Asianet News HindiAsianet News Hindi

फ्रांस के वायुसेना चीफ ने उड़ाया सुखोई तो IAF चीफ राफेल लेकर निकल पड़े, जानिए फिर क्या हुआ...

फ्रांसीसी एयर चीफ जनरल स्टीफन मिल ने कहा कि ऐसे अभ्यास से एक देश के सैनिकों को दूसरे से सहयोग और सीखने का मौका मिलता है। उन्होंने कहा कि हमने सीखा है कि इंटरऑपरेबिलिटी को कैसे आगे बढ़ाया जाए और हमारे पायलटों को एक-दूसरे की सर्वोत्तम प्रथाओं के बारे में बताया जाए।

Seventh edition of the Indo-French joint exercise Garuda VII in Jodhpur Rajasthan, DVG
Author
First Published Nov 8, 2022, 10:26 PM IST

Indo-French joint exercise Garuda VII: एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी ने भारतीय वायु सेना में 4.5 पीढ़ी के विमानों के चार या पांच स्क्वाड्रन होने की आवश्यकता पर जोर दिया। वायुसेना चीफ मंगलवार को राजस्थान के जोधपुर इंडियन एयरफोर्स स्टेशन पर आईएएफ और फ्रांसीसी वायुसेना के संयुक्त अभ्यास में पहुंचे थे। उनके साथ फ्रांसीसी समकक्ष जनरल स्टीफन मिल भी रहे। एयर चीफ ने कहा कि किसी भी युद्ध में वायुसेना का विशेष योगदान होता रहा है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि संघर्ष के परिणामों को तय करने में वायु शक्ति महत्वपूर्ण है। द्विपक्षीय अभ्यास का सातवां संस्करण गरुड़ VII, 26 अक्टूबर को शुरू हुआ और 12 नवंबर तक जारी रहेगा।

अभ्यास से कौशल और अनुभव को मिलता है सम्मान

वायुसेना चीफ ने कहा कि इस तरह के अभ्यास से कौशल और अनुभव को सम्मान मिलता है। ऐसे महत्वपूर्ण आयोजनों से कौशल में निखार आता है तो अनुभव भी प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक अभ्यास के साथ एक नया अनुभव मिलता है। इस बार अभ्यास में हमारे चार बेड़े भाग ले रहे हैं। एलसीएच तेजस और फ्रेंच मल्टी रोल टैंकर ट्रांसपोर्ट भारत-फ्रांस संयुक्त अभ्यास के इस सातवें संस्करण में पहली बार प्रतिभागी हैं।

दोनों देश एक दूसरे की प्रथाओं को सीख रहे

फ्रांसीसी एयर चीफ जनरल स्टीफन मिल ने कहा कि ऐसे अभ्यास से एक देश के सैनिकों को दूसरे से सहयोग और सीखने का मौका मिलता है। उन्होंने कहा कि हमने सीखा है कि इंटरऑपरेबिलिटी को कैसे आगे बढ़ाया जाए और हमारे पायलटों को एक-दूसरे की सर्वोत्तम प्रथाओं के बारे में बताया जाए।

दोनों प्रमुखों ने भरी उड़ान

अभ्यास में पहुंचे फ्रांसीसी वायु और अंतरिक्ष बल के चीफ ऑफ स्टाफ स्टीफन मिल ने सुखोई एसयू -30 विमान में उड़ान भरी। जबकि एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी, राफेल लड़ाकू जेट में थे। पहली बार सुखोई-30 में उड़ान भरने पर जनरल मिले ने कहा कि वे ए-330 मल्टी रोल टैंकर ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट का उपयोग करके एक घंटे की उड़ान के दौरान मध्य हवा में ईंधन भरने जैसे कुछ उच्च-स्तरीय मिशनों को पूरा कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:

बीजेपी पर लगे TRS विधायकों की खरीद के आरोपों की जांच करेगी पुलिस, तेलंगाना हाईकोर्ट ने दिया आदेश

कर्नाटक कोर्ट का बड़ा आदेश, Congress और Bharat Jodo Yatra का Twitter अकाउंट होगा ब्लॉग

फारसी शब्द 'हिंदू' का अर्थ 'अश्लील' होता है...कर्नाटक कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष के बिगड़े बोल

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios