Asianet News HindiAsianet News Hindi

ट्वीटर का मनमानी रवैया: बांग्लादेश में हमलावरों का दे रहा साथ, सद्गुरु ने पूछा: यह कैसी निष्पक्षता?

सोशल मीडिया प्लेटफार्म भी बांग्लादेश में हिंदू अल्पसंख्यकों के साथ हो रहे अन्याय की अनदेखी कर रहा है। सबसे आश्चर्यजनक यह कि ट्वीटर ने भी इस्कॉन बांग्लादेश के ट्वीटर हैंडल को ही बंद कर दिया है। 

Twitter discriminating behaviour in Bangladesh against Hindus, Sadguru strongly condemned social media platform
Author
Coimbatore, First Published Oct 20, 2021, 6:10 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोयम्बटूर। बांग्लादेश (Bangladesh) में दुर्गा पूजा (Durga Puja) के दौरान हिंदू मंदिरों और पूजा पंडालों पर हमला व हिंसा के बाद इस्कॉन मंदिर (Iskcon Temple) के पुजारी की हत्या से अल्पसंख्यक हिंदू वहां खुद को असुरक्षित महसूस कर रहा है। सोशल मीडिया प्लेटफार्म भी बांग्लादेश में हिंदू अल्पसंख्यकों के साथ हो रहे अन्याय की अनदेखी कर रहा है। सबसे आश्चर्यजनक यह कि ट्वीटर ने भी इस्कॉन बांग्लादेश के ट्वीटर हैंडल को ही बंद कर दिया है। 

ट्वीटर के इस एकतरफा और मनमाने रवैया के खिलाफ आध्यात्मिक गुरु सद्गुरु ने आवाज उठाई है। 

 

बांग्लादेश के इस्कॉन मंदिर के हैंडल को बंद करने का विरोध

आध्यात्मक गुरु सद्गुरु ने ट्वीटर के अपराधियों के प्रति सॉफ‌्ट रवैया अपनाए जाने का विरोध करते हुए कहा कि ट्वीटर की यह कैसी निष्पक्षता और समता है कि अपराधियों की रक्षा की जाए और पीड़ितों को दंडित किया जाए। ट्वीटर के अत्याचारी भावना सामने आ रही है। 

ट्वीटर को बताना चाहिए क्यों बांग्लादेश इस्कॉन और यूनिटीकाउंसिल बंद

इस्कॉन कम्यूनिकेशन के युधिष्ठिर गोविंद दास ने भी ट्वीटर से सवाल किया है। उन्होंने साफ पूछा है कि ट्वीटर को बताना चाहिए कि ट्वीटर हैंडल इस्कॉन बांग्लादेश @IskconBDH और यूनिटीकाउंसिलबांग्लादेश @unitycouncilBD क्यों उपलब्ध नहीं है। 

 

चार लोगों की बांग्लादेश में हो चुकी है मौत

दुर्गा पूजा समारोह के दौरान कुछ हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ के बाद हिंसा में चार लोगों की मौत हो गई, जिसके बाद बांग्लादेश की प्रधान मंत्री शेख हसीना को गुरुवार को 22 जिलों में अर्धसैनिक बल तैनात करना पड़ा। सोशल मीडिया पर वीडियो में बड़ी भीड़ को दुर्गा पूजा प्रतिष्ठानों को तोड़ते हुए, पत्थर फेंकते हुए और हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ करते हुए दिखाया गया है। कुछ में भीड़ द्वारा तोड़ी गई देवी दुर्गा की मूर्तियों को दिखाया गया है।

कोमिला से शुरू हुई हिंसा चांदपुर, चटगांव, कॉक्स बाजार, बंदरबन, मौलवीबाजार, गाजीपुर, फेनी सहित कई जिलों में फैली और इस दौरान पुलिस व हमलावरों के बीच संघर्ष भी हुआ। इस दौरान हमलावरों के एक समूह ने रंगपुर जिले के पीरगंज गांव में हिंदुओं के करीब 29 घरों में आग लगा दी थी। इसके अलावा इस्कान मंदिर पर हमला कर पुजारी की हत्या कर दी गई। इस हिंसा में कई हिंदूओं के मारे जाने की सूचना है।

इसे भी पढ़ें- 

कांग्रेस ने पीएम मोदी को अंगूठाछाप वाला ट्वीट किया डीलिट, प्रदेश अध्यक्ष बोले-नौसिखिए सोशल मीडिया मैनेजर की वजह से खेद है

बाबुल सुप्रियो ने सांसदी से दिया इस्तीफा, बोले-बीजेपी छोड़ दिया तो पद कैसे रख सकता, सुवेंदु अधिकारी को भी ऐसा करने की दी सलाह

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios