Asianet News Hindi

सिद्धू के घर बंटी मिठाई, कैप्टन को मनाने पहुंचे रावत, हाईकमान को डर हाथ से न निकल जाए 'पंजाब'

पंजाब में कैप्टन और सिद्धू के बीच जारी राजनीति लड़ाई पर फिलहाल कोई विराम लगता नजर नहीं आ रहा है। इसी बीच हरीश रावत ने चंडीगढ़ पहुंचकर कैप्टन से मुलाकात की। 

Punjab Congress issue, Captain got angry after hearing the news of Navjot Singh Sidhu becoming president kpa
Author
New Delhi, First Published Jul 17, 2021, 8:56 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

चंडीगढ़. पंजाब कांग्रेस में पड़ीं दरारें भरने की कोशिशें विफल साबित हो रही हैं। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच जारी राजनीति लड़ाई और भड़क उठी है। हाईकमान ने एक टीम बनाकर मामला सुलटाने की कोशिशें कीं, लेकिन नतीजा सिफर रहा है। हाईकमान ने जब सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने के संकेत दिए, तो कैप्टन ने चेतावनी दे डाली। इसी बीच हरीश रावत चंडीगढ़ पहुंचे। उन्होंने कैप्टन से मुलाकात की। रावत ने कहा कि अमरिंदर सिंह अपने पुराने बयान पर कायम है कि कांग्रेस अध्यक्ष जो फैसला लेंगी, वे उसे मानेंगे।

pic.twitter.com/vpt1kU8oNJ

सिद्धू के घर पर बंटी मिठाइयां
अटकलें हैं सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया जा रहा है। हालांकि पार्टी ने अभी ऐसा कुछ भी स्पष्ट नहीं किया है, लेकिन लुधियाना में सिद्धू के घर पर मिठाइयां बंट गईं। कई जगह सिद्धू को बधाई देते हुए पोस्टर लगा दिए गए। चंडीगढ़ में भी कांग्रेस दफ्तर के बाहर सिद्धू समर्थकों ने जश्न मनाया।

pic.twitter.com/i7mMPUaFs1

कैप्टन के तेवर देखकर पीछे हटे रावत
इस मामले को सुलटाने के लिए कांग्रेस हाईकमान ने हरीश रावत के नेतृत्व में एक कमेटी गठित की थी। हरीश रावत ने पहले सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने के संकेत दिए थे, लेकिन कैप्टन के तेवर देखकर वे चुप हो गए।

कैप्टन ने सोनिया को लिख चिट्टी
कैप्टन किसी भी कीमत पर नवजोत सिंह सिद्धू को झेलने के फेवर में नहीं दिखते। उन्होंने कांग्रेस सुप्रीमो सोनिया गांधी को एक चिट्टी लिखकर चेतावनी दे डाली। इसमें कहा गया कि अगर सिद्धू को अध्यक्ष बनाया जाता है, तो परिणाम अच्छे नहीं होंगे। उनका इशारा अगले साल पंजाब में होने जा रहे विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रदर्शन को लेकर था। कांग्रेस के सीनियर नेता मनीष तिवारी भी सिद्धू के पक्ष में नहीं हैं। 

दो फाड़ हुई कांग्रेस
कैप्टन और सिद्धू की लड़ाई में पंजाब में कांग्रेस के दो टुकड़े होते नजर आ रहे हैं। जो लोग कैप्टन से नाराज हैं, वे सिद्धू के पाले में चले गए हैं। हाल में चंडीगढ़ में पंजाब के कैबिनेट मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा के घर बैठक हुई। इसमें सिद्धू के अलावा 5 मंत्री और 10 विधायक शामिल हुए।

pic.twitter.com/wY9ViKEob9

शुक्रवार को सोनिया गांधी ने मिले थे सिद्धू
सिद्धू शुक्रवार को ही दिल्ली आकर सोनिया गांधी ने मिले थे। बता दें कि पांच राज्यों के साथ अगले साल पंजाब में भी विधानसभा चुनाव होने हैं। इससे पहले सिद्धू और कैप्टन के बीच चल रहे विवाद ने पार्टी के लिए तनाव की स्थिति पैदा कर दी थी। सिद्धू पंजाब में एक बड़ा चेहरा हैं। बता दें पंजाब में 57.67% सिख, जबकि 38.49% हिंदू हैं। इन दोनों में अनुसूचित जाति की संख्या 31.94% है।

बुधवार को आलकमान ने की थी बैठक
बता दें कि बुधवार को आलकमान ने मीटिंग रखी थी। जिसमें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और प्रदेश प्रभारी हरीश रावत ने कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर चर्चा की थी। जिसके बाद सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने का फैसला किया गया। वहीं हरीश रावत ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि जल्द ही पंजाब कांग्रेस के लिए अच्छी खबर आएगी।

'ठोको ताली..छा गए गरु'
पंजाब में कांग्रेस के सीनियर नेता सिद्धू को राजनीति के साथ-साथ कॉमेडी में भी किंग कहा जाता है। 'द कपिल शर्मा शो' में उनका ठोको ताली वाला डॉयलाग जमकर हिट हुआ था। वह शो में गरू के नाम से फेमश थे। सिद्धू ने साल 2019 तक शो की जज की कुर्सी संभाली थी। हालांकि पुलवामा अटैक पर दिए एक विवादित बयान के बाद सिद्धू पाजी को शो से निकाला गया था।

यह भी पढ़ें
केजरीवाल सरकार को केंद्र से मिल रहा विशेष ट्रीटमेंट, बजट विकास पर खर्च न होकर प्रचार पर हो रहा खर्च: माकन
NHRC की रिपोर्ट: बंगाल में 'कानून का राज' नहीं 'शासक का कानून' चल रहा, चुनाव बाद हिंसा की जांच CBI करे

 

pic.twitter.com/m7IfsVBdE2

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios