Asianet News HindiAsianet News Hindi

Sydney Dialogue में मोदी: हम अतीत की चुनौतियों को अवसर में बदल रहे हैं; गलत हाथों में न पड़े क्रिप्टो करंसी

आज यानी 18 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Prime Minister Narendra Modi) ने ‘सिडनी संवाद’ को संबोधित किया। इसकी थीम भारत में ‘प्रौद्योगिकी विकास और क्रांति(Technology Development and Revolution in India)’ थी।

Sydney Dialogue, PM to express his views on the theme of Technology Development and Revolution in India KPA
Author
New Delhi, First Published Nov 18, 2021, 7:44 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Prime Minister Narendra Modi) ने आज यानी 18 नवंबर को ‘सिडनी संवाद’ में मुख्य भाषण दिया। प्रधानमंत्री ने भारत में ‘प्रौद्योगिकी विकास और क्रांति’ थीम पर अपने विचार व्‍यक्‍त किए। उनके संबोधन से पहले ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने आरंभिक भाषण दिया। सिडनी संवाद 17 से 19 नवंबर, 2021 तक आयोजित किया जा रहा है। यह ऑस्ट्रेलियन स्ट्रेटेजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट की एक पहल है। ‘सिडनी संवाद’ दरअसल राजनेताओं, उद्योग हस्तियों और सरकारी प्रमुखों को व्‍यापक चर्चाएं करने, नए विचार सृजित करने और उभरती एवं महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों से उत्पन्न अवसरों एवं चुनौतियों की सामान्य समझ विकसित करने की दिशा में काम करने के लिए एक मंच पर लाएगा। सिडनी संवाद में ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री श्री स्कॉट मॉरिसन और जापान के पूर्व प्रधानमंत्री श्री शिंजो आबे भी अपनी बात रखेंगे। 

क्रिप्टो पर भी बोले मोदी
सबसे पहले मोदी ने कहा कि भारत के लोगों के लिए बड़े सम्मान की बात है कि आपने मुझे सिडनी डायलॉग के संबोधन के लिए आमंत्रित किया।  मोदी ने कहा कि वे इसे हिंद-प्रशांत क्षेत्र और उभरती डिजिटल दुनिया में भारत की केंद्रीय भूमिका की मान्यता के रूप में देखते हैं। मोदी ने क्रिप्टो को लेकर चेतावनी भी दी। उन्होंने कहा, "सभी देशों को मिलकर ये तय करना होगा कि क्रिप्टो करंसी गलत हाथों में न पड़े, वरना ये हमारे युवाओं को तबाह कर देगी।" बता दें कि मोदी ने पहली बार किसी सार्वजनिक मंच से क्रिप्टो करंसी की बात कही है।

भविष्य में छलांग
मोदी ने कहा-हम अतीत की चुनौतियों को भविष्य में छलांग लगाने के अवसर में बदल रहे हैं। भारत में पांच महत्वपूर्ण परिवर्तन हो रहे हैं। एक लोकतंत्र और डिजिटल नेता के रूप में, भारत हमारी साझा समृद्धि और सुरक्षा के लिए भागीदारों के साथ काम करने के लिए तैयार है। भारत की डिजिटल क्रांति हमारे लोकतंत्र, जनसांख्यिकी और हमारी अर्थव्यवस्था के पैमाने में निहित है। यह हमारे युवाओं के उद्यम और नवाचार द्वारा संचालित है।

भारत के लिए सम्मान की बात
पीएम मोदी ने कहा-मैं इसे भारत-प्रशांत और उभरती डिजिटल दुनिया में भारत की केंद्रीय भूमिका की मान्यता के रूप में देखता हूं। यह हमारे दोनों देशों के बीच व्यापक रणनीतिक साझेदारी के लिए भी एक श्रद्धांजलि है। यह भारत के लोगों के लिए एक बड़े सम्मान की बात है कि आपने मुझे सिडनी डायलॉग के उद्घाटन में मुख्य भाषण देने के लिए आमंत्रित किया है।

हम परिवर्तन के समय में हैं, जो एक युग में एक बार होता है
मोदी ने कहा-हम परिवर्तन के समय में हैं जो एक युग में एक बार होता है। डिजिटल युग हमारे चारों ओर सब कुछ बदल रहा है। इसने राजनीति, अर्थव्यवस्था और समाज को फिर से परिभाषित किया है। यह संप्रभुता, शासन, नैतिकता, कानून, अधिकार और सुरक्षा के नए सवाल उठा रहा है। यह अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा, शक्ति और नेतृत्व को नया आकार दे रहा है। इसने प्रगति और समृद्धि के अवसरों के एक नए युग की शुरुआत की है- पीएम श्री टेक पहले से ही वैश्विक प्रतिस्पर्धा का एक प्रमुख साधन बन गया है और भविष्य की अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था को आकार देने की कुंजी है। टेक और डेटा नए हथियार बन रहे हैं। लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत है खुलापन।

भारत के पास दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इको-सिस्टम
मोदी ने कहा-भारत के पास दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा और सबसे तेजी से बढ़ने वाला स्टार्ट-अप इको-सिस्टम है। राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य और शिक्षा में समाधान प्रदान करते हुए, हर कुछ हफ्तों में नए यूनिकॉर्न आ रहे हैं। भारत के उद्योग और सेवा क्षेत्र, यहां तक ​​कि कृषि क्षेत्र भी बड़े पैमाने पर डिजिटल परिवर्तन के दौर से गुजर रहे हैं। हम स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण, संसाधनों के रूपांतरण और जैव विविधता के संरक्षण के लिए भी डिजिटल तकनीक का उपयोग कर रहे हैं। भारत को भविष्य के लिए तैयार करने के लिए एक बड़ा प्रयास किया जा रहा है। हम 5G और 6G- PM . जैसी दूरसंचार प्रौद्योगिकी में स्वदेशी क्षमताओं को विकसित करने में निवेश कर रहे हैं।हमने दुनिया का सबसे कुशल भुगतान इंफ्रा - UPI बनाया है। 80 करोड़ से ज्यादा भारतीय इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। स्मार्टफोन पर 750 मिलियन हैं। हम प्रति व्यक्ति डेटा के सबसे बड़े उपभोक्ताओं में से एक हैं और दुनिया में सबसे सस्ते डेटा भारत के वित्तीय समावेशन, बैंकिंग और डिजिटल भुगतान क्रांति के बारे में सभी ने सुना है। हाल ही में, हमने आरोग्य सेतु और कोविन का उपयोग करके भारत के विशाल भूभाग में टीकों की 1.1 बिलियन से अधिक खुराक देने के लिए तकनीक का उपयोग किया है।

एक राष्ट्रीय डिजिटल मिशन
PM ने कहा-हम अपने अरबों से अधिक लोगों के लिए किफ़ायती और सार्वभौमिक स्वास्थ्य देखभाल के लिए एक राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन भी बना रहे हैं। हमारा 'वन नेशन, वन कार्ड' देश में कहीं भी श्रमिकों को लाभ पहुंचाएगा। हम दुनिया की सबसे व्यापक सार्वजनिक सूचना अवसंरचना का निर्माण कर रहे हैं। 1.3 बिलियन से अधिक भारतीयों की एक विशिष्ट डिजिटल पहचान है। हम 6 लाख गांवों को ब्रॉडबैंड से जोड़ने की राह पर हैं। 

अंतरिक्ष कार्यक्रम पर बोले मोदी
हम क्वांटम कंप्यूटिंग( quantum computing) में विश्व स्तरीय क्षमताओं का निर्माण कर रहे हैं। हमारा अंतरिक्ष कार्यक्रम हमारी अर्थव्यवस्था और सुरक्षा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह अब निजी क्षेत्र के लिए नवाचार और निवेश के लिए खुला है। भारत पहले से ही दुनिया भर के कॉरपोरेट्स को साइबर सुरक्षा समाधान और सेवाएं प्रदान करने का एक प्रमुख केंद्र है। भारत को साइबर सुरक्षा का वैश्विक केंद्र बनाने के लिए हमने अपने उद्योग के साथ एक टास्क फोर्स का गठन किया है। आज तकनीक का सबसे बड़ा उत्पाद डेटा है। भारत में, हमने डेटा सुरक्षा, गोपनीयता और सुरक्षा का एक मजबूत ढांचा तैयार किया है। साथ ही हम डेटा का उपयोग लोगों के सशक्तिकरण के स्रोत के रूप में करते हैं। हमने अपने CoWin प्लेटफॉर्म को पूरी दुनिया को मुफ्त में पेश किया है और इसे ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर बनाया है। सार्वजनिक भलाई, समावेशी विकास और सामाजिक सशक्तिकरण के लिए प्रौद्योगिकी और नीति के उपयोग के साथ भारत का व्यापक अनुभव विकासशील दुनिया के लिए बहुत मददगार हो सकता है।

एक खबर यह भी: अगले माह 3 से 15 दिसंबर तक नई दिल्ली में द स्मार्टटेकइंडिया पहल के दूसरे संस्करण पर सम्मेलन 
इधर, केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार); पृथ्वी विज्ञान राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. जितेंद्र सिंह ने 17 नवंबर को कहा कि भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती नवाचार-आधारित अर्थव्यवस्थाओं में से एक के रूप में उभरा है। नई दिल्ली में अगले माह 3 से 15 दिसंबर, 2021 तक आयोजित होने वाले "द स्मार्ट टेक इंडिया इनिशिएटिव" के दूसरे संस्करण पर सम्मेलन को संबोधित करते हुए डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, स्टार्ट-अप इको-सिस्टम ने भारत में युवाओं के लिए आजीविका के अपार अवसर पैदा किए हैं और यह अब ग्रामीण क्षेत्रों में तेजी से अपनी पैठ बना रहे हैं।  उन्होंने कहा कि भारत विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विश्व के अग्रणी  देशों  में से एक के रूप में उभर रहा है और हाल ही में इसने वैश्विक नवाचार सूचकांक 2021 में 46वें स्थान पर आकर प्रमुख 50 अभिनव देशों की सूची में प्रवेश किया है ।

भारतीय स्टार्टअप के बारे में कहा
डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, महामारी के कारण आर्थिक संकट के बावजूद, भारतीय स्टार्टअप इको-सिस्टम में पहले से ही 35 नई  इकाइयां (यूनिकॉर्न्स) हैं, जो इस वर्ष के लिए अनुमानित संख्या को पार कर गए हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने हाल ही में एक आत्मनिर्भर भारत के निर्माण की दिशा में भारतीय स्टार्टअप को नवाचार और मूल्य निर्माण में सबसे आगे रखा है। उन्होंने कहा कि एक नए पुनरुत्थान वाले भारत के सपने  को साकार करने के लिए उद्योग और हितधारकों के साथ सहयोग को व्यवस्थित रूप से उपयोग में लाए जाने की आवश्यकता है।

स्टार्टअप के मामले में भारत तीसरे स्थान पर
डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा की भारतीय स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र दुनिया में अभी भी तीसरे स्थान पर बना हुआ है, जिसमें सहयोग दे रहे कई पक्ष इस उल्लेखनीय विकास को और बढ़ावा दे रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि भारत ने अपने व्यापार और नवाचार के माहौल में भी लगातार सुधार किया है और अब विश्व बैंक की नवीनतम वार्षिक रेटिंग के अनुसार, देश व्यवसाय करने में आसानी के मामले में 190 अर्थव्यवस्थाओं में 63वें स्थान पर है।

यह भी पढ़ें
IAF की ताकत बढ़ाएंगे लाइट कॉम्बैट हेलिकॉप्टर, आर्मी को UAV, नौसेना को वारफेयर सूट सौंपेंगे Modi
UP Election 2022: PM Modi झांसी-महोबा को देंगे 6350 करोड़ की projects का सौगात, Atal एकता पार्क का भी उद्धाटन
Presiding Officers Conference: मोदी ने कहा-सदन में ऐसी डिबेट हो, जिसमें कोई किसी पर राजनीतिक छींटाकशी न करे

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios