Asianet News Hindi

वैक्सीन V/s पॉलिटिक्स: हेल्थ मिनिस्टर ने ली राज्यों की क्लास-वैक्सीन की लंबी कतारें बता रहींं समस्या क्या है

वैक्सीन अभियान को लेकर राजनीति खत्म नहीं हो रही। बुधवार सुबह राहुल गांधी ने वैक्सीन की उपलब्धता को लेकर ट्विट किया, तो दोपहर बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने राज्यों की क्लास ले डाली।

Politics on world biggest vaccination campaign, Union Health Minister  many tweets, raised questions on states kpa
Author
New Delhi, First Published Jul 14, 2021, 1:46 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. वैक्सीनेशन अभियान को लेकर जारी राजनीति के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने राज्यों के मैनेजमेंट पर सवाल उठाते हुए उनकी अच्छे से क्लास ले डाली। स्वास्थ्य मंत्री ने एक के बाद एक ट्वीट के जरिये राज्यों के व्यवस्थाओं को कठघरे में खड़ा का दिया।

कुप्रबंधन के लिए कौन है वजह?
अगर केंद्र पहले से ही अपनी तरफ से ये जानकारियां एडवांस में दे रही है और इसके बावजूद भी हमें कुप्रबंधन (mismanagement) और वैक्सीन लेने वालों की लंबी कतारें दिख रही हैं तो यह बिल्कुल स्पष्ट है कि समस्या क्या है और इसकी वजह कौन है। 

मीडिया में भ्रम पैदा करने वाले बयान
मीडिया में भ्रम व चिंता पैदा करने वाले बयान देने वाले नेताओ को इस बात पर आत्मनिरीक्षण करने की जरूरत है क्या उन्होंने शासन प्रक्रिया व इससे सबंधित जानकारियों से इतनी दूरी बना ली है कि वैक्सीन आपूर्ति के संदर्भ में पहले से ही दी जा रही जानकारियों का उन्हें कोई अता-पता नहीं है?

राज्यों की जमकर खिंचाई
वैक्सीन की उपलब्धता के संदर्भ में मुझे विभिन्न राज्य सरकारों और नेताओं के बयान एवं पत्रों से जानकारी मिली है। तथ्यों के वास्तविक विश्लेषण से इस स्थिति को बेहतर ढंग से समझा जा सकता है। निरर्थक बयान सिर्फ लोगों में घबराहट पैदा करने के लिए किए जा रहे हैं। 

सरकारी और निजी अस्पतालों के जरिए टीकाकरण हो सके, इसलिए जून महीने में 11.46 करोड़ वैक्सीन की डोज राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों को उपलब्ध कराए गए और जुलाई के महीने में इस उपलब्धता को बढ़ाकर 13.50 करोड़ किया गया है। 

जुलाई में राज्यों में वैक्सीन के कितने डोज उपलब्ध कराई जाएगी, इसकी जानकारी केंद्र सरकार ने राज्यों को 19 जून, 2021 को ही दे दी थी। इसके बाद 27 जून व 13 जुलाई को केंद्र की ओर से राज्यों को जुलाई के पहले व दूसरे पखवाड़े के लिए उन्हें हर दिन की वैक्सीन उपलब्धता की जानकारी बैच के हिसाब से एडवांस में ही दी गई। इसलिए राज्यों को यह अच्छी तरह से पता है कि उन्हें कब और कितनी मात्रा में वैक्सीन डोज मिलेंगे। केंद्र सरकार ने ऐसा इसलिए किया है, ताकि राज्य सरकारें जिला स्तर तक वैक्सीनेशन का काम सही योजना बनाकर कर सकें और लोगों को कोई परेशानी नहीं हो। 

pic.twitter.com/qSEqgYvXzI

राहुल गांधी ने किया था ट्विटर के जरिये तंज
कांग्रेस नेता राहुल गांधी लंबे समय से वैक्सीन की उपलब्धता पर सवाल खड़े करते आ रहे हैं। बुधवार को उन्होंने ट्विट किया था। समें उन्होंने लिखा कि जुमले हैं, वैक्सीन नहीं।

pic.twitter.com/TOsSkHoOIl

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios