Asianet News HindiAsianet News Hindi

ओडिशा में पटरी से उतरकर मालगाड़ी के 8 डिब्बे प्लेटफॉर्म और वेंटिंग हॉल पर गिरे, 3 की मौत, बढ़ सकती है संख्या

रेलवे अधिकारियों ने यह जानकारी दी।  ईस्ट कोस्ट रेलवे (ईसीओआर) के अधिकारियों ने कहा कि घटना सुबह करीब 6.45 बजे हुई जब कुछ लोग प्लेटफॉर्म पर यात्री ट्रेन का इंतजार कर रहे थे।

Two killed, some injured in goods train derailment in Odisha kpa
Author
First Published Nov 21, 2022, 10:55 AM IST

जाजपुर (Jajpur-Odisha). ओडिशा में जाजपुर जिले के कोरेई रेलवे स्टेशन पर सोमवार(20 नवंबर) को एक मालगाड़ी के पटरी से उतर जाने से 3 लोगों की मौत हो गई और 7 अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। रेलवे अधिकारियों ने यह जानकारी दी।  ईस्ट कोस्ट रेलवे (ईसीओआर) के अधिकारियों ने कहा कि घटना सुबह करीब 6.45 बजे हुई जब कुछ लोग प्लेटफॉर्म पर यात्री ट्रेन का इंतजार कर रहे थे।

pic.twitter.com/RbEdsBx5rk

8 डिब्बे प्लेटफार्म पर आकर गिरे
रेलवे अधिकारियों ने बताया कि डोंगापोसी से छत्रपुर जा रही मालगाड़ी पटरी से उतर गई और आठ डिब्बे प्लेटफॉर्म और वेंटिंग हॉल पर जा गिरे, जिससे कई लोग हताहत हुए। उन्होंने कहा कि मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है, क्योंकि कुछ लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं, उन्होंने कहा कि इस घटना में स्टेशन की इमारत क्षतिग्रस्त हो गई। मालगाड़ी के पटरी से उतरने का कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है। अधिकारियों ने कहा कि ट्रेन सेवाएं आंशिक रूप से प्रभावित हुई हैं क्योंकि दुर्घटना के कारण दोनों लाइनें अवरुद्ध हो गई हैं। ईसीओआर ने एक दुर्घटना राहत ट्रेन और एक मेडिकल टीम को घटनास्थल पर भेजा है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने ट्वीटर पर घटना में लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया है।

यह भी जानिए
स्टेशन के कर्मचारियों ने कहा कि डोंगापोसी से छत्रपुर जा रही खाली मालगाड़ी के लोको पायलट ने अचानक ब्रेक लगा दिया, जिससे आठ डिब्बे पटरी से उतर गए और प्लेटफॉर्म और वेटिंग हॉल में यात्रियों पर चढ़ गए। रेस्क्यू ऑपरेशन की मानिटरिंग कर रहे जाजपुर के अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट अक्षय कुमार मल्लिक ने कहा कि पटरी से उतरे कुछ वैगन फुटओवर ब्रिज पर चढ़ गए और वेटिंग हॉल और टिकट काउंटर पर गिर गए। उन्होंने कहा कि तीन मृतकों में दो महिलाएं हैं। इनमें एक मां-बेटी थी। जबकि उनके साथ ढाई साल का बच्चा चमत्कारिक ढंग से बच गया।

स्थानीय लोगों को मलबे को हटाने और उसके नीचे शवों और घायल व्यक्तियों की तलाश में बचाव दल का हाथ बंटाते देखा गया। एक अधिकारी ने कहा कि रेलवे के अलावा, ओडिशा डिजास्टर रैपिड एक्शन फोर्स (ओडीआरएएफ), अग्निशमन सेवाएं और स्थानीय लोग बचाव अभियान में लगे हुए हैं। इस बीच, रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने मृतकों के परिजनों के लिए 5 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों के लिए 1 लाख रुपये और मामूली रूप से घायल लोगों के लिए 25,000 रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है। उन्होंने कहा, "कोरई ट्रेन हादसे में लोगों की मौत से मुझे गहरा दुख हुआ है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने गहरा शोक व्यक्त किया और मृतकों के परिजनों के लिए 2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि और घायलों के मुफ्त इलाज की घोषणा की।

पटनायक ने राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री रामिला मलिक से घटनास्थल का दौरा करने और स्थिति का जायजा लेने को कहा है।  मुख्य जनसंपर्क अधिकारी बिस्वजीत साहू ने कहा कि ईसीओआर ने आठ ट्रेनों को रद्द कर दिया है, पांच को शॉर्ट टर्मिनेट किया है और 12 अन्य को डायवर्ट किया है। उन्होंने कहा कि एक दुर्घटना राहत ट्रेन और एक मेडिकल टीम को मौके पर भेजा गया है। भुवनेश्वर और पुरी सहित विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर सैकड़ों यात्री फंसे हुए हैं। उनमें से कुछ पहले ही अपने होटलों से चेक-आउट कर चुके थे और अपनी ट्रेनों में सवार होने की प्रतीक्षा कर रहे थे। ECoR ने आपातकालीन हेल्पलाइन नंबर 8455889905 (कोरई स्टेशन), 0674-2534027 (भुवनेश्वर) और 0674-2492245 (खुर्दा रोड) जारी किए हैं। ईसीओआर के महाप्रबंधक रूप नारायण सुनकर और अन्य वरिष्ठ अधिकारी राहत कार्य की निगरानी के लिए मौके पर पहुंच गए हैं। 

हाल में हुए कुछ हादसे
26अक्टूबर को झारखंड के धनबाद मंडल के कोडरमा और मानपुर रेलवे खंड के बीच गुरपा स्टेशन पर कोयले से लदी मालगाड़ी के 53 डिब्बे पटरी से उतर गए थे। हादसा सुबह 6:24 बजे हुआ था। दुर्घटना के बाद अप और डाउन लाइन पर रेल यातायात बाधित हो गया था। पूर्व मध्य रेलवे के मुताबिक घटना में कोई हताहत नहीं हुआ था, लेकिन कई ट्रेनों का रूट बदलना पड़ा था। बेपटरी हुई मालगाड़ी में कोयला लदा हुआ था, डिब्बों के बेपटरी होने से 50 से ज्यादा वैगन पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए थे। बताया जा रहा है कि हावड़ा नई दिल्ली ग्रैंडकार्ड रेलखंड के गुरपा स्टेशन के पास मालगाड़ी का इंजन ब्रेक फेल हो गया जाने के कारण यह हादसा हुआ था। 

24 अक्टूबर की रात यानी दिवाली के दिन राजधानी दिल्ली के बादली इलाके में भी एक हादसा हुआ था। इसमें ट्रेन की चपेट में  आने से 3 लोगों की जान चली गई थी। मरने वालों में मोहम्मद हाफिज, मोहम्मद और रियाजुल थे। तीनों की उम्र 19 से 21 के बीच थी। वे बादली इंडस्ट्रियल सेक्टर में मजदूरी करते थे। वे सिरासपुर गांव के राणा पार्क में रहते थे। दुर्घटना में बचे एक साथी मोहम्मद एहसान ने वे अपने घर लौट रहे थे, तभी रास्ते में रेलवे ट्रेक में अचानक अपोजिट साइड से ट्रेन आ गई थी।

यह भी पढ़ें
इस लड़की ने 3 दोस्तों के जरिये बर्बाद करा दी मॉडल की जिंदगी, कोच्चि में चलती जीप में गैंग रेप में बड़े खुलासे
Cancel Trains Today: 21 नवंबर को कैंसिल हुईं 121 ट्रेन, सफर से पहले यहां देखें पूरी लिस्ट

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios