार भारत (आत्मनिर्भर भारत) के आह्वान में वैश्विक कल्याण की दृष्टि शामिल है। इस सपने को साकार करने के लिए मैं आप सभी को आमंत्रित करता हूं और आपका समर्थन चाहता हूं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios