लद्दाख. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सोमवार को लद्दाख में रिनचेन ब्रिज का उद्घाटन किया। यह ब्रिज देश को दुनिया के सबसे ऊंचे एयरबेस दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ) से जोड़ेगा। यह पुल लद्दाख में दुरबुक और दौलत बेग ओल्डी के बीच बना है। डीबीओ 16000 फीट पर बना है। यहां से सिर्फ 8 किमी पर लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) दूर है। राजनाथ सिंह के साथ आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत भी मौजूद रहे। 

ब्रिज का नाम जाबांज कर्नल चेवांग रिनचेन के नाम पर रखा गया है। चेवांग ने पाकिस्तान के खिलाफ 1948, 1971 और चीन के खिलाफ 1962 की जंग लड़ी थी। अदम्य साहस और वीरता के लिए चेवांग को 2 बार महावीर चक्र भी मिल चुका है। 1948 में चेवांग ने नुब्रा घाटी की लड़ाई लड़ी थी। 1971 में उन्होंने लद्दाख में पाकिस्तान की चौकियों पर कब्जा किया था।

कूटनीतिक तौर पर काफी अहम है पुल
भारत के लिए कूटनीतिक तौर पर ये ब्रिज काफी अहम है। ब्रिज एलएएसी से सिर्फ 40 किमी दूर है। ब्रिज 13 हजार फीट की ऊंचाई पर है। 1400 फीट लंबे इस ब्रिज को श्योक नदी पर बनाया गया है। इस ब्रिज के शुरू होने के बाद 14 घंटे की यात्रा सिर्फ 6 घंटे में पूरी होगी। साथ ही चीन सीमा तक पहुंचने में भी काफी कम वक्त लगेगा। भारत की चीन के साथ 1597 किमी सीमा लगती है।